मुख्यमंत्री गहलोत ने अब तक हुई राजनीतिक नियुक्तियों में अपनी चलाई, क्या आगे भी यही रहेगा ,पायलट की चलेगी ?

Jaipur /अशफाक कायमखानी।मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिये कहा जाता है कि राजनीति मे जब जब वो पावर मे आते है तब तब वो अपने चहते जिनको राजनीतिक नियुक्ति देना चाहते है उनको ऐनकेन देकर रहते है। इसलिये जो सामाजिक कार्यकर्ता व राजनीतिक लोग जो गहलोत से नजदीकी बन जाते है वो लम्बे समय तक नजदीकी …

मुख्यमंत्री गहलोत ने अब तक हुई राजनीतिक नियुक्तियों में अपनी चलाई, क्या आगे भी यही रहेगा ,पायलट की चलेगी ? Read More »

January 18, 2021 10:02 am

Jaipur /अशफाक कायमखानी।मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिये कहा जाता है कि राजनीति मे जब जब वो पावर मे आते है तब तब वो अपने चहते जिनको राजनीतिक नियुक्ति देना चाहते है उनको ऐनकेन देकर रहते है। इसलिये जो सामाजिक कार्यकर्ता व राजनीतिक लोग जो गहलोत से नजदीकी बन जाते है वो लम्बे समय तक नजदीकी बनकर रहते है। ताकि गहलोत का स्वर्ण युग आने पर गहहलोत द्वारा उन्हें समय समय पर लाभ का पद मिलने की सम्भावना बनी रहे। इसके अतिरिक्त लोकसभा व राज्यसभा एवं विधानसभा चुनाव की टिकट मे भी गहलोत अपने खास लोगो को हरदम याद रखते है। उसके बाद मंत्रिमंडल व अन्य राजनीतिक पदो मे जगह दिलवाने मे भी गहलोत अपने लोगो के लिये आखिर तक चालाकी व राजनीतिक सूझबूझ के साथ लड़ते रहते है।

 

राजनीतिक चतूरता व अपनो का एक मजबूत गठबंधन बनाकर राजनीति करने का ही परिणाम है कि राजस्थान भर के मतदाताओं पर मजबूत पकड़ नही होने के बावजूद केवल मात्र समय पर राजनीतिक गोटीया फीट करके परिणाम अपने पक्ष मे लाने की कला के बलबूते के कारण राजस्थान के तीसरी दफा मुख्यमंत्री गहलोट बनने मे कामयाब रहे है।

हालांकि राजस्थान मे अशोक गहलोत को आगे करके कभी भी कांग्रेस ने चुनाव नही लड़ा है। लेकिन पहले परशराम मदेरणा फिर सीपी जौशी व उसके बाद सचिन पायलट का नाम पर मतदाताओं की नजर मे लड़े चुनाव मे कांग्रेस का बहुमत आने पर उनके मुख्यमंत्री बनने की सम्भावना पर लड़ा गया जिस पर जनता ने मतदान करके कांग्रेस को बहुमत दिलाया पर जब मुख्यमंत्री बनने का अवसर आया तो गहलोत अपनी राजनीतिक चतूरता के बल पर आगे निकल गये एवं हाईकमान सेंटीग के कारण मुख्यमंत्री बन गये। गहलोत के मुख्यमंत्री रहते जब जब आम विधानसभा चुनाव हुये तब तब गहलोट को लेकर जनता ने कांग्रेस पर गुस्सा निकाला तो कभी 156 से 56 व 86 से 21 सीट पर लाकर पटका। 2023 के आम विधानसभा चुनावों के परिणाम भी उसी तरह के आने के अभी से कयास लगाये जा रहे है।

मुख्यमंत्री गहलोट के तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने के बाद पहले मंत्रीमंडल गठन मे अपने अधीकांश चहेतो को जगह दिलवाने के बाद उन्हें ढंग के विभागों का प्रभार दिलवाने मे गहलोत काफी हद तक कामयाब रहे। उसके बाद कोर्ट मे सरकार की तरफ से पैरवी करने के लिये महाअधिवक्ता व अतिरिक्त महाअधिवक्ताओ का मनोनयन मे गहलोत की एक तरफा चली, उसके बाद राजनीतिक तौर पर राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष पद पर जुलाई-19 मे अपने क्षेत्र की संगीता बेनीवाल का मनोनयन किया।

इसके बाद मंजू सैनी सहित एक अध्यक्ष व चार सदस्यों का राजस्थान लोकसेवा आयोग मे मनोनयन किया। फिर अपने निकटतम व बडे व्यापारी किशोर सिंह सैनी की पुत्रवधू शीतल सहित दो सुचना आयुक्त व एक मुख्य सूचना आयुक्त का मनोनयन किया। अब जल्द ही अन्य राजनीतिक नियुक्तियों का पिटारा खुलने वाला है जिनके मनोनयन मे भी मुख्यमंत्री गहलोत की चतूरता का एक तरफा परिणाम नजर आयेगा।

छ महिने पहले कांग्रेस विधायकों मे मुख्यमंत्री गहलोत की कार्यशैली को लेकर उठे विवाद के बाद तत्तकालीन उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित उनके दो खास समर्थक मंत्री विश्वेंद्र सिंह व रमेश मीणा को मंत्रीमंडल से बर्खास्त करने के बाद अब जाकर गहलोत मंत्रीमंडल का विस्तार व बदलाव होने जा रहा है। जिसमे कुछ गिनती के पायलट समर्थकों को जगह मिलेगी बाकी कांग्रेस व बसपा से कांग्रेस मे आये एवं कुछ कांग्रेस को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायकों के नाम पर मुख्यमंत्री गहलोत के खास समर्थक विधायकों को ही जगह मिलना तय मानी जा रहा है।

कुल मिलाकर यह है कि राजस्थान के आम मतदाताओं पर किसी तरह की खास पकड़ नही होने के बावजूद अशोक गहलोट दिल्ली मे मोजूद कांग्रेस हाईकमान की मेहरबानी व स्वयं की राजनीतिक चतूरता एवं समय पर ढंग से राजनीतिक गोटीया फीट करने की कला के माहिर होने की ताकत के बलबीर पर गहलोट राजस्थान के तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनकर अपना कार्यकाल पूरा करने की तरफ बढ रहे है।

गहलौत के पावर मे आने पर अपने आस पास यानि इर्द गिर्द रहने वाले लोगो को राजनीतिक नियुक्तिया दिलवाने मे आखिर तक लड़ने के कारण उनके चहेतो का एक बडा गठबंधन बन चुका है। जो समय समय पर उनके हित का माहोल बनाने की भरपूर कोशिश करने मे कौर कसर नही छोड़ते है।

Prev Post

राबर्ट वाड्रा संकट मे, ईडी ने हाईकोर्ट से मांगी गिरफ्तारी की इजाजत

Next Post

शिक्षा विभाग-NO MASK' तो ' दो शिक्षकAPO ,प्रिंसीपल को नोटिस

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

Chairman Ali Ahmed inspected the ongoing road construction work on Civil Line Road
Volunteers in Tonk took out path on Vijaya Dashami
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा

Top News

Chairman Ali Ahmed inspected the ongoing road construction work on Civil Line Road
Volunteers in Tonk took out path on Vijaya Dashami
गहलोत का कार्यकाल समाप्त, कुर्सी खतरे में
सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF