कोटा राजस्थान

राजस्थान में अपना घर आश्रम में 3 वृद्ध की मौत ,15 बीमार, संचालकों की लापरवाही 

जयपुर/ वृद्ध और मानसिक रूप से कमजोर तथा घर से बेघर किए गए वृद्ध जनो के आवास और खानपान के लिए राजस्थान सरकार के यूडीएच मंत्री तथा मुख्यमंत्री के खास शांतिलाल धारीवाल के क्षेत्र तथा विधायक संदीप विधायक के निर्वाचन क्षेत्र दक्षिण कोटा में संचालित अपना घर आश्रम में आज सवेरे संचालकों की लापरवाही के कारण तीन वृद्ध जनों की मौत हो गई तथा 15 से अधिक बीमार हो गए जिनका उपचार चल रहा है।घटना की सूचना मिलते ही जिला कलेक्टर सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

बताया जाता है कि कोटा के छत्रपुरा में स्थित अपना घर आश्रम जिस का संचालन भरतपुर के बी एम भारद्वाज द्वारा किया जाता है और इसके अध्यक्ष नरेंद्र कुमार है इस आश्रम में रहने वाले वृद्धजन तथा मानसिक रूप से कमजोर वृद्धजनों मैसेज करीब 3 लोगों की कल रात अचानक तबीयत खराब हो गई।

इसकी सूचना आश्रम के संचालक कौन है मैं तो स्वास्थ्य विभाग को सीएमएचओ को और नहीं जिला प्रशासन को दी और बाद में रात को उनको अस्पताल ले जाया गया जहां देर रात तीनों की मौत हो गई बताया जाता है कि इस आश्रम में 2017 से ही रह रही सुदेवी (40 )2019 से रह रही मुन्नी (48 )और 2021 से ही रह रहे दिलीप (50) की मौत की खबर मिलते ही आज सवेरे जिला कलेक्टर ओपी बुनकर तथा मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी बीएस तोमर सहित आला अधिकारी आश्रम पहुंचे और यहां मेडिकल कैंप लगाया जिनमें लोगों की जांच की गई तो 15 और लोगों में उल्टी-दस्त की शिकायत पाए जाने पर उन्हें मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

बताया जाता है कि जिला कलेक्टर ओपी बुनकर और सीएमएचओ की टीम ने जब आश्रम में जांच पड़ताल की तो पाया गया कि आश्रम में रहने हेलो के लिए साफ पानी की कोई व्यवस्था नहीं थी उनको बोरिंग का पानी पिलाया जा रहा था ।

यहां तक कि रसोईघर से लेकर सब जगह गंदगी नजर आई प्रारंभिक तौर पर माना जा रहा है कि बोरिंग का पानी पीने से ही इनकी तबीयत बिगड़ी और आश्रम के संचालकों की लापरवाही से तीन लोगों की जाने गई है क्योंकि उन्होंने इस संबंध में ने तो प्रशासन को सूचना दी और ने उनको तत्काल अस्पताल भर्ती कराया गया हालत ज्यादा बिगड़ने से उनकी मौत हो गई खबर लिखे जाने तक मामले की जांच पड़ताल और टीम मौके पर मौजूद थी ।

कलेक्टर बुनकर ने दिखाई संवेदनशीलता, उपनिदेशक तोषनीवाल व कलेक्टर साथ-साथ..

बताया जाता है कि आज सवेरे जब सूचना मिली तो जिला कलेक्टर ओपी बुनकर सीएमएचओ तवंर तथा सामाजिक न्याय अधिकारिता विभाग के उपनिदेशक ओम तोषनीवाल , अतिरिक्त जिला कलेक्टर बृजमोहन बेरवा प्रिंसिपल मेडिकल कॉलेज विजय सरदाना तथा 12 चिकित्सकों का दल जलदाय विभाग के अधिकारी सब मौके पर पहुंच गए लेकिन उसके बाद भी आश्रम के संचालक अध्यक्ष नरेंद्र कुमार मौके पर नहीं पहुंची।

जबकि सचिव मनोज जैन पहुंच गए थे। कलेक्टर बंद करने संवेदनशीलता दिखाते हुए ढाई घंटे तक आश्रम में रहकर हर चीज के नमूने लिए और टीम को दिशा निर्देश दिए तथा बाद में मेडिकल कॉलेज जाकर आश्रम के पीड़ित भर्ती वृद्ध मानसिक रूप से कमजोर रोगियों से मिले।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम