आईपीएस पंकज चौधरी पुलिस सेवा से बर्खास्त, गाजी फकीर की खोली थी हिस्ट्रीशीट

  जयपुर केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भारतीय पुलिस सेवा और राजस्थान कैडर के आईपीएस पंकज चौधरी को बुधवार को सेवा से बर्खास्त कर दिया है। चौधरी के बर्खास्तगी के आदेश भी आठ पेज के बताए जा रहे हैं जो बजाज नगर पुलिस ने तामील नोटिस पंकज के जयपुर में गांधी नगर स्थित सरकारी आवास के …

आईपीएस पंकज चौधरी पुलिस सेवा से बर्खास्त, गाजी फकीर की खोली थी हिस्ट्रीशीट Read More »

March 7, 2019 8:24 am

 

जयपुर
केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने भारतीय पुलिस सेवा और राजस्थान कैडर के आईपीएस पंकज चौधरी को बुधवार को सेवा से बर्खास्त कर दिया है। चौधरी के बर्खास्तगी के आदेश भी आठ पेज के बताए जा रहे हैं जो बजाज नगर पुलिस ने तामील नोटिस पंकज के जयपुर में गांधी नगर स्थित सरकारी आवास के गेट पर चस्पा किया है। खुद को बेकाक और ईमानदार अफसर कहने वाले चौधरी बाड़मेर पुलिस अधीक्षक रहते गाजी फकीर की हिस्ट्रीशीट खोलने पर सुर्खियों में आए थे। इसके बाद उन्हें बूंदी जिले का जिम्मा सौंपा तो नैनवां में हुए साम्प्रदायिक दंगों में लापरवाही के चलते फिर चर्चा में आ गए। चौधरी ने अपने अफसरों के साथ ही सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से लेकर अन्य माध्यमों से मोर्चा खोला था।
 गौरतलब है कि गाजी फकीर की हिस्ट्रीशीट खोलने और नैनवां काण्ड के बाद उन्हें कई बार चार्जशीट मिली थी। मामला प्रधानमंत्री से लेकर राष्टï्रपति  तक पहुंचा था। प्रकरणों की पड़ताल चल ही रही थी कि चौधरी ने अपने ही अधिकारियों और सरकार के खिलाफ बयानबाजी शुरू कर सोशल मीडिया पर जमकर सुर्खियां बटोरी। सूत्र बताते है कि भाजपा सरकार ने इसे गंभीर मसला मानते हुए  26 अप्रेल ,2016 को मिली अनुशासनात्मक कार्रवाई की चार्जशीट को 14 जुलाई,2017 को प्रामाणित माना।
जानकारी के मुताबिक 1 मार्च,2019 को कार्मिक विभाग राजस्थान सरकार ने डीजीपी राजस्थान को पत्र लिखा था। यह पत्र केंद्रीय गृह मंत्रालय नई दिल्ली के आदेश संख्या 26011/61/2016 आईपीएस सैकंड दिनांक 19 फरवरी,2019 के संदर्भ में लिखा था। पत्र में कार्मिक विभाग ने डीजीपी से आईपीएस पंकज  के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के संदर्भ में लिखते हुए चौधरी को नोटिस तामील करवाकर इसकी मूल रसीद वापस कार्मिक विभाग को भिजवाने की बात लिखी थी। आदेशों की पालना में बजाज नगर थाना पुलिस बुधवार को चौधरी के घर पहुंची। मकान का ताला बन्द होने पर नोटिस को गेट पर चस्पा किया गया। माना जा रहा है कि कार्मिक विभाग किसी भी समय सर्विस समाप्ति के आदेश जारी कर सकता है।
आईपीएस चौधरी एक बार फिर उस वक्त सुर्खियों में आए जब उनकी पत्नी मुकुल चौधरी ने कांग्रेस की सदस्यता लेकर झालरापाटन से पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के खिलाफ चुनाव लडऩे का ऐलान किया, हालांकि उन्होंने चुनाव नहीं लड़ा। दूसरी ओर चौधरी का तबादला कर झालावाड़ स्थित ट्रेनिंग सेंटर की जिम्मेदारी सरकार ने सौंपी। मगर उन्होंने इस पर गहरी नाराजगी जाहिर की थी। सोशल मीडिया पर हमेशा ही अपनी टिप्पणियों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले आईपीएस इन दिनों सामाजिक कार्यक्रमों में भी खासे सक्रिय नजर आए। चौधरी ने डीजीपी से लेकर पुलिस के कई बड़े अफसरों के खिलाफ सोशल मीडिया पर मोर्चा खोला जिसमें कई आपत्तिजनक शब्दों का भी इस्तेमाल किया गया था।
आईपीएस की पत्नी मुकुल को मानवेन्द्र सिंह की समझाइश के बाद पीछे हटना पड़ा। बाद में उन्होंने कांगे्रस का प्रचार किया था। झालावाड़ में पीटीएस में हुए तबादले को लेकर भी उन्होंने कोर्ट में चुनौती दी थी। अधिकारी और सरकारों के खिलाफ खुलकर विरोध करने वाले चौधरी की दबंग और ईमानदार अफसरों में गिनती होती थी,मगर वे अपनी बेकाकी के चलते आंखों की किरकिरी बने जिसे सरकार ने अनुशासनहीनता के श्रेणी में रखा। नौकरी की पहले पोस्टिंग में ही विवाद में आए पंकज ने जिस गाजी फकीर की हिस्ट्रीशीट खोली उनके बेटे साले मोहम्मद मौजूदा सरकार में मंत्री है। उन्हें बर्खास्तगी का पता चलते ही वे सामने नहीं आए हैं। सूत्र बताते हैं कि केन्द्रीय गृह मंत्रालय के आदेशों को चुनौती देने के लिए कैग और सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की बात उनकी पत्नी ने की है।
जानकारी के अनुसार आईपीएस ने पहली पत्नी से तलाक लिए बिना ही पूर्व मंत्री शशि दत्ता की बेटी से विवाह कर लिया था। इसी बात को लेकर उनकी पत्नी मुकुल चौधरी ने महकमे और सरकार से लेकर मीडिया के आगे न्याय की गुजार लगाई थी। उनकी बर्खास्तगी के पीछे सबसे बड़ा कारण इसी को माना है। पंकज का आईएएस में चयन हुआ था मगर वे खुद को समाज सेवक बताते हुए आईपीएस सेवा में आए और आते ही आरोपों में घिरकर कैरियर दांव पर लगा बैठे। मंत्रालय ने उनके खिलाफ रूल्स 7 (2) ऑफ दी आईएएस (डी एण्ड ए) रूल्स, 1969 में प्रदत्त शक्तियों का उपयोग किया है।

Prev Post

सरकार ने दिया बडा तोहफा, 12 रुपए रोजाना बढ़ाई न्यूनतम मजदूरी

Next Post

सर्जिकल और एयर स्ट्राइक को भुनाएगी भाजपा

Related Post

Latest News

राजस्थान का अगला पायलट होंगे डाॅ जोशी ? सचिन नहीं, आलाकमान झुकेगा या 70 साल पहले का इतिहास दोहराया जा सकता, पढ़े खबर
टोंक के पचेवर ग्राम विकास अधिकरी 15 हज़ार रुपए लेते ट्रेप,पीएम आवास योजना की दूसरी किश्त जारी करने की एवज में मांग रहा था 20 हज़ार की घुस,
राजस्थान कांग्रेस में घमासान-अब गहलोत पर सकंट, ऑब्जर्वर लौटे, गहलोत व सचिन तलब,आलाकमान गहलोत से नाराज

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

गहलोत सरकार के मंत्री शांति धारीवाल का बड़ा आरोप, गहलोत को हटाने का षड्यंत्र रच रहे थे माकन, सबूत पेश कर दूंगा
ACB का धमाका - PHED का चीफ इंजीनियर और दलाल 10 लाख रिश्वत लेते गिरफ्तार
जी 6 के विधायकों का गहलोत कैंप पर तीखा हमला, कहा- 'आलाकमान को आंख दिखाने वालों पर हो कार्रवाई'
मंत्री धारीवाल ने माकन के वक्तव्य पर किया पलटवार, माकन और आलाकमान को किया कटघरे में खड़ा
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए आ सकता है नया नाम, कौन, जानें पढ़े ख़बर 
राजस्थान का अगला पायलट होंगे डाॅ जोशी ? सचिन नहीं, आलाकमान झुकेगा या 70 साल पहले का इतिहास दोहराया जा सकता, पढ़े खबर
टोंक के पचेवर ग्राम विकास अधिकरी 15 हज़ार रुपए लेते ट्रेप,पीएम आवास योजना की दूसरी किश्त जारी करने की एवज में मांग रहा था 20 हज़ार की घुस,
राजस्थान कांग्रेस में घमासान-अब गहलोत पर सकंट, ऑब्जर्वर लौटे, गहलोत व सचिन तलब,आलाकमान गहलोत से नाराज
राजस्थान के सियासी घटनाक्रम से नाराज कांग्रेस आलाकमान ने प्रभारी अजय माकन से मांगी रिपोर्ट
टोंक में सड़क हादसे में 4 की मौत, कोटा एलन कोचिंग के छात्र हरिद्वार घूमने निकले थे, बाड़ा तिराहे पर हुआ हादसा