आखिरकार 35 दिन की कड़वाहट के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट एक मंच पर आकर विक्ट्री का निशान दिखाया

Jaipur news / अशफाक कायमखानी। लोक कहावत है कि गोली का घाव भर जाता है लेकिन बोली का घाव भरना मुश्किल माना जाता है। लेकिन इस कहावत के विपरीत राजस्थान कांग्रेस मे गहलोत व पायलट समर्थकों के मध्य करीब बत्तीस दिन चली राजनीतिक उठा पटक व कड़वाहट के मध्य मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सचिन पायलट को …

आखिरकार 35 दिन की कड़वाहट के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट एक मंच पर आकर विक्ट्री का निशान दिखाया Read More »

August 13, 2020 11:09 pm

Jaipur news / अशफाक कायमखानी। लोक कहावत है कि गोली का घाव भर जाता है लेकिन बोली का घाव भरना मुश्किल माना जाता है। लेकिन इस कहावत के विपरीत राजस्थान कांग्रेस मे गहलोत व पायलट समर्थकों के मध्य करीब बत्तीस दिन चली राजनीतिक उठा पटक व कड़वाहट के मध्य मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सचिन पायलट को निकम्मा व नकारा कहने के बावजूद जयपुर मे आज मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग मे उक्त दोनो नेता चाहे ऊपरी तौर पर सही लेकिन एक दुसरे की आवभगत मे इस तरह कसीदे गढ रहे तो मानो दोनो नेताओं के मध्य कभी किसी भी तरह का खरास पैदा हुआ ही नहीं था।

जबकि दोनो नेताओं के अतिरिक्त दोने के प्यादे जिन्होंने एक दुसरे के खिलाफ ओडियो-विडीयों जारी करके व प्रैस एवं सभा को सम्बोधित करते समय जो शब्दो का इस्तेमाल किये थे उन प्यादो की पतली हालत देखने लायक थी।


विधायक दल की बैठक मे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बत्तीस दिन मे आये खरास के बावजूद बढप्पन दिखाते हुये गर्मजोशी से पायलट का इस्तकबाल करते हुये सब भूलकर आगे बढने को कहा, वही पायलट ने भी मुख्यमंत्री गहलोत का अदब के साथ जवाब दिया ओर गांधी परिवार का शूक्रीया अदा किया। पायलट खेमे के विधायको के गांधी परिवार की कोशिशों के बाद वापस लोट आने से कल 14-अगस्त को विधानसभा मे कांग्रेस द्वारा लाये जाने वाले विश्वास प्रस्ताव के पक्ष मे 123 मत पड़ने की सम्भावना है।

जबकि स्पीकर जौशी व मंत्री भंवरलाल मेघवाल के मत विभाजन मे भाग नही लेने की सम्भावना जताई जा रही है। कांग्रेस के विश्वास प्रस्ताव के पक्ष मे कांग्रेस के 107 मे से जौशी व मेघवाल को छोड़कर बाकी 105 मतो के अतिरिक्त दो माकपा, दो बीटीपी, एक लोकदल व तेराह निर्दलीय विधायको के मतो को मिलाकर कुल 123 मत पक्ष मे पड़ते लगते है। जबकि विश्वास मत के खिलाफ मे बहतर भाजपा व तीन रालोपा के मिलाकर 75 मत पड़ सकते है।

अगर किसी वजह से माकपा के दो मत अंतिम समय मे तटस्थ रहने का फैसला करते है तो प्रस्ताव के पक्ष मे 121 मत आ सकते है।


कुल मिलाकर यह है कि पायलट धड़े के वापिस आने के बाद से ही उम्मीद जताई जा रही थी कि पायलट के राजस्थान की सियासत मे दोनो पद गवाने के बाद राजनीतिक तौर पर अगर कमजोर हुये है तो उनको विधायक दल की बैठक मे आम विधायक की तरह मंच के सामने साधारण विधायक की तरह बैठना पड़ेगा। लेकिन पद गवाने के बावजूद पायलट बैठक मे गांधी परिवार के मार्फत आने के चलते मुख्यमंत्री की बगल वाली सीट पर प्रमुख नेता के तोर पर स्थान पाने से उनकी राजनीतिक हेसियत को अभी भी मजबूत हांका जा रहा है।

Prev Post

15 अगस्त पर प्रमाणपत्र व पुरस्कार वितरण स्थगित

Next Post

टोंक में 17 नए पॉज़िटिव, 14 दिन में 170 कोरोना पोज़ीटिव, आमजन व प्रशासन की लापरवाही पड़ने लगी है भारी

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

Goldsmith had to buy gold, it was expensive
रोज आता था ले जाता था फल, दे जाता नकली नोट 
पूर्व जिला प्रमुख चौधरी के साथ पुलिस द्वारा किए दुव्यर्वहार की बैैठक में सर्व समाज के लोगों ने की निंदा
टोंक जिला कलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने ग्राम पंचायत स्तरीय जनसुनवाई का निरीक्षण किया

Top News

Goldsmith had to buy gold, it was expensive
रोज आता था ले जाता था फल, दे जाता नकली नोट 
पूर्व जिला प्रमुख चौधरी के साथ पुलिस द्वारा किए दुव्यर्वहार की बैैठक में सर्व समाज के लोगों ने की निंदा
गांधी दर्शन पर जिला स्तरीय संगोष्ठी का आयोजन
टोंक जिला कलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने ग्राम पंचायत स्तरीय जनसुनवाई का निरीक्षण किया
वानी प्रोजेक्ट के तहत रूबरू कार्यक्रम आयोजित | Program organized under Wani Project
Chairman Ali Ahmed inspected the ongoing road construction work on Civil Line Road
Volunteers in Tonk took out path on Vijaya Dashami
गहलोत का कार्यकाल समाप्त, कुर्सी खतरे में
सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे