शोभा रानी कुशवाह की कांग्रेस से नजदीकी से नाराज पूर्व विधायक ने छोड़ी पार्टी, पीसीसी चीफ डोटासरा को भेजा इस्तीफा

-धौलपुर से पूर्व विधायक सगीर अहमद ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता भी से भी दिया इस्तीफा -बीजेपी से निष्कासित विधायक शोभारानी कुशवाह और सगीर अहमद के बीच चल रही है लंबी सियासी अदावत 

June 26, 2022 11:38 am
शोभा रानी कुशवाह की कांग्रेस से नजदीकी से नाराज पूर्व विधायक ने छोड़ी पार्टी, पीसीसी चीफ डोटासरा को भेजा इस्तीफा

जयपुर। धौलपुर से विधायक रहे चुके सगीर अहमद ने अचानक कांग्रेस पार्टी छोड़ने की घोषणा करके धौलपुर की सियासत में हलचल मचा दी है। सगीर अहमद ने अपना इस्तीफा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को भेजा है, साथ ही कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया है।

हालांकि सगीर अहमद ने अपने इस्तीफे की वजह पारिवारिक कारणों को बताया है, लेकिन माना जा रहा है कि बीजेपी से निष्कासित विधायक शोभारानी कुशवाह की कांग्रेस से बढ़ती नजदीकी से नाराज होकर सगीर अहमद ने अपना इस्तीफा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को भेजा है। सगीर अहमद को धौलपुर में बड़ा अल्पसंख्यक चेहरा माना जाता था। सगीर अहमद साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव से पूर्व बीजेपी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए थे।

साल 2008 में बीजेपी के टिकट पर चुने गए थे विधायक 

दरअसल सगीर अहमद को पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का बेहद करीबी माना जाता था। वसुंधरा राजे ने ही उन्हें साल 2008 में बीजेपी का टिकट दिया था, जिस पर सगीर अहमद धौलपुर से विधायक चुने गए थे। इसके बाद वर्ष 2013 में भी सगीर अहमद ने बीजेपी का टिकट पर चुनाव लड़ा था लेकिन तब शोभा रानी के पति और पूर्व विधायक बीएल कुशवाह से सगीर अहमद चुनाव हार गए थे।

हालांकि तब बी एल कुशवाह को एक मामले में सजा होने के चलते उनका चुनाव रद्द हो गया था और उस पर उपचुनाव हुए थे, जिसमें बीजेपी ने सगीर अहमद का टिकट काटकर शोभा रानी को टिकट दे दिया था और शोभारानी विधायक चुन ली गई गई थी।

यहीं से सगीर अहमद और बीजेपी के बीच नाराजगी बढ़ती चली गई थी। हालांकि पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सगीर अहमद को उस वक्त वक्फ विकास परिषद का चेयरमैन बनाकर राज्य मंत्री का दर्जा देकर संतुष्ट करने का प्रयास भी किया था लेकिन बावजूद इसके, सगीर अहमद ने साल 2018 में हुए विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी का साथ छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

राजनीतिक नियुक्तियों में भी एडजस्ट नहीं होने से थे नाराज 

सूत्रों की माने तो धौलपुर से पूर्व विधायक सगीर अहमद को राजनीतिक नियुक्तियों में भी एडजस्ट किए जाने की उम्मीद थी लेकिन उन्हें राजनीतिक नियुक्तियों में एडजस्ट नहीं किया गया, जिससे भी सगीर अहमद नाराज चल रहे थे। हालांकि उनके इस्तीफे की प्रमुख वजह शोभा रानी कुशवाहा की कांग्रेस से बढ़ती नजदीकी को ही माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि शोभारानी कुशवाह जल्द ही कांग्रेस का दामन थाम सकती हैं।

गौरतलब है कि राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने के चलते बीजेपी ने शोभा रानी कुशवाहा को निलंबित कर दिया था, जिस पर शोभारानी कुशवाह ने बीजेपी पर ही जमकर आरोप लगाए थे। उसके बाद उन्हें पार्टी से भी निष्कासित कर दिया गया था। ऐसे में अब यही कहा जा रहा है कि शोभारानी कुशवाह संभवतः 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर मैदान में उतर सकती हैं। इन्हीं संभावनाओं के चलते सगीर अहमद ने नाराज होकर कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है।

Prev Post

वरिष्ठ IAS के बेटे की विजिलेंस टीम ने की हत्या ? या फिर आत्महत्या, टीम पर आरोप,फंसी

Next Post

अग्निपथ स्क्रीन के विरोध में कल 200 विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस का प्रदर्शन, पर्यवेक्षक भी पहुंचे ,कल सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक सभी विधानसभा क्षेत्रों में होंगे अलग-अलग प्रदर्शन

Related Post

Latest News

दिल्ली में केंद्रीय पशुपालन मंत्री जी सीएम गहलोत की वार्ता, पशुओं में फैल रहे लंपी स्किन रोग पर जल्द पाएंगे नियंत्रण
टोंक में रक्षाबंधन का त्यौहार पर ऐतिहासिक परंपरा जो राजपूत समाज कर रहा हैं, जानें
एसडीएम वर्षा मीणा एवं एसआई गौरव कुमार की सूझबूझ से टला हादसा

Trending News

समीक्षा बैठक में  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लिया बड़ा फ़ैसला, जानें 
आरक्षण में संशोधन के लिए ओबीसी के लोगों का विरोध-प्रदर्शन, रैली निकाल दी चेतावनी
Rajasthan में 200 पशु चिकित्साधिकारियों व 300 पशुधन सहायकों की होगी अस्थाई भर्ती 
खेल दिवस पर ग्रामीण ओलंपिक का आगाज़, 22 हजार खिलाड़ियों की 126 टीमों मे होगा महामुकाबला

Top News

दिल्ली में केंद्रीय पशुपालन मंत्री जी सीएम गहलोत की वार्ता, पशुओं में फैल रहे लंपी स्किन रोग पर जल्द पाएंगे नियंत्रण
टोंक में रक्षाबंधन का त्यौहार पर ऐतिहासिक परंपरा जो राजपूत समाज कर रहा हैं, जानें
एसडीएम वर्षा मीणा एवं एसआई गौरव कुमार की सूझबूझ से टला हादसा
अब कभी भी खुल सकता है राजनीतिक व संगठनात्मक नियुक्तियों का पिटारा, गहलोत-माकन ने फाइनल किए नाम
वीडियो संदेश के जरिए सीएम गहलोत ने दी रक्षाबंधन की बधाई, राजस्थान को भी आगे बढ़ाने का आह्वान
सीएम गहलोत फिर पहुंचे दिल्ली, उपराष्ट्रपति धनकड़ के शपथग्रहण समारोह में करेंगे शिरकत
आईफ़ोन 14 को लेकर सबसे बड़ी ख़बर ,अब होगा मेड इन इंडिया होगा आई फ़ोन 14, जानें अब क्या होगी इसकी रेट
‘द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज- चैंपियंस’ राजू श्रीवास्तव को पड़ा दिल का दौरा
मोदी के कार्यकाल में भारत विकास की रफ्तार पकड़ रहा है - घनश्याम तिवाड़ी
जयपुर पुलिस का ये होगा नया प्रतीक चिन्ह ,महानिदेशक पुलिस  एम एल लाठर ने किया अनावरण