पहले दिये गये कनेक्शन रीफिल नहीं, अब नयों की तैयारी – गहलोत

April 19, 2018 4:46 pm

जयपुर, । पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव अशोक गहलोत ने कहा है कि उज्ज्वला योजना के तहत अब तक जारी किये गये 3.59 करोड़ एल.पी.जी. कनेक्शनों में से 70 प्रतिशत कनेक्शन आज निष्क्रिय पडे़ हैं। योजना के अन्तर्गत जिन बीपीएल उपभोक्ताओं को पूर्व में कनेक्शन जारी किये गये उनकी आर्थिक स्थिति इतनी दयनीय है कि वो महंगी दरों के एल.पी.जी. सिलेण्डर्स को रीफिल नहीं करवा पा रहे हैं। इस व्यावहारिक पहलू की अनदेखी कर मोदी सरकार कल 20 अप्रेल को 15 हजार पंचायतों में 100-100 नये कनेक्शन जारी करने का ढोल पीट रही है। यह सब आगामी चुनावों में लाभ के उद्देश्य से किया जा रहा है।
गहलोत ने कहा कि इस योजना का बजट 8 हजार करोड़ रुपये था जिसे बढ़ाकर 12,800 करोड़ किया गया है। योजना के तहत गैस चूल्हा और सिलेण्डर के लिए ऑयल मैन्यूफैक्चरिंग कम्पनियों के माध्यम 5750 करोड़ रुपये कर्ज के रूप में उपभोक्ताओं के नाम किये गये थे, जिसकी वसूली गैस सिलेण्डर पर सब्सिडी के रूप में दी जाने वाली राशि से की जानी थी। लेकिन कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण उपभोक्ता जब सिलेण्डर रीफिल ही नहीं करवा पाया तो कर्ज राशि भी अटक गयी।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑयल मेन्यूफैक्चरिंग कम्पनियों ने अब ऋण राशि की वसूली को 6 और सिलेण्डर्स का उपभोग किये जाने तक बढ़ाने का फैसला किया है। यह फैसला एक अप्रेल से प्रभावी भी कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जब उपभोक्ता अपने सिलेण्डर रीफिल नहीं करवा पाये तो अब इस नये फैसले से लाभ होने की उम्मीद कैसे की जा सकती है।
गहलोत ने कहा कि अगले माह कर्नाटक और तत्पश्चात् साल के अंत में राजस्थान, मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ में होने जा रहे चुनावों में अपनी जमीन खिसकती देख उपभोक्ताओं को लुभाने के लिये मोदी सरकार इस योजना के व्यवहारिक पक्ष की अनदेखी करते हुए थोथा ढ़ोल पीट रही है। उदाहरण के बतौर राजस्थान को ही लें तो यहां बीपीएल एलपीजी कनेक्शन के लिये महिलाओं की संख्या लगभग 60 लाख है, जिसमें से इस योजना के तहत आधे कनेक्शन अभी तक जारी नहीं हो पाये हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार ने इस योजना के प्रति गंभीरता नहीं दिखाई क्योंकि उसकी नीयत साफ नहीं थी। अन्यथा बीपीएल परिवारों को लाभ पहुंचाने के लिए इसके व्यवहारिक पहलुओं को नजरअंदाज नहीं किया जाता। गैस सिलेण्डर के दाम जो वर्ष 2014 में 414 रुपये थे, वो आज अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में तेल व गैस के दामों में भारी कमी के बावजूद सब्सिडी के बाद 491.10 रूपये पहुंच गये हैं। इसके परिणामस्वरूप महंगाई ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। ऐसे में बीपीएल परिवार से इतने महंगे सिलेण्डर खरीदने की अपेक्षा कैसे की जा सकती है?

Prev Post

जयपुर मैं लकड़ी के गोदाम में भीषण आग,  लोगों ने भागकर बचाई जान - डेढ़ दर्जन दमकलों ने लगाए डेढ़ दर्जन  से अधिक फेरे, तब जाकर आग पर पाया काबू अग्निशमन कर्मचारियों ने मकान में फंसे आधा दर्जन लोगों को रेस्क्यू कर बाहर निकाला

Next Post

फतेहपुर (सीकर) से आगामी विधान सभा चुनाव मे कांग्रेस टिकट पाने का सफर नेताओ का बडा दिलचस्प हो सकता है।

Related Post

Latest News

काँग्रेस पार्टी महासचिवों के साथ दिल्ली में सोनिया गांधी का मंथन, कई अहम मुद्दों पर चल रही चर्चा
गहलोत कैबिनेट की बैठक आज, कई मुद्दों पर होगा बैठक में मंथन

Trending News

उदयपुर- जयपुर -उदयपुर परीक्षा स्पेशल ट्रेन सभी अनारक्षित कोच
भाजपा नेता हत्या प्रकरण - अब मंत्री जोशी के बाद सीएम गहलोत के करीबी कांग्रेस विधायक के खिलाफ FIR
चिंतन शिविर में आज राहुल गांधी के भाषण पर निगाह, स्वीकार कर सकते हैं अध्यक्ष बनने का अनुरोध
पुलिस ने 21 चोरी की मोटरसाइकिल सहित 17 चोरों की किया गिरफ्तार

Top News

राजस्थान में कक्षा 8 की छात्रा से साथी छात्र ने किया रेप
भारत पाक इंटरनेशनल बॉर्डर पर घुसपैठिया पकड़ा:पाकिस्तानी करेंसी हुई बरामद, बीएसएफ ने पुशबैक  करने की कोशिश की तो रेंजर्स ने लेने से किया इनकार
काँग्रेस पार्टी महासचिवों के साथ दिल्ली में सोनिया गांधी का मंथन, कई अहम मुद्दों पर चल रही चर्चा
गहलोत कैबिनेट की बैठक आज, कई मुद्दों पर होगा बैठक में मंथन