सूबे की सियासत में दोहराया जा रहा इतिहास

  जयपुर सूबे की सियासत में इतिहास को दोहराने वाली कहावत सही साबित हो रही है। बहुमत की दहलीत पर पहुंचने के बाद कांगे्रस में सीएम पद के लिए मची खींचतान प्रदेश के लोगों को 10 साल पुरानी बातें याद दिलवा रही है। 2008 में भी कांग्रेस की यहीं स्थिति थी और उस समय भी …

सूबे की सियासत में दोहराया जा रहा इतिहास Read More »

December 13, 2018 3:42 pm

 

जयपुर
सूबे की सियासत में इतिहास को दोहराने वाली कहावत सही साबित हो रही है। बहुमत की दहलीत पर पहुंचने के बाद कांगे्रस में सीएम पद के लिए मची खींचतान प्रदेश के लोगों को 10 साल पुरानी बातें याद दिलवा रही है। 2008 में भी कांग्रेस की यहीं स्थिति थी और उस समय भी तीन दिनों तक मुख्यमंत्री पद को लेकर कोई निर्णय नहीं हो पाया था। हालात यह है कि चुनावी नतीजे आने के बाद घटे घटनाक्रम की अनेक घटनाए तो 2008 में पहले ही घट चुकी है और 10 साल बाद एक बार फिर जनता के सामने आ रही है।
यह है प्रमुख समानताएं
– वर्ष 2008 में भी कांग्रेस को 96 सीटों पर ही संतोष करना पडा था वहीं इस बार 99 सीटें मिली है।
– वर्ष 2008 में भी बसपा को प्रदेश में 6 सीटे मिली थी और इस बार भी इतनी ही सीटें आई है। उस समय भी कांग्रेस ने सभी बसपा विधायकों का समर्थन हासिल कर लिया था और इस बार भी बसपा ने कांग्रेस को समर्थन देने की घोषणा कर दी है।
– वर्ष 2008 में भी कांग्रेस की राजनीति के दो धडे थे। उसमें एक अशोक गहलोत और दूसरे सी.पी जोशी का धडा था। उस समय सीपी जोशी प्रदेशाध्यक्ष थे वहीं इस बार सचिन पायलट प्रदेशाध्यक्ष हैं और सीएम पद की दावेदारी जता रहें हैं।
– वर्ष 2008 में पर्यवेक्षक के रूप में दिग्विजय सिंह ने आकर मोर्चा संभाला था और निर्णय सोनिया गांधी ने किया था। इस बार पर्यवेक्षक के.सी. वेणुगोपाल हैं और निर्णय राहुल गांधी के हाथ में हैं।
– वर्ष 2008 में भी कांग्रेस भाजपा की सत्ता विरोधी लहर के भरोसे चुनाव जीती थी, इस बार भी सत्ता विरोधी लहर से ही जीत की स्थिति में पहुंची है।
– वर्ष 2008 में भाजपा से डा. किरोडीलाल मीणा अलग हुए थे और मीणा समाज ने भाजपा से नाराजगी जताई थी। इस बार घनश्याम तिवाडी और मानवेन्द्र सिंह भाजपा से अलग हुए और राजपूत समाज व व्यापारी वर्ग ने नाराजगी जताई।
– वर्ष 2008 में भी मतदान प्रतिशत पिछले विधानसभा चुनाव के मुकाबले एक प्रतिशत कम रहा था वहीं इस बार भी कमोबेश यहीं स्थिति हैं।
– वर्ष 2008 में कांग्रेस विधायकों की बैठक के दौरान महिपाल मदेरणा बैठक छोडकर चले गए थे वहीं इस बार यह काम विश्वेन्द्र सिंह ने किया है।

Prev Post

गहलोत की वजह से हारे जाट नेता डूडी, बेनीवाल ने लगाया आरोप

Next Post

प्रदेश की राजनीति के धुरंधरों की जमानत जब्त

Related Post

Latest News

बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक
Tonk: आवारा श्वान ने 7 लोगों को काटा, अस्पताल गए तो वहां भी नही हुई सार संभाल ,VIDEO 
IAS अतहर और डाॅ. महरीन आज बंधे शादी के बंधन में ,VIDEO

Trending News

कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान

Top News

बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक
Tonk: आवारा श्वान ने 7 लोगों को काटा, अस्पताल गए तो वहां भी नही हुई सार संभाल ,VIDEO 
IAS अतहर और डाॅ. महरीन आज बंधे शादी के बंधन में ,VIDEO
राजस्थान के सरकारी स्कूलों में मूल निवास प्रमाण पत्र बनवाने की जिम्मेदारी संस्था प्रधान की
पूर्व मंत्री और NCP नेता भुजबल का दुबई कनेक्शन का आरोप, FIR दर्ज
नामदेव छीपा समाज के त्रिदिवसीय गरबा महोत्सव झंकार का समापन, महिला मण्डल की कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण
माफी तो मांगी,लेकिन वायरल पन्ना बता रहा है कि सचिन पायलट और प्रभारी अजय माकन निशाने पर थे
PFI का सपोर्ट करने पर पाक सरकार का ट्विटर अकाउंट पर प्रतिबंध
कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के बाद अब सलमान खान के डुप्लीकेट संजय की जिम में एक्सरसाइज के दौरान मौत
कोतवाली पुलिस कहिन रिपोर्ट दर्ज होने के बाद बता दिया जाएगा, बुजुर्ग महिला से लूट का प्रयास विफल ,लोगों ने युवक को पकड़ा ,VIDEO