मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व मुख्यमंत्री राजे ने लगवाई वैक्सीन की पहली डोज

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार सुबह करीब 11.30 बजे एसएमएस के इनफेक्शियस डिजीज अस्पताल (आईडीएच) पहुंचकर कोरोना वैक्सीन की प्रथम डोज़ लगवाई। सीएम गहलोत के साथ चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी वैक्सीन लगवाई। यहां दोनों ने कोविशील्ड का टीका लगाया। वैक्सीन लगवाने के बाद दोनों को करीब आधा घंटा ऑब्जर्वेशन में रखा गया। दोपहर बाद पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी अपने सांसद पुत्र दुष्यंतसिंह के साथ आईडीएच पहुंचकर कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज ली।

वैक्सीन लगवाने के बाद गहलोत ने पत्रकारों से बात की। उन्होंने कहा कि देश से अभी कोरोना गया नहीं है। आज मध्य प्रदेश, केरल, महाराष्ट्र, पंजाब सहित अन्य राज्यों में कोरोना के केस जिस तरह से सामने आ रहे है उसे देखते हुए हमे इस बीमारी को हलके में नहीं लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि चाहे वैक्सीन लगी हो या नहीं, कोरोना से बचने के लिए जो चिकित्सा विभाग की ओर से गाइड लाइन जारी की है उसकी अच्छे से पालना होनी चाहिए।

गहलोत ने कहा कि पूरे देश में अब तक हुए वैक्सीनेशन का 25 फीसदी हिस्सा अकेले राजस्थान का है। कोरोना का मैनेजमेंट शानदार रहने से राजस्थान में हमारे स्वास्थ्यकर्मियों का मनोबल बढ़ा हुआ है। राजस्थान में एक टीम बन गई है। पिछले साल मार्च में कारोना आया था, स्वास्थ्यकर्मियों और इसमें लगे कर्मचारियों का एक साल तक अपने आप को तैयार रखना तारीफ के काबिल है। इसके लिए मेडिकल टीम को बधाई दी है।

चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने वैक्सीन को पूरी तरह सेफ बताया, लेकिन उन्होंने कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन से ज्यादा मास्क को कारगर बताया। उन्होंने कहा कि वैक्सीन की दोनों डोज लगवाने के बाद भी कोरोना हो सकता है, लेकिन उस स्थिति में आदमी के मरने का रिस्क बेहद कम हो जाता है, लेकिन आज भी कोरोना से बचाने में मास्क सबसे अच्छा विकल्प है। उन्होंने बताया कि हमारे पास अभी कोरोना की मंगलवार तक की डोज है। जिस तरह देश में सबसे ज्यादा वैक्सीन राजस्थान में लगाई जा रही है, उसे देखते हुए हम केन्द्र सरकार से मांग करेंगे कि हमें जल्द से जल्द और ज्यादा से ज्यादा वैक्सीन की डोज उपलब्ध करवाई जाए।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राज्य में मुख्यमंत्री ने मिलकर कोरोना का बेहतर प्रबंधन किया है। अस्पतालों की स्थितियां सुधरी है और चिकित्सा क्षेत्र का ढांचा मजबूत हुआ है। उन्होंने कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है, इस कारण आमजन को सावधानी बरतना बेहद आवश्यक है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कोरोना वैक्सीन लगाने का कार्यक्रम पहले मुख्यमंत्री आवास पर दोपहर एक बजे प्रस्तावित था, लेकिन कार्यक्रम में बदलाव करते हुए मुख्यमंत्री गहलोत ने खुद ही सुबह 11.30 बजे आईडीएच जाकर कोरोना वैक्सीन लगवाई। इस मौके पर चिकित्सा सचिव सिद्धार्थ महाजन और जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा भी मौजूद रहे।

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी गुरुवार दोपहर आईडीएच अस्पताल पहुंच कर कोरोना वैक्सीन लगवाई। पूर्व मुख्यमंत्री राजे को कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज दी गई। उनके साथ सांसद पुत्र दुष्यंत सिंह भी मौजूद रहे। इससे पहले सुबह जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने भी कोरोना वैक्सीन लगवाई। जिला कलेक्टर ने बनीपार्क के सैटेलाइट अस्पताल जाकर कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज ली। जयपुर जिले के सभी एडीएम कोरोना वैक्सीन लगवा रहे हैं। मुख्यमंत्री गहलोत के बाद सरकार के कई मंत्री और विधायक भी कोरोना वैक्सीन लगवाएंगे। कुछ मंत्री सीएम गहलोत से पहले वैक्सीन लगवा चुके हैं।