शिक्षा निदेशालय के नीचे दिया तले अंधेरा,स्कूल में विद्यार्थियों की जगह मजदूरों का डेरा

Dr. CHETAN THATHERA
3 Min Read

जयपुर। राजस्थान में सरकारी स्कूलों की स्थिति क्या है यह किसी से छिपी हुई नहीं है स्कूलों के हाल क्या है यह सब को पता है लेकिन हद तो तब हो गई जब एक सरकारी स्कूल केवल कागजों में चल रहा स्कूल में विद्यार्थी भी कागजों में आ रहे हैं और स्कूल भवन विश्राम स्थल बना हुआ है ऐसा ही चौका देने वाला मामला शिक्षा निदेशालय किस क्षेत्र में देखने को मिला है इसे यूं कहें तो अतिशयोक्ति नहीं होगी कि दिया तले अंधेरा ।

जी हां यह वाक्य और घटना है बीकानेर के नोखा स्थित जगराम की गद्दारी रोडा में स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय का यह विद्यालय सरकारी कागजों में संचालित है यह विद्यार्थी भी कागजों में पढ़ रहे हैं और शिक्षक भी नियुक्त है लेकिन वास्तव में इस स्कूल को विश्रामस्थली बना रखा है।

S.C.G.C.I SCHOOL TONK
ADVERTISEMENT

इसकी पोल तब खुली जब शिक्षा विभाग और से विद्यालय सम्मेलन एवं राजस्थान शिक्षा में बढ़ते कदम के तहत उसके आकलन और निरीक्षण के लिए इसी सप्ताह निदेशालय द्वारा अधिकारी लगाकर निरीक्षण करवाए गए थे तब इसी कड़ी में सीबीईओ माया बजाड जब निरीक्षण करने स्कूल पहुंची तो वहां का नजारा देखकर चकित रह गई स्कूल में विद्यार्थी और शिक्षक की जगह स्कूल के कक्षा कक्ष में मजदूर ठहरे हुए हैं और सो रहे थे तब ग्रामीणों ने अधिकारियों को बताया कि काफी दिनों से स्कूल में अध्यापक नहीं आता है।

Advertisement

विद्यालय के कमरों में मजदूर ठहरते रहते हैं और विद्यालय के बच्चे स्कूल में आते हैं लेकिन खेल कर वापस अपने घर चले जाते हैं स्कूल में पढ़ाई तक नहीं होती है इधर जब निरीक्षण के लिए अधिकारी पहुंचने की जानकारी विद्यालय की शिक्षिका मोहिनी कुमारी को लगी तो स्कूल पहुंची तब अधिकारों से फटकारते हुए।

विद्यालय रिकॉर्ड एवं परीक्षा संबंधी दस्तावेज मांगे तो शिक्षिका मोहिनी ने अपने बैग से उपस्थिति रजिस्टर सहित अन्य दस्तावेज दिए इस पर टीम में सारे दस्तावेज जप्त कर अपने साथ ले गई और सीबीईओ ने तत्काल शिक्षिका मोनी कुमारी को शिक्षा के अधिकार अधिनियम के आवेला करने पर और बच्चों को शिक्षा से वंचित रखने एवं कार्य के प्रति लापरवाही बरतने पर तत्काल नोटिस जारी कर दिया है और उसके खिलाफ आगे की जांच शुरू करती है।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम