गुरुवार से चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए पंचायत स्तर तक लगेंगे शिविर

Mukhya Mantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana

Jaipur। राजस्थान (Rajasthan) में यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज (Universal health coverage) के लिए मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना (Mukhya Mantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana) में रजिस्ट्रेशन एक अप्रैल से शुरू होंगे। योजना में पांच लाख रुपए तक का हेल्थ बीमा होगा, जिसमें सरकारी और निजी अस्पतालों (Government and private hospitals) में भर्ती होने पर कैशलेस इलाज की सुविधा मिलेगी। एक से लेकर 30 अप्रैल तक इसके लिए रजिस्ट्रेशन होंगे। योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए पंचायत स्तर पर शिविर लगाए जाएंगे। ये शिविर एक से 10 अप्रैल तक लगेंगे। योजना का लाभ एक मई से मिलना शुरू होगा।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) ने इस साल के बजट में यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज लागू करने की घोषणा की थी। राजस्थान में पहले से केंद्र की आयुष्मान भारत योजना को मिलाकर खुद की स्वास्थ्य बीमा योजना चला रखी है, यह उसी योजना का एक मॉडिफाइड रूप होगा। राजस्थान सरकार का दावा है कि इस योजना में अधिकांश पैसा राज्य सरकार का लगेगा।

योजना में लघु और सीमांत किसान, संविदा कर्मचारी, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना और सामाजिक-आर्थिक जनगणना के पात्र परिवार लाभार्थी हैं। इन सभी का प्रीमियम राजस्थान सरकार भरेगी। इन श्रेणियों के अलावा अगर कोई गैर लाभार्थी स्वास्थ्य बीमा का लाभ लेना चाहता है तो सालाना 850 रुपए का प्रीमियम भरकर इसका लाभ ले सकेंगे।

पांच लाख तक का हेल्थ बीमा लेने के लिए आपके पास जन आधार कार्ड होना जरूरी है। जन आधार नंबर के बिना योजना के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं होंगे। जिनके पास जन आधार कार्ड नहीं हैं, उन्हें पहले इसके लिए आवेदन कर रसीद लेनी होगी। जन आधार रजिस्ट्रेशन की रसीद दिखाकर रजिस्ट्रेशन करवा सकेंगे।

लघु और सीमांत किसान, संविदा कर्मचारियों के अलावा जो व्यक्ति इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं उन्हें स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। पहले से चल रही स्वास्थ्य बीमा योजना के लाभार्थियों को रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं है, उनमें खाद्य सुरक्षा योजना और सामाजिक-आर्थिक जनगणना के पात्र करीब एक करोड़ परिवार हैं।

News Topic : Universal health coverage,Mukhya Mantri Chiranjeevi Swasthya Bima Yojana ,Government and private hospitals,Chief Minister Ashok Gehlot