राजस्थान में आंधी-तूफान ने मचाई भयंकर तबाही,कहीं लगी आग, तो कहीं उजड़े घर

जयपुर। राजस्थान के कई हिस्सों में सोमवार देर रात के बाद आये आधी के बवंडर के बाद जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया। कई जगहों पर लोगों के अस्थाई कच्चे छप्पर उड़ गए। करीब 11:15 बजे 100 किमी प्रति घंटा की गति से आये अंधड़ से कई जगहों पर पेड़ पौधों भी धराशाही होने की सूचना है। वही कई जगहों पर रात में ही तो कुछ जगह अलसुबह से बारिश शुरू हो गई। राजधानी जयपुर में भी देर रात अचानक से मौसम पलट गया। कई जगहों पर तेज़ अंधड़ का दौर चला। कई जगहों से नुक्सान होने की भी खबरें मिलने लगीं हैं। इसके बाद रात से ही कुछ जगहों पर बूंदाबांदी होने लगी। हालांकि आज सुबह होते-होते मौसम कुछ साफ़ हुआ। वहीं, दिन में तूफान को लेकर चले तबाही के वायरल सोशल मीडिया मैसेज के बाद आधी रात में आये बवंडर ने एकबारगी लोगों की सांसें थमा दी। जोधपुर के क्षेत्र के बेलवा, गोपालसर, जियाबेरी, बस्तवा, जिनजिनयाला, उटा बर,
घुडियाला, रावलगढ़, नि बो का गांव में तूफानी बारिश हुई है।

जोधपुर पश्चिमी विक्षोभ के असर से सूर्यनगरी सहित जोधपुर के ग्रामीण इलाकों में देर रात मौसम पलटा। रात 12:00 बजे धूल भरी तेज हवा के बाद अलसुबह गर्जना के साथ बौछारें पड़ी। तेज बरसात से लोगों की नींद खुल गई। बारिश से सड़कों पर पानी इक_ा हो गया। बादल-बारिश के साथ तेज हवा चलने से गर्मी एकदम गायब हो गई मौसम विभाग के अनुसार अगले एक-दो दिन इस तरह का मौसम बने रहने का पूर्वानुमान है।

जोधपुर शहर सहित ग्रामीण इलाकों में आधी रात को धूल भरी तेज हवा चलने लगी करीब 30 किलोमीटर प्रति घंटे की र तार से चली हवा की वजह से चारों तरफ भूल हो गई घर और इमारतें धूल से सन गए रात भर रह-रहकर तेज हवा चलती रही कल सुबह 5:30 बजे अधिकांश हिस्सों में बादलों की घनी आवाजाही के साथ बरसात शुरू हो गई करीब आधे घंटे तक बादलों की गडग़ड़ाहट के साथ बौछारें गिरी नागौर अल सुबह से नागौर जिले में रिमझिम बारिश का दौर शुरू, लाडनूं, नागौर, दधवाडा, डेह, बुडसू समेत अन्य स्थानों पर में हो रही बारिश। बारिश के चलते मौसम में ठंडक का अहसास। इससे पूर्व रात भर शहर में छाया रहा धूल का गुब्बार। रात को अंधड़ ने रोकी वाहनों की रफ्तार। नागौर जिला मु यालय समेत जिले के ग्रामीण अंचल में रात दस बजे धूल भरी आंधी से मौसम का मिजाज बदल गया। दिन भर की गर्मी व उमस के बीच रात करीब साढ़े नौ बजे आई हल्की आंधी से मौसम की रंगत भी बदली और फिजां में हल्की हवाओं ने लोगों को गर्मी से राहत दी। देर रात तक चले आंधी के दौर ने वाहनों की र तार कम कर दी। मौसम विज्ञान और प्रशासन की चेतावनी के चलते लोग सतर्क नजर आए। वाहन चालकों ने कुछ देर के लिए वाहनों को रोककर आंधी का वैग कम होने पर ही आगे का सफर तय किया। गांवों में भी अंधड़ का असर देखने को मिला। देर रात हल्की बारिश के बाद लोगों ने राहत की सांस ली। बाड़मेर बीते 3 दिन से अंधड़ और तेज आंधी की आशंकाओं और चेतावनी के बाद बाड़मेर में अलमस्त सवेरे में आंधी ने शहर में दस्तक दे दी।तमाम तरह की चेतावनियों से परे शहर में हल्की आंधी ने शहर में 5 बजकर 40 मिनट के आसपास शहर में प्रवेश किया। काली पीली आंधी की चेतावनी मौसम विभाग ने दी थी लेकिन बाड़मेर में हल्की आंधी ने दस्तक दी।

हालांकि इस आंधी में विजिबिलिटी 10 मीटर तक ही रही लेकिन तेज अंधड़ जैसे हालात नजर नही आये। भीलवाड़ा शहर एवं जिले में कई इस समय आज सुबह से आसमान पर धूल भरी आंधी चढ़ी हुई है। आकोला गांव में मंगलवार को सुबह मौसम के मिजाज बिगड़े तथा धूल भरी हवाएं चलने लगी।