सिपाही भर्ती-2021 पेपर लीक मामला- इंस्पेक्टर सहित 22 के खिलाफ चालान पेश

एसओजी ने माना है कि परीक्षा से पहले ही पेपर लीक करने में स्कूल संचालक, परीक्षा आयोजक एजेंसी के कर्मचारी, ड्यूटी पर तैनात पुलिस अफसरों और अन्य स्टाफ की भूमिका सामने आई है।

July 21, 2022 11:45 am

जयपुर/ एसओजी ने कांस्टेबल भर्ती: 2021 परीक्षा के 14 मई को दूसरी पारी के पेपर लीक मामले में 22 आरोपियों के खिलाफ जयपुर मेट्रो-2 की सीएमएम कोर्ट में धोखाधड़ी और आपराधिक षड्यंत्र सहित राज.सार्वजनिक परीक्षा अधिनियम 2022 के प्रावधानों के तहत चालान पेश किया है। एसओजी ने माना है कि परीक्षा से पहले ही पेपर लीक करने में स्कूल संचालक, परीक्षा आयोजक एजेंसी के कर्मचारी, ड्यूटी पर तैनात पुलिस अफसरों और अन्य स्टाफ की भूमिका सामने आई है।

एसओजी के सीआई मोहनलाल पोषवाल को मुखबिर से सूचना मिली थी कि 14 मई को दोपहर तीन से शाम पांच बजे तक होने वाली दूसरी पारी का पेपर पहले ही वाट्सएप पर आ गया है। इस पर उन्होंने केस दर्ज कराया। आरोपियों ने संगठित गिरोह के तौर पर सुनियोजित तरीके से परीक्षा से पहले ही पेपर आउट कर दिया। फिलहाल, एसओजी ने अन्य आरोपियों भूपेन्द्र विश्नोई, शिवलाल और गोपाल सहित अन्य के खिलाफ चालान लंबित रखा है।

कौन है 22 आरोपी

1. मुकेश शर्मा : दिवाकर पब्लिक स्कूल के मालिक मुकेश शर्मा ने आरोपी छोटूराम को मोहनलाल के नाम से फर्जी तरीके से वीक्षक लगा दिया। छाेटू राम ने पेपर लीक करवाने के लिए आठ लाख रुपए एडवांस लिए थे। मुकेश शर्मा ने अपने विश्वसनीय कमल कुमार को परीक्षा में ड्यूटी नहीं होने के बावजूद भी पेपर लीक करने में सहयोग के लिए बुलाया था।

2. शालू शर्मा: दिवाकर पब्लिक स्कूल की प्रिंसीपल थीं। शालू शर्मा मुकेश कुमार शर्मा की पत्नी है। उसने केन्द्र अधीक्षक के तौर पर पेपर का पैकेट सही सलामत खोेलने पर हस्ताक्षर किए। लेकिन सीसीटीवी फुटेज में वह पेपर के बक्सों को खोलते समय स्ट्रॉन्ग रूम में मौजूद नहीं दिखाई दी थीं।

3. सत्यनारायण: स्कूल मालिक मुकेश का विश्वसनीय। ड्यूटी के दौरान स्ट्रॉन्ग रूम में ही रहा। इसी की निगरानी में आरोपी छोटूराम ने स्ट्रॉन्ग रूम से पेपर निकाला और वायरल किया।

4. राकेश: परीक्षा कराने वाली एजेंसी टीसीएस का सेंटर मैनेजर। इसने भी पेपर ‘सही खोलने’ पर हस्ताक्षर किए हैं।

5. कमल कुमार: आरोपी छोटूराम का नाम मोहनलाल बदलकर वीक्षक का कार्ड बनाया था, जो कमल के घर में जमा था।

6. राकेश कुमावत: स्कूल संचालक के कहने पर राकेश ने ही अपने कंप्यूटर से छोटूराम का मोहनलाल के नाम से फर्जी आधार कार्ड बनाया था।

7. विक्रम सिंह: टीसीएस ने विक्रम को सेंटर पर डिप्टी मैनेजर नियुक्त किया था।

8. रतनलाल: तत्कालीन एएसआई। रतन की ड्यूटी स्कूल के स्ट्रॉन्ग रूम में थी।

9. राजेन्द्र प्रसाद: पुलिस निरीक्षक। बतौर सेंटर प्रभारी पेपर सही होने की पुष्टि की।

10. पूजा मामलानी: स्कूल में शिक्षिका थी और परीक्षा के दौरान अर्न्तरीक्षक थी। पेपर खोलतेे समय मौजूद नहीं थी।

11. मनोज वर्मा: एजेंसी ने लगाया था। यह मुकेश का विश्वसनीय था। इसकी ड्यूटी स्ट्रॉन्ग रूम में नहीं होने के बाद भी वहां की निगरानी के मौजूद था।

12. शाहरुख: शाहरुख ने जिओ कंपनी के कर्मचारी के तौर पर कंवरसिंह के साथ मुकेश नामक व्यक्ति की सिम अपडेट करने के बहाने अंगूठे के निशान लिए और नई सिम कंवर सिंह को दी थी।

13. कंवर सिंह: छोटूलाल उर्फ मोहन के पास उसे पहंुचाने में सहयोग किया था। सिम से पुलिस भर्ती पेपर की चर्चा हुई थी।

14. प्रिया: छोटूलाल की पत्नी है। पेपर लीक करने की एवज में लिए गए 7.97 लाख रुपए की बरामदगी हुई थी।

15. छोटूराम : मुकेश के साथ स्ट्रॉन्ग रूम में बक्से को काटा और पेपर निकाला।

16. महिपाल: छोटूराम ने कॉन्सटेबल भर्ती का पेपर महिपाल को भेजा।

17. विनोद कुमार: परीक्षा से पहले विनोद ने छोटूराम से पेपर लिया था।

18. बलबीर सुंडा: अक्षय कोचिंग सेंटर जोबनेर में बलबीर, मुकेश बाना व सुरेश जाट ने पेपर हल किया था।

19. मुकेश बाना: मुकेश ने बलबीर और सुरेश के साथ पेपर को हल किया था।

20. धीरज शर्मा: जागृति पब्लिक स्कूल के धीरज ने पेपर को बलबीर से लिया था।

21. सुरेश कुमार: सुरेश ने भी बलबीर व मुकेश के साथ पेपर हल किया था।

22. मुकेश मांडिया: पेपर आउट कर बेचने का केस दर्ज किया गया।

Prev Post

राजस्थान के इस शहर में NEET की परीक्षा में हुई गड़बड़ी, पुनः होगी परीक्षा

Next Post

डाक विभाग की पहल 399 रूपए में बीमा इसमें सब कुछ कवर, पढ़े खबर और जानें 

Related Post

Latest News

गहलोत कल मिलेंगे सोनिया से,राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए कल नहीं भरे जाऐंगे नामांकन, क्यों
देश को 9 माह बाद मिला नया CDS 
राजस्थान में भी CM गहलोत ने राज्य कर्मचारियों को दिवाली की सौगात बढ़ाया डीए खबर पर मोहर

Trending News

प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 
केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को दीपावली का तोहफा बढ़ाया DA, राजस्थान मे भी अब..
राजस्थान में 4 बच्चों की डूबने से मौत
Ban on 8 affiliated organizations including PFI in the country, know

Top News

प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 
गहलोत कल मिलेंगे सोनिया से,राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए कल नहीं भरे जाऐंगे नामांकन, क्यों
देश को 9 माह बाद मिला नया CDS 
राजस्थान में भी CM गहलोत ने राज्य कर्मचारियों को दिवाली की सौगात बढ़ाया डीए खबर पर मोहर
बच्चियों को कहा मत दो वोट,पाकिस्तान चली जाओ -IAS हरजोत कौर
राजस्थान शिक्षा विभाग- घोटालेबाज बाबू डेढ माह से नही आ रहा ड्यूटी पर लापता, DEO बचा रहे है या... ?
राजस्थान शिक्षा विभाग- लाखों का घोटाला फिर भी अब तक दोषी प्रिंसिपल पर कार्यवाही क्यो ?
केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को दीपावली का तोहफा बढ़ाया DA, राजस्थान मे भी अब..
राजस्थान में 4 बच्चों की डूबने से मौत
Ban on 8 affiliated organizations including PFI in the country, know