वाहन चालक से लिफ्ट मांग कर लोगों को ब्लैकमेल कर रुपए ऐठने वाली महिला गिरफ्तार – इस गिरोह की पहले भी चार महिलाओं हो चुकी है गिरफ्तार

जयपुर। सांगानेर थाना पुलिस ने लिफ्ट मांग कर लोगों को ब्लैकमेल कर रुपए ऐठने वाली एक ओर महिला को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस गिरफ्तार महिलाओं से पूछताछ करने में जुटी है, पूछताछ में कई अन्य वारदाते खुलने की आशंका जताई जा रही है।

एसआई जयप्रकाश ने बताया कि गिरफ्तार आरोपित महिला सुनिता उर्फ सोनू (42)पत्नी राजू सिंह निवासी किशनगढ महरौली दिल्ली हाल प्रताप नगर की रहने वाली है। जिसे हुलिए के आधार पर बीटू बाईपास दुगार्पुरा से पकड़ा गया है । जानकारी के अनुसार पूछताछ में कई वारदाते करना कबूला है।  इस गिरोह की चार महिलाएं नेहा शर्मा  निवासी सोड़ाला , सोनू उर्फ सुनीता  निवासी दिल्ली , शबाना निवासी रामगंज और  मुन्नी देवी उर्फ करिश्मा  निवासी भरतपुर पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।

वारदात का तरीका- पुलिस ने बताया आरोपित महिलाओं में एक महिला द्वारा किसी वाहन चालक से लिफ्ट लेकर उसके वाहन पर बैठती  और बाकी अन्य महिलाएं किसी आॅटों से उसका पिछा करती है। सुनसान जगह पर लिफ्ट देने वाली महिला द्वारा रोक कर छेड़छाड़ कर  चिल्लाने नाटक करती है। उसी दौरान पिछे आई महिलाएं अनजान बन कर झगड़ा करती और ब्लैकमेल कर उससे रुपए सहित अन्य चीजे लूटपाट कर फरार हो जाती है। बदनामी के डर से पीड़ित थाने में मामले दर्ज नहीं करवाते है।

यह था मामला: 

पुलिस ने बताया कि मूलत:  भरतपुर निवासी करतार सिंह के साथ यह घटना घटी। दो दिन पहले शाम के समय करतार सिंह टोंक रोड से होते हुए अपनी कार से लौट रहे थे। इसी दौरान एक लड़की ने लिफ्ट लेने के लिए कहा। लड़की की मदद करने के लिए करतार सिंह ने कार रोकी और लड़की को कार की पिछली सीट आॅफर की। लेकिन लड़की ने पिछली सीट पर नहीं बैठते हुए आगे की सीट पर बैठने की बात कही। करतार सिंह ने कार का अगला फाटक खोल दिया। कार में बैठने के बाद बातचीत का दौर शुरू हुआ। करतार ने अपने बारे में बताया तो लड़की ने भी अपने बारे में बताया। उसने अपना नाम सोनू बताया। बातचीत के दौरान जब करतार ने पूछा कि कहां छोडना है तो लड़की अपने असली रुप में आ गई। उसने करतार से कहा कि पर्स, कैश, मोबाइल फोन और घड़ी दे देवे  नहीं तो वह शोर मचाएगी। करतार ने थोड़ी सख्ती करनी चाही तो लड़की ने कार में से ही चीखना-चिल्लाना शुरू कर दिया। वह फोन कर अपने दोस्तों को बुलाने लगी तो करतार सिंह ने कार रोक दी और अपना पर्स जिसमें पांच हजार रुपए की नकदी , मोबाइल और घड़ी आरोपित लड़की को देकर जान छुड़ाई। उसके बाद सांगानेर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई।