नहीं रहे उर्दू, फारसी व हिन्दी के सशक्त हस्ताक्षर मुश्ताक अहमद

Jaipur News। उर्दू, फारसी और हिन्दी के विद्वान तथा आकाशवाणी जयपुर के पूर्व वरिष्ठ निदेशक मुश्ताक अहमद राकेश का मंगलवार को निधन हो गया। वह 93 वर्ष के थे। झुंझनूं जिले के मुकन्दगढ़ में आफरीदी पठान परिवार में जन्मे विद्वान मुश्ताक अहमद राकेश ने फारसी, उर्दू और हिन्दी में सृजन किया और सरमद शहीद: हयात …

नहीं रहे उर्दू, फारसी व हिन्दी के सशक्त हस्ताक्षर मुश्ताक अहमद Read More »

February 9, 2021 6:11 pm

Jaipur News। उर्दू, फारसी और हिन्दी के विद्वान तथा आकाशवाणी जयपुर के पूर्व वरिष्ठ निदेशक मुश्ताक अहमद राकेश का मंगलवार को निधन हो गया। वह 93 वर्ष के थे। झुंझनूं जिले के मुकन्दगढ़ में आफरीदी पठान परिवार में जन्मे विद्वान मुश्ताक अहमद राकेश ने फारसी, उर्दू और हिन्दी में सृजन किया और सरमद शहीद: हयात ओ रूबाइयात का फारसी, उर्दू, हिन्दी में तथा रूबाइयात-ए-उमर खय्याम का हिन्दी में अनुवाद किया, जिसका प्राकृत भारती अकादमी ने प्रकाशन किया। स्वर्गीय राकेश जो पिछले बीस वर्षों से प्राकृत भारती संस्थान से जुड़े हुए थे। वे मुख्यमंत्री हरिदेव जोशी के प्रेस सलाहकार और यू.एस.एड के परामर्शदाता भी रहे।

प्राकृत भारती ने उनकी कृतियां अखलाक-ए-मुहसिनी का फारसी, उर्दू और हिन्दी में अनुवाद कर प्रकाशन किया। इसके अलावा औरंगजेब, नैतिक कहानियां और भगवान महावीर पर उनकी पुस्तक भगवान महावीर का बुनियादी फिक्र उनकी प्रसिद्ध पुस्तकें हैं। वे स्नातकोत्तर, विधि स्नातक और साहित्यरत्न थे। उन्हें फारसी, उर्दू और हिन्दी का विद्वान माना जाता है। प्राकृत भारती अकादमी के संस्थापक और मुख्य संरक्षक डी. आर. मेहता ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मुश्ताक अहमद राकेश फारसी, उर्दू और हिन्दी के अद्भुत विद्वान थे। उन्होंने भाषाओं के अपने ज्ञान का उपयोग एक लेखक के रूप में किया।

मेहता ने बताया कि 1922 में उर्दू में जैमिनी मेहता द्वारा औरंगजेब पर उर्दू में लिखी पुस्तक का उन्होंने गहन अध्ययन और अनुसंधान किया और अपनी टिप्पणियों सहित उसका हिन्दी में अनुवाद किया। यह पुस्तक औरंगजेब के जीवन की सच्चाईयों को उजागर करती है और इस कारण यह पुस्तक बड़ी लोकप्रिय सिद्ध हुई। औरंगजेब पर उनकी पुस्तक का प्रकाशन प्राकृत भारती ने इसलिए किया क्योंकि औरंगजेब के बारे में यह प्रचलित था कि वह दूसरे धर्म के बारे में असहिष्णु थे। लेकिन राकेश ने ऐतिहासिक दस्तावेज से अपनी पुस्तक से यह सिद्ध किया कि औरंगजेब सभी धर्मों का सम्मान करते थे। राजस्थान साहित्य अकादमी ने उन्हें अमृत सम्मान से सम्मानित किया था।

Prev Post

देशभर में 26 को व्यापारियों की हडताल व चक्काजाम

Next Post

राजस्थान में शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी का एक और नवाचार, क्या पढ़े ख़बर

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी

Top News

गहलोत का कार्यकाल समाप्त, कुर्सी खतरे में
सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF
मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सुमन, रिजवाना बानो एवं दिनेश को मिली राहत
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट