गंदा है, पर धंधा है.. जिले में चल रहा है, शिक्षा का अवैध कारौबार

निजी स्कूलों ने खोल रखी है, कमीशनखोरी की दुकान आंखेें मूंदें बैठा है  शिक्षा विभाग  टोंक, (फिरोज़ उस्मानी)। एक और तो सरकार गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा दिलाने के लिए भरकस कौशिश कर रही है, वही इसके उलट निजी स्कूल अपनी मनमानी कर अभिभावकों की जेबे काटने में लगे है। बच्चों की पुस्तकों से लेकर …

गंदा है, पर धंधा है.. जिले में चल रहा है, शिक्षा का अवैध कारौबार Read More »

May 7, 2018 7:53 am
निजी स्कूलों ने खोल रखी है, कमीशनखोरी की दुकान
आंखेें मूंदें बैठा है  शिक्षा विभाग 
टोंक, (फिरोज़ उस्मानी)। एक और तो सरकार गरीब बच्चों को मुफ्त शिक्षा दिलाने के लिए भरकस कौशिश कर रही है, वही इसके उलट निजी स्कूल अपनी मनमानी कर अभिभावकों की जेबे काटने में लगे है। बच्चों की पुस्तकों से लेकर युनिफार्म तक में कमीशनखोरी का खेल खुलेआम चल रहा है। निजी स्कूल संचालकों ने बुक विके्रता व बुक प्रकाशक के साथ सांठ-गांठ कमीशनखोरी का खुला ध्ंाधा खोल रखा है। हद तो ये है, कि बच्चों की युनिफार्म से लेकर टाई, बेल्ट, बैच व जुते तक पर निजी स्कूलों की कमीशनखोरी का ठप्पा लगा हुआ है। आरटीई दाखिले वाले बच्चों से भी साल के अंत में मोटी फीस वसूल ली जाती है। बावजूद इसके शिक्षा विभाग मौन धारण कर निजी स्कूलों पर लगाम कसने में नाकाम है।
        ऐसे चलती है, कमीशनखोरी
बच्चों की कक्षाओं में उनके पाठयक्रम चलाने के लिए बुक प्रकाशकों व बुक विक्रेता निजी स्कूलों से सम्पर्क कर मोटी रकम देते है। एक पुस्तक पर आधी रकम का कमीशन स्कूल संचालक लेते है। इंग्लिश कोर्स की पुस्तकों पर 40 से 50 प्रतिशत का कमीशन निजी स्कूलों का बनता है। तथा हिन्दी कोर्स की पुस्तकों पर 60 से 70 प्रतिशत कमीशन होता है। स्कूल संचालक बच्चों को इन्ही बुक विके्रता से पाठ्य सामाग्री लेने को विवश करते है। किसी ओर बुक विके्रता या प्रकाशक द्वारा ज्यादा कमीशन देने पर पाठ्य पुस्तकें भी बदलती रहती है।
             युनिफार्म से लेकर टाई-बेल्ट तक पर मौटी कमाई
निजी स्कूल संचालक स्कूल द्वारा चलाई जा रही बच्चों की यूनिफार्म से लेकर टाई-बेल्ट, बेच,जुते-मोजे तक में मोटी रकम वसूलते है। ज्यादा कमाई के लिए कई स्कूल हर वर्ष यूनिफार्म बदल कर ज्यादा मुनाफा कमाते है। इसके साथ साथ ही स्कूलों में होने वालें वार्षिक क्रिया-कलापों के लिए अभिभावकों से पैसा लिया जाता है।
                ये है, आरटीई का अधिकार 
आरटीई (शिक्षा का अधिकार) 2010 में लागू किया गया, इसके तहत पहली कक्षा से आठवीं तक के बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने का प्रावधान है। इसमें 6 वर्ष से 14 वर्ष की आयु के बच्चों को अपने आस पास के सरकारी या किसी भी निजी स्कूल में दाखिला लेने का अधिकार है। जो बच्चें निजी स्कूल या कान्वेंट स्कूल में दाखिला लेते है। इसकी सूचना प्राप्त होने पर राज्य सरकार उन्हें नियमानुसार भूगतान करती है। इस नियमानुसार 25 प्रतिशत सीटों पर गरीब वर्ग के बच्चों को मुफ्त में प्रवेश करना होगा।

Prev Post

गर्भस्थ शिशु के लिंग जांच मामले में दलाल इमरान गिरफ्तार एवज में लिए 15000 रुपए बरामद

Next Post

कांग्रेस ने मृत व्यक्ति को बना डाला ब्लॉक अध्यक्ष

Related Post

Tonk ki top news
May 10, 2022 9:33 pm
Tonk ki top news

Latest News

चिदंबरम के आवास पर सीबीआई की रेड, गहलोत ने बताया बीजेपी को लोकतंत्र के लिए खतरा
इलेक्ट्रॉनिक स्कूटी में ब्लॉस्ट,घर मे लगी भीषण आग, घर का सारा सामान जलकर खाक

Trending News

उदयपुर- जयपुर -उदयपुर परीक्षा स्पेशल ट्रेन सभी अनारक्षित कोच
भाजपा नेता हत्या प्रकरण - अब मंत्री जोशी के बाद सीएम गहलोत के करीबी कांग्रेस विधायक के खिलाफ FIR
चिंतन शिविर में आज राहुल गांधी के भाषण पर निगाह, स्वीकार कर सकते हैं अध्यक्ष बनने का अनुरोध
पुलिस ने 21 चोरी की मोटरसाइकिल सहित 17 चोरों की किया गिरफ्तार

Top News

चिदंबरम के आवास पर सीबीआई की रेड, गहलोत ने बताया बीजेपी को लोकतंत्र के लिए खतरा
इलेक्ट्रॉनिक स्कूटी में ब्लॉस्ट,घर मे लगी भीषण आग, घर का सारा सामान जलकर खाक
राजस्थान 17 मई 2022 – Rajasthan main Aaj Ka Mausam Kaisa Rahega
Bharatpur News: Police arrested 5 people in Bharatpur on charges of forgery
1 महीने पहले हुई थी सगाई नवम्बर में होनी थी शादी, सड़क दुर्घटना में 24 साल के युवक की मौत
सीएम गहलोत का बड़ा आरोप, दंगे-हिंसा के पीछे बीजेपी और संघ के लोगों का हाथ
कैबिनेट मंत्री खाचरियावास का जन्मदिन आज, राज्यपाल-मुख्यमंत्री ने दी बधाई
कांग्रेस चिंतन शिविर में बोले राहुल गांधी, 'कांग्रेस के डीएनए में सब को बोलने का अधिकार'