गुर्जर आरक्षण आंदोलन के मद्देनजर भरतपुर, करौली,हिंडौनसिटी,बयाना,दौसा आदि के 70 गांवों में इंटरनेट सेवाएं बंद। 

अजमेर में मुख्यमंत्री ने कहा बात तो करो।

      भरतपुर।(राजेन्द्र जती)  5 प्रतिशत विशेष आरक्षण की मांग को लेकर 15 मई से शुरू होने वाले गुर्जर आंदोलन को देखते हुए 12 मई से राजस्थान के गुर्जर बहुल्य क्षेत्र भरतपुर, करौली, बयाना आदि के 70 गांवों में 13 मई तक के लिए इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है। इस आदेश को आगे भी बढ़ाया जा सकता है। इससे बैंकों और सरकारी दफ्तरों में काम काज ठप हो गया है। आम लोगों को भी परेशानी हो रही है। युवा वर्ग विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए आॅन लाइन आवदेन भी नहीं कर पा रहे हैं। गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला पहले ही कह चुके हैं कि 15 मई के बाद से ट्रेने भी रोकी जा सकती है। गुर्जरों का यह आंदोलन प्रदेशभर में चलेगा। संविधान में 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण नहीं देने की बाध्यता है, इसलिए गुर्जर समुदाय ने इस बार ओबीसी के 21 प्रतिशत कोटे का विभाजन कर पांच प्रतिशत आरक्षण अलग से देने की मांग की है। गुर्जर आंदोलन से अब 72 लोगों की मौत हो चुकी है। सरकार को हर आंदोलन में विपरित परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है। राजस्थान में नवम्बर में विधानसभा के चुनाव होने हैं। ऐसे में राज्य की भाजपा सरकार कोई विवाद नहीं चाहती है।


बात तो करे-मुख्यमंत्रीः

इधर अजमेर में 12 मई को राजपुरोहित समाज के एक समारोह में गुर्जर समुदाय का नाम लिए बगैर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि रोज रोज धरने पर बैठने वालों को मुझ से बात तो करनी चाहिए। संवाद से हर समस्या का समाधान निकल सकता है। मैं तो 36 कौम के लोगों को साथ लेकर चलती हूं मैं चाहती हूं कि कौम के लोग एक थाली में भोजन करें। मुझ से किसी को भी नाराज होने की जरुरत नहीं है। मैं तो सभी से मुस्कुरा कर बात करती हूं किसी भी समारोह में पांच जनों की ओर से मुस्कुराने का फार्मूला अपना लिया है। मैं जब किसी नाराज अनजान व्यक्ति की ओर देखकर मुस्कुराती हूं तो वह गद्गद हो जाता है। असल में मैं तो किसी को भी नाराज नहीं करना चाहिए। अपने संबोधन में भले ही मुख्यमंत्री गुर्जरों के आंदोलन का उल्लेख नहीं किया हो, लेकिन आंदोलन के मद्देनजर बातचीत के प्रस्ताव का संकेत तो दे ही दिया है। हो सकता है कि गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति से संवाद के लिए मंत्रियों की कोई कमेटी बना दी जाए। आंदोलन की वजह से पूरा प्रदेश चिंतित है।


संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने 12 मई को भरतपुर के कलेक्टर संदेश नायक और गुर्जर समुदाय की मांगों को लेकर एक ज्ञापन दिया। कलेक्टर ने बैंसला और उनके साथियों से उम्मीद जताई कि आंदोलन के दौरान शांति बनाए रखी जाएगी। कलेक्टर ने बैंसला को सरकार की भावनाओं से भी अवगत कराया। जानकार सूत्रों के अनुसार वार्ता के दौरान कलेक्टर ने संघर्ष समिति के प्रतिनिधियों से मंत्रियों के समूह की वार्ता का प्रस्ताव रखा जिसे स्वीकार कर लिया गया। माना जा रहा है कि जल्द ही मंत्री समूह से कर्नल बैंसला और गुर्जर समाज के प्रतिनिधियों की बात होग

हार्दिक पटेल पर लगाई रोक।

भरतपुर जिले की सीमा में प्रवेश करने पर लगाई पाबंदी

एसपी भरतपुर व SDM बयाना की रिपोर्ट के बाद कलक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट संदेश नायक ने जारी किए आदेश।

अगर आदेशों की अवहेलना हुई तो होगी सख्त कार्यवाही।

15 मई को बयाना के अड्डा गांव में है गुर्जर आरक्षण को लेकर महापंचायत।