पूर्व मंत्री महेश जोशी ठेकेदार और आईएएस अधिकारी के घर ईडी के छापे

Dr. CHETAN THATHERA
3 Min Read

जयपुर/ राजस्थान में पूर्व कांग्रेस की सरकार के दौरान जल जीवन मिशन योजना में करीब 40000 करोड रुपए के घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) की दिल्ली गुजरात और जयपुर की 10 टीमों ने कांग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री और गहलोत के खास महेश जोशी जल जीवन मिशन के पूर्व चीफ सेक्रेटरी आईएएस अधिकारी सुबोध अग्रवाल और दो ठेकेदार सहित चार जनों के ठिकानों पर एक साथ छापे मार कर जांच पड़ताल शुरू की है इस बार बताया जाता है कि एड के पास पर्याप्त साक्ष्य है ।

जल जीवन मिशन कोटर को लेकर प्रवचन निदेशालय लगभग पिछले 6 महीने से जांच पड़ताल कर रही है और इस बार पूरे सबूत के साथ परिवर्तन निदेशालय ने पूर्व मंत्री महेश जोशी मिशन के पूर्व चीफ सेक्रेटरी सुबोध अग्रवाल आईएएस ठेकेदार पदमचंद जैन व उनके साथी के यहां एक साथ छापे मार डाले हैं ।

टीम ने महेश जोशी के घर पर छापा डालकर उनके परिवार के दो सदस्यों से कुछ फाइलों को लेकर पूछना शुरू कर दी है सूत्रों के अनुसार इस अधिकारी सुबोध अग्रवाल ठेकेदार पदम चंद जैन और उसके सहयोगी से भी टीम पूछताछ कर रही है और इन लोगों को आज नोटिस जारी होने की भी संभावना है।

क्या था मामला

ग्रामीण पेयजल योजना के तहत सभी ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल की व्यवस्था करने की योजना थी इस योजना में राज्य सरकार और केंद्र सरकार का बराबर बराबर का हिस्सा था अर्थात दोनों सरकारों को बराबर बराबर की राशि खर्च करनी थी और यह योजना करीब 70000 करोड़ की थी और जिसमें लगभग 40000 करोड़ के प्रोजेक्ट और स्कीम के टेंडर में से अधिकतर मैनेज किए गए थे।

ग्रामीण क्षेत्रों में दी की जगह घटिया एचडीपीई पाइप डाले गए और काम लोहा लगाकर हजारों टंकियां बना दी गई यही नहीं अधिकारों में क्वालिटी कंट्रोल की जांच किए बिना ही करीब 19000 करोड़ का भुगतान तक कर दिया था इस योजना में पुरानी पाइपलाइन को नया बढ़कर भुगतान उठा लिया गया।

जबकि नई पाइपलाइन डाली ही नहीं गई तथा कई किलोमीटर तक आज की तारीख में भी पाइपलाइन नहीं है लेकिन अधिकारियों और ठेकेदारों ने मिली भगत कर पाइपलाइन बात कर उसका भुगतान उठा लिया ठेकेदार पदमचंद जैन ने हरियाणा से चोरी के पाइपलाइन लेकर पुराने और चोरी के पाइप लाइनों को नया बढ़कर बढ़ा दिया यही नहीं ठेकेदार पाटन चंद जैन ने फर्जी कंपनी के सर्टिफिकेट लगाकर टेंडर लिया जिसकी जानकारी अधिकारियों को भी थी लेकिन उन्होंने मौन धारण रख।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम