राजस्थान कांग्रेस प्रभारी रंधावा के सामने नेताओं ने किया बवाल, डोटासरा ने मानी गलती

जयपुर/ कांग्रेस के राजस्थान प्रभारी सुखजिंदर रंधावा के सामने कल जयपुर में आयोजित बैठक में कांग्रेस के नेताओं ने बवाल मचाया और अपनी ही सरकार को और मंत्रियों पर गंभीर आरोप लगाए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने दी बवाल मचाने वाले नेताओं का पक्ष लेते हुए अपनी गलती को माना है।

यही नहीं पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने भी बवाल मचाने वाले नेताओं का पक्ष लिया तो महिला कांग्रेस नेताओं ने भी हंगामा किया।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा अपनी सरकार के अंतिम बजट विधानसभा प्रस्तुत करने से पहले मांगे गए सुझावों को लेकर कल जयपुर में पार्टी के नेताओं पदाधिकारियों और मंत्रियों की बैठक बजट से पूर्व अपने सुझाव और फीडबैक के लिए बुलाया था इसमें विधानसभा चुनाव लड़कर हारने वाले प्रत्याशी भी शामिल थे ।

कांग्रेस वाॅर रूम में बुलाए गई इस फीडबैक बैठक मैं कांग्रेस प्रभारी सुखजिंद्र रंधावा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा भी मौजूद थे इस बैठक में 13 निर्दलीय विधायकों और 6 बसपा मूल के विधायकों वाली सीटों पर हारे हुए कांग्रेसी प्रत्याशियों ने आते ही उनकी अनदेखी का आरोप लगाते हुए ।

हंगामा और बवाल कर दिया जिन्हें बड़ी मुश्किल से बीच-बचाव कर समझाया गया बैठक में शाहपुरा जयपुर से कांग्रेस के हारे हुए प्रत्याशी मनीष यादव नंदबई से हिमांशु कटारा खंडेला से सुभाष मील बहरोड से आरसी यादव सहित कांग्रेश के हारे हुए प्रत्याशियों ने प्रभारी रंधावा और प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा को जमकर खरी खरी सुनाते हुए चुप रहने पर विवश कर दिया बोलने तक नहीं दिया हारे हुए सभी कांग्रेस प्रत्याशियों ने आरोप लगाया कि निर्दलीयों और बसपा के इन विधायकों ने खुली लूट मचा रखी है।

सीएमओ के नाम पर कर्मचारियों और अधिकारियों को धमकाया जाता है पार्टी के पदाधिकारी नेता मंत्री हमारी बात नहीं सुनते हम परेशान हैं उनका आरोप था कि हमें प्रत्याशी बनाया गया लेकिन संगठन और स्थानीय चुनाव के टिकटों में हमारी राय नहीं ली गई।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ न्याय होना चाहिए। हारे हुए कांग्रेस प्रत्याशियों द्वारा भोपाल में हंगामा लगातार करते रहने पर उनको बीच-बचाव कर समझाया प्रभारी रंधावा ने उन्हें आश्वासन दिया तब जाकर वह चुप हो गए।

यही नहीं कांग्रेस प्रभारी रंधावा ने जब महिला कांग्रेस की नेताओं से भी फीडबैक लिया तो महिला कांग्रेस के नेता भी जमकर बरस पड़ी और हंगामा कर दिया महिला नेताओं का आरोप था कि उनको तवज्जो नहीं दी जाती है और महिला कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को दोयम दर्जे का समझा जाता है।

इससे आने वाले चुनाव में नुकसान होगा महिला बड़ा वोट बैंक है अगर इसी तरह महिलाओं की उपेक्षा और नाइंसाफी उनके साथ होती रही तो पार्टी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा

प्रभारी रंधावा ने महिला नेताओं को आश्वासन देकर शांत किया।

हारे हुए कांग्रेस के प्रत्याशियों और महिला कांग्रेस नेताओं के शांत होने के बाद कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कांग्रेस राजस्थान प्रभारी सुखजिंद्र रंधावा के सामने ही हारे हुए कांग्रेस के प्रत्याशियों का पक्ष लिया डोटासरा ने प्रभारी रंधावा के सामने ही ताकि हम इनके साथ न्याय नहीं कर पाए उन्हें संगठन में पद नहीं मिले और तवज्जो भी नहीं मिली है ।

लेकिन अब ध्यान रखा जाएगा 19 विधानसभा से कैसे हैं जिसमें हम हमारे हारे प्रत्याशियों के साथ हम कुछ नहीं कर पाए पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने भी 19 विधानसभा क्षेत्रों में हारे हुए कांग्रेस के प्रत्याशियों का पक्ष लेते हुए उनकी शिकायतों को दूर करने की बात और भाई के सामने कहीं।