भाजपा फैसले लेने में विश्वास करती है कांग्रेस नहीं इसलिए यह हाल है – मंत्री चौधरी

Minister Hemaram Chaudhary claims: No MLA of Congress is angry, will win 3 seats in Rajya Sabha elections

जयपुर/बाड़मेर/ राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच वर्चस्व की लड़ाई और उनके समर्थकों का एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप बयानबाजी का दौर अभी भी जारी है गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री और पायलट के खासम खास माने वाले जाने एक मंत्री ने सार्वजनिक तौर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा की बढ़ाई करते हुए कहा कि भाजपा फैसला लेने में विश्वास करती है और कांग्रेस नहीं इसलिए कांग्रेस पार्टी की यह हालत है।

राजस्थान में कांग्रेस के सत्ता संभालने और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पद आसीन होने के साथ ही पायलट और गहलोत के बीच हुई वर्चस्व की लड़ाई 2 साल बाद चरम पर पहुंच गई थी और सरकार के आखिरी साल आने तक अभी भी इस वर्चस्व की लड़ाई और एक दूसरे के समर्थकों द्वारा एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप सार्वजनिक तौर पर करने का दौर अभी भी जारी है ।

कांग्रेस आलाकमान द्वारा सख्त हिदायत के बाद भी गहलोत और पायलट के समर्थक शांत नहीं बैठ रहे हैं और इसी कड़ी में बाड़मेर के गुडामालानी विधानसभा क्षेत्र से विधायक और पायलट के खास माने जाने वाले तथा गहलोत मंत्रिमंडल में वन एवं पर्यावरण मंत्री हेमाराम चौधरी ने बायुत विधानसभा क्षेत्र के गोदवाणियों की ढाणी में जसनाथ जी महाराज के नवनिर्माण मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के दौरान आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए।

चौधरी ने इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर पढ़ाई की और कहा कि मोदी ने गुजरात में पूरी की पूरी कैबिनेट बदल दी उनकी पार्टी अर्थात भाजपा फैसले लेने में विश्वास रखती है लेकिन हमारी पार्टी कांग्रेस फैसले नहीं ले पाती इसलिए आज ऐसे हालात हो रहे हैं ।

हेमाराम चौधरी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना इंदिरा गांधी से करते हुए कहा कि मैंने तो दो ही नेता देखें जो फैसले लेने की ताकत रखते हैं पहले इंदिरा गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

यही नहीं इस कार्यक्रम में बायतु विधायक और पूर्व मंत्री हरीश चौधरी तथा जैसलमेर से पूर्व सांसद कर्नल सोनाराम चौधरी जिला प्रमुख महेंद्र चौधरी भी मौजूद थे और उनकी मौजूदगी में ही उन्होंने इस बयान के साथ ही पश्चिमी राजस्थान के चर्चित भंवरी देवी सीडी प्रकरण का मुद्दा एक बार फिर से छेड़ दिया।

उन्होंने कहा कि लोग बोलने से डरते हैं अगर हमारी तरह बोलने लगे तो सीडी बाहर आ जाएगी इसलिए उसे तो दबाना होगा। चौधरी ने बिना किसी नेता का नाम लिए कहा कि अगर बोलेंगे तो सीडी बाहर आ जाएगी हमें अगर सीडी दबानी है तो चुप रहना पड़ेगा ।

पहले भी जिन लोगों की सीडियां बाहर आई उनका क्या हाल हुआ हम जानते हैं और वैसा ही हाल हमारा भी हो सकता है इसलिए बोलने से डरते हैं ऐसी बहुत सी सारी बातें हैं लेकिन सब बातें यहां मंच पर कहना उचित नहीं है और नहीं बोले तो वही ठीक रहेगा । 

गहलोत सरकार के कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी का सार्वजनिक तौर पर इस बयान प्रदेश की राजनीति में इस कड़ाके की ठंड में एक बार फिर गर्मी और उबाल ला दिया है।