Ashok Gehlot
जयपुर राजस्थान

राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन.. 

नई दिल्ली/ जयपुर/ कांग्रेसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर और राजस्थान में मुख्यमंत्री के परिवर्तन को लेकर चल रहे घमासान की धुंधली तस्वीर अब साफ हो गई है राजस्थान में गहलोत का ही राज होगा और सचिन पायलट को….

कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर और राजस्थान मे मुख्यमंत्री परिवर्तन को लेकर पिछले 1 सप्ताह से चल रहे कांग्रेसमें धाम आसान और कयासों के दौर मैं आज दिल्ली में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा सोनिया गांधी आलाकमान से मुलाकात से पहले मीडिया से बातचीत में जयपुर से ही माफीनामा लिखकर ले जाने और मीडिया से बातचीत में सोनिया गांधी से माफी मांगने और जो राजस्थान में हुए।

घटनाक्रम यर गलती स्वीकार करने के साथ ही अब राष्ट्रीय अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ने का एलान करने के साथ ही तथा राजस्थान मे मुख्यमंत्री का फैसला आलाकमान सोनिया गांधी पर छोडने का बयान देकर सोनिया गांधी की नाराजगी दूर करने की कोशिश की है ।

 और उधर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव में मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री गांधी परिवार के विश्वस्त दिग्विजय सिंह द्वारा नामांकन लेने और कल आखरी दिन नामांकन दाखिल करने के बयान से एक मामले का पटाक्षेप हो गया है कि अब गहलोत राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव नहीं लड़ेंगे।

दूसरी और राजस्थान के मुख्यमंत्री के बदलाव को लेकर भी अब धुंधली तस्वीर करीब-करीब साफ हो चुकी है आलाकमान पंजाब में जो घटनाक्रम हुआ और फिर विधानसभा चुनाव में जो कांग्रेस की स्थिति हुई ऐसी स्थिति राजस्थान में आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की नहीं हो और कांग्रेस बनी रहे इसको ध्यान में रखेंगे और फिर आलाकमान सोनिया गांधी का जो अपमान राजस्थान में गहलोत ने पर्यवेक्षकों के दिशा निर्देश को नहीं मानकर किया उसके लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आलाकमान सोनिया गांधी से सार्वजनिक रूप से माफी मांग कर इस अपमान की भरपाई कर दी है ।

तथा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की गांधी परिवार के प्रति समर्पण और पिछली कर्तव्य परायणता को देखते हुए अलग कमान अब राजस्थान में मुख्यमंत्री का बदलाव नहीं करेगा यह करीब-करीब निर्णय हो चुका है और राजस्थान में गहलोत का ही राज रहेगा ?

दूसरी और अब सचिन पायलट जिसे आलाकमान ने आश्वस्त किया था कि उन्हें राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाया जाएगा लेकिन अब सचिन पायलट को सीएम की बागडोर की जगह राजस्थान की बागडोर अर्थात प्रदेशाध्यक्ष बनाया जा सकता है या फिर उन्हें राष्ट्रीय संगठन में बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है ।

वहीं दूसरी ओर सूत्रों के मुताबिक अगर सचिन पायलट को राजस्थान कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष नहीं बनाया जाता है तो भी वर्तमान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की जगह बदलाव हो सकता है और इस दौड़ में रामेश्वर डूडी का नाम अग्रणी है डूडी अभी राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में गांधी के साथ बराबर यात्रा का जिम्मा संभाले हुए थे और उनके साथी हरीश चौधरी भी थे प्रदेश अध्यक्ष पद पर जाट की जगह जाट था डूडी के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से जाट समाज की नाराजगी का भी दंश कांग्रेस को नहीं झेलना पड़ेगा।

सूत्रों के अनुसार अनुशासन समिति की बैठक राजस्थान के घटनाक्रम को लेकर चल रही है इस बैठक में अनुशासनहीनता करने वाले राजस्थान सरकार के विधायक और मंत्रियों के खिलाफ जरूर कोई कठोर निर्णय लिया जा सकता है ।

जिसमें उन्हें मंत्री पद से हटाने की बात भी हो सकती है ? लेकिन यह सब सिर्फ कयास है अंतिम निर्णय तो बैठक के समापन के बाद आप आएगा ।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम