एससी आयोग को संवैधानिक दर्जा देगी गहलोत सरकार, विधानसभा में पेश किया जाएगा बिल

एससी आयोग के चेयरमैन खिलाड़ी बैरवा लंबे समय से मांग करते आ रहे हैं कि ऐसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया जाए,जिसके बाद संवैधानिक दर्जा देने की फाइल सरकार में सरपट दौड़ रही है

August 31, 2022 6:10 pm
एससी आयोग को संवैधानिक दर्जा देगी गहलोत सरकार, विधानसभा में पेश किया जाएगा बिल

जयपुर । प्रदेश में दलित अत्याचार के बढ़ते मामलों के बाद सरकार के खिलाफ मुखर हो चुके बसेड़ी से कांग्रेस विधायक और एससी आयोग के चेयरमैन खिलाड़ी लाल बैरवा को संतुष्ट करने की कवायद सरकार ने शुरू कर दी है, सरकार आगामी विधानसभा सत्र में एससी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने का बिल पेश करेगी और उसके बाद सदन में बिल पारित कराकर संवैधानिक दर्जा देने के साथ ही विशेष शक्तियां भी देगी।

एससी आयोग के चेयरमैन खिलाड़ी बैरवा लंबे समय से मांग करते आ रहे हैं कि ऐसी आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया जाए,जिसके बाद संवैधानिक दर्जा देने की फाइल सरकार में सरपट दौड़ रही है। हाल ही में सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग से भी एससी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की फाइल का अनुमोदन हो चुका है जिसके बाद फाइल को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भेजा गया है। सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग के मंत्री टीकाराम जूली ने भी इस बात की पुष्टि की है।

मंत्री टीकाराम जूली ने भी मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था कि एससी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने की फाइल उनके विभाग से निकल चुकी है और अब जल्द ही उसे कैबिनेट की बैठक में रखा जाएगा, जहां कैबिनेट की मंजूरी के बाद आगामी 19 सितंबर से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में इस बिल को रखा जाएगा और वहां पर बिल पारित होने के बाद आयोग संवैधानिक दर्जा देने का कानून बन जाएगा। साथ ही कई विशेष शक्तियां भी आयोग को मिल जाएंगी।

मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि राजस्थान पहला राज्य होगा जब एससी आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के साथ ही विशेष शक्तियां भी प्रदान की जाएंगी, इससे एससी वर्ग के लोगों के समस्याओं और उनकी शिकायतों का निस्तारण करने का काम भी होगा। साथ आयोग को सुनवाई करने और अन्य अधिकार भी प्राप्त होंगे।

वहीं दूसरी ओर संवैधानिक दर्जा मिलने के बाद एससी आयोग के चेयरमैन को राज्य मंत्री या कैबिनेट मंत्री के दर्जा मिलने के सवाल को मंत्री टीकाराम जूली टाल गए। मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि इसका फैसला मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही करेंगे और नियमों के तहत मंत्री का दर्जा दिया जाएगा या नहीं उसे देखा जाएगा।

Prev Post

बिना संगठन कैसे सफल हो पाएगी कांग्रेस की महंगाई के खिलाफ राष्ट्रव्यापी रैली?

Next Post

भीलवाड़ा परिषद आयुक्त ACB के राडार पर 

Related Post

Latest News

राजस्थान में बड़ा सियासी घटनाक्रम, गहलोत समर्थक 92 विधायकों ने दिया इस्तीफा 
बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

राजस्थान में बड़ा सियासी घटनाक्रम, गहलोत समर्थक 92 विधायकों ने दिया इस्तीफा 
बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा