जयपुर

राजस्थान में असदुद्दीन ओवैसी की मजलिस को अभी तक नही मिला मजबूत नेतृत्व

जयपुर / अशफाक कायमखानी।हालांकि खासतौर पर अल्पसंख्यक तबके से तालूक रखने वाला युवा तबका विकल्प मिलते ही कांग्रेस से छिटकते देर नही लगाता है। राजस्थान मे तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा मुस्लिम समुदाय को निशाने पर रखने के चलते उनको सत्ता मे हिस्सेदारी देने की बजाय हर स्तर पर किनारे लगाये रखने की रणनीति के चलते वो एएमआईएम लीडर सांसद असदुद्दीन ओवैसी के जयपुर आकर राज्य मे पार्टी संगठन खड़ा करके 2023 के विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा करने से युवाओं मे उनके प्रति आकर्षण लगातार बढता देखा जा रहा है।

पर उन युवाओं को एक डोर मे बांधकर उन्हें लीड करने के लिये मजलिस को प्रदेश मे अभी तक एक भी अनुभवी लीडर नही मिल पाने का टोटा साफ नजर आ रहा है।

सांसद ओवैसी के इस सीलसीले मे अबतक जयपुर मे हुये दो दौरे मे उनसे मिलने वालो मे खासतौर पर जयपुर मे रहने वाले कुछ उन लोगो का मिलना हुवा है। जिनका राजनीतिक अनुभव ना के बराबर बताते है। मिले लोगो के प्रभाव व लीडरशिप से बेखोफ कांग्रेस अभी तक ओवेसी को लेकर गम्भीर नही बताते है। पर कुछ कांग्रेस जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र के अल्पसंख्यक युवाओं मे ओवैसी के प्रति बढते आकर्षण को लेकर चिंतित जरुर बताये जा रहे है।

राजस्थान मे वैसे तो ओवैसी टीम के काम करने का प्लान यूपी चुनाव के बाद का राष्ट्रीय नेताओं के जयपुर मे पड़ाव डालने व दौरे करने के बाद बताते है। लेकिन राजस्थान मे कुछ समर्थक उनके पक्ष मे हैदराबाद से आने वाले उनके वीडियो व लेख को सोशल मीडिया पर जरुर फैलाने मे लगे है। अभी तक जानकारी अनुसार इस काम को टौक जिले के दो लोग जिनमे एक इंजीनियर व एक एडवोकेट ने यह जिम्मा सम्भाल रखा है जिनका राजनीतिक अनुभव खास नही है। मजलिस की आहट से दूसरी मुस्लिम तंजीम SDPI मे भी सक्रियता देखी जा रही है।

राजस्थान की मुस्लिम सियासत को समझे तो पाते है कि शहरी मतदाताओं के अलावा देहाती कल्चर मे रहने वाली मुस्लिम बिरादरियों का स्वतंत्र पार्टी, लोकदल, जनता पार्टी व जनता दल के नाम पर राजनीतिक उथल-पूथल मे खासा महत्व देखा जाता रहा है। अलवर-भरतपुर जिले मे मेव, सवाईमाधोपुर जिले मे गद्दी-खेलदार, मारवाड़ मे सिंधी मुस्लिम व शेखावाटी मे कायमखानी बिरादरी के राजनीतिक इतिहास को पढा जा सकता है। जिन्होंने कभी कभी जहर का प्याला पीने की तरह कांग्रेस के मुकाबले भाजपा को भी अपना कर राजनीतिक पारी खेल चुके है।

शहरी मतदाताओं मे कुरेशी बिरादरी ने वैसे तो अक्सर कांग्रेस का साथ दिया है। पर जब जब मुस्लिम उम्मीदवार की बात आती है तो वो अन्य बिरदरियो की तरह राजनीतिक सौदेबाजी करने के बजाय जज्बाती होकर समर्थन मे सबसे आगे खड़ी मिलती है। शहरी क्षेत्र मे अनेक कामकाजी बिरादरीया भी रहती है। लेकिन वो इकठ्ठा तौर पर ना रहकर राज्य भर मे बिखरे बिखरे तौर पर निवास करते है।

कुल मिलाकर यह है कि सांसद ओवैसी ने राजस्थान मे अभी तक किसी को भी पार्टी की कोई जिम्मेदारी नही दी है। ओर नाही किसी को मजलिस का प्रवक्ता बना रखा है। वो अपने हैदराबाद दफ्तर से ही प्रदेश पर नजर रखे हुये है। साथ ही अनेक मुस्लिम नेताओं से ओवैसी के साथ जाने की पुछने पर उनका कहना है कि अभी कांग्रेस सरकार द्वारा राजनीतिक नियुक्तियों करने तक इंतजार करते है। उसके बाद ओवेसी के साथ जाने का फैसला करेगे। ओवैसी के साथ जायेगे तो काम भी करेंगे ओर चुनाव भी लड़ेगे।

Reporters Dainik Reporters
[email protected], Provide you real and authentic fact news at Dainik Reporter.