डीजी क्राईम लाठर ने महानिदेशक पुलिस का अतिरिक्त कार्यभार सम्भाला

Jaipur news । महानिदेशक अपराध एम एल लाठर ने बुधवार को महानिदेशक पुलिस का अतिरिक्त कार्यभार सम्भाल लिया है। लाठर का परिचय लाठर भारतीय पुलिस सेवा के वर्ष 1987 बैच के अधिकारी है। उन्हे वीरता के लिए पुलिस पदक, विशिष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक, बारटूपुलिस मैडल फाॅर स्पेशल डयूटी, आपरेशन पराक्रम मैडल सहित …

डीजी क्राईम लाठर ने महानिदेशक पुलिस का अतिरिक्त कार्यभार सम्भाला Read More »

October 14, 2020 7:06 pm

Jaipur news । महानिदेशक अपराध एम एल लाठर ने बुधवार को महानिदेशक पुलिस का अतिरिक्त कार्यभार सम्भाल लिया है।

लाठर का परिचय

लाठर भारतीय पुलिस सेवा के वर्ष 1987 बैच के अधिकारी है। उन्हे वीरता के लिए पुलिस पदक, विशिष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक, बारटूपुलिस मैडल फाॅर स्पेशल डयूटी, आपरेशन पराक्रम मैडल सहित कुल 6 पदको से अलंकृत किया जा चुका है। लाठर की पत्नि गृहणी एवं पुत्र कम्प्यूटर इंजीनियर तथा पुत्री आईआरएस अधिकारी है।

टोंक के फुहेल कांड को मात्र 12 घंटे मे किया पटाक्षेप

लाठर को एक सफल पुलिस अधिकारी के तौर पर विशेष रूप से दस्यु उन्मूलन तथा कानून व्यवस्था की विकट परिस्थितियों पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने वाले अधिकारी के रूप में जाना जाता है। वर्ष 2005 में टोंक के सुहेला कांड के समय कानून व्यवस्था की विकट स्थिति को मात्र 12 घण्टे में सामान्य करने के उनके योगदान को काफी सराहा गया था। वर्ष 2011 में भरतपुर के गोपालगढ गोलीकांड में 13 व्यक्तियों की मृत्यु होने जाने से उत्पन्न तनाव को नियंत्रण करने के लिए श्री लाठर को विषेष रूप से तैनात किया गया था। तत्समय उन्होंने 15 दिन वहां केम्प कर प्रषंसनीय भूमिका निभायी।

उन्होंने हाल ही में डूंगरपुर जिले एवं उदयपुर के खेरवाडा कस्बे में कानून व्यवस्था की स्थिति उत्पन्न होने पर उदयपुर पहुंचकर स्थितियों को अतिशीघ्र सामान्य करने में उल्लेखनीय कार्य किया। वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान बिना किसी स्थान पर पुर्नमतदान के शान्तिपूर्ण चुनाव सम्पन्न कराने का दायित्व बखूबी सम्भाला।

वर्ष 1996 से 1998 में धौलपुर पुलिस अधीक्षक पद रहते हुए दस्यु उन्मूलन में अत्यन्न सराहनीय योगदान दिया। वर्ष 2006 में राजखेडा के पास डकैतों द्वारा 14 व्यक्तियों के अपहरण मामले में वहां भिजवाये जाने पर उन्होंने विषेष अभियान चलाकर शीघ्र ही सफलता अर्जित की। इस अतिविशिष्ट कार्य के लिए उन्हे 32 बोर रिवाल्वर मय प्रंशसा पत्र भी प्रदान की गयी। इसी प्रकार पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ पहाडिया के निवास के समीप कई घरों में 4 जनवरी 1990 में हुई डकैती की घटना को मात्र 3 घण्टे में सुलझाा दिया। इसके लिए उन्हे 2 हजार रूपये का नकद मय प्रंशसा पत्र पुरस्कार प्रदान किया गया।

कहां-कहा दी सेवाएं

लाठर सिरोही, सीआईडी सीबी, दौसा, धौलपुर, कोटा ग्रामीण एवं उदयपुर के पुलिस अधीक्षक पद पर तैनात रहे है। उममहानिरीक्षक के रूप में बीएसएफ बाडमेर व बीकानेर, आरएसी, सीआईडी इन्टेलिजेन्स व राजस्थान पुलिस अकादमी में सराहनीय सेवाएं प्रदान की। महानिरीक्षक पद पर पुलिस आयोजना एवं कल्याण, जयपुर रेज द्वितीय एवं आरएसी में सेवाएं दी। अतिरिक्त महानिदेशक के पद पर श्री लाठर पुलिस आवासन, सीआईडी सिविल राईट्स एवं कानून व्यवस्था के दायित्वों को सम्भाला।

Prev Post

भीलवाड़ा में पारोली संरपच के हमले के आरोपियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग, भाजपा ने सौपा ज्ञापन

Next Post

भीलवाड़ा में नहीं थम रहा प्रसूताओं की मौत का दौर , 1 माह में 4 मौत

Related Post

Latest News

गहलोत कल मिलेंगे सोनिया से,राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए कल नहीं भरे जाऐंगे नामांकन, क्यों
देश को 9 माह बाद मिला नया CDS 
राजस्थान में भी CM गहलोत ने राज्य कर्मचारियों को दिवाली की सौगात बढ़ाया डीए खबर पर मोहर

Trending News

प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 
केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को दीपावली का तोहफा बढ़ाया DA, राजस्थान मे भी अब..
राजस्थान में 4 बच्चों की डूबने से मौत
Ban on 8 affiliated organizations including PFI in the country, know

Top News

प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 
गहलोत कल मिलेंगे सोनिया से,राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए कल नहीं भरे जाऐंगे नामांकन, क्यों
देश को 9 माह बाद मिला नया CDS 
राजस्थान में भी CM गहलोत ने राज्य कर्मचारियों को दिवाली की सौगात बढ़ाया डीए खबर पर मोहर
बच्चियों को कहा मत दो वोट,पाकिस्तान चली जाओ -IAS हरजोत कौर
राजस्थान शिक्षा विभाग- घोटालेबाज बाबू डेढ माह से नही आ रहा ड्यूटी पर लापता, DEO बचा रहे है या... ?
राजस्थान शिक्षा विभाग- लाखों का घोटाला फिर भी अब तक दोषी प्रिंसिपल पर कार्यवाही क्यो ?
केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को दीपावली का तोहफा बढ़ाया DA, राजस्थान मे भी अब..
राजस्थान में 4 बच्चों की डूबने से मौत
Ban on 8 affiliated organizations including PFI in the country, know