Gehlot's big allegation on BJP on Jodhpur violence, 'are getting riots due to fear of defeat'
जयपुर राजस्थान

जोधपुर हिंसा पर गहलोत का बीजेपी पर बड़ा आरोप, ‘हार के डर से करवा रहे हैं दंगे’

जयपुर। जोधपुर हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर बीजेपी पर निशाना साधा है। सीएम गहलोत ने कहा कि विधानसभा चुनाव में हार के डर के चलते बीजेपी प्रदेश में दंगे करवा रही है। सीएम गहलोत ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से मांग की है कि एक कमेटी बनाकर इन दंगों की जांच करवाई जाए। सीएम गहलोत ने आज उदयपुर में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश में दंगे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। करौली और जोधपुर में हुई हिंसा के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि बीजेपी दंगे और ध्रुवीकरण के सहारे चुनाव जीतना चाहती है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सभी राजनीतिक दलों से शांति की अपील करते हुए कहा कि सभी राजनीतिक दलों की जिम्मेदारी है कि वह शांति व्यवस्था कायम करने में सहयोग करें।

बीजेपी की प्लानिंग पूरे प्रदेश में दंगे करवाने की

सीएम गहलोत में कहा कि बीजेपी की प्लानिंग पूरे प्रदेश में दंगा करवाने की है। पहले इन्होंने करौली में दंगा करवाया और अब जोधपुर में दंगा करवाया। पीएम ने कहा कि हमने पूरे प्रयास करके टाइम पर कार्रवाई की। इसलिए छुटपुट घटनाएं हुई, कई जगह आगजनी भी हुई है जो भी लोग हिंसा में आरोपी है। उन सब को अरेस्ट कर लिया गया है। हम किसी भी कीमत पर प्रदेश में हिंसा बर्दाश्त नहीं करेंगे और जो बीजेपी षड्यंत्र रच रही है उनके षड्यंत्र को भी कामयाब नहीं होने देंगे।

देश अखंड रखने के लिए कांग्रेस नेताओं ने दी कुर्बानी

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि आज देश के हालात चिंताजनक है। धर्म और जाति के आधार पर राजनीति हो रही है, यह कुछ लोगों को अच्छा लग सकता है लेकिन यह देश हित में नहीं है। अगर 70 साल के बाद भी देश अखंड रहा है तो उसमें कांग्रेस के नेताओं का बड़ा योगदान रहा है। इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और बेअंत सिंह अपनी जान की कुर्बानी दे दी लेकिन देश नहीं टूटने दिया। रूस-पाकिस्तान सहित कई देशों के टुकड़े हो गए लेकिन देश अखंड रहा। बेअंत सिंह ने अपनी जान की कुर्बानी दे दी लेकिन खालिस्तान नहीं बनने दिया। सीएम ने कहा कि लेकिन यह बातें आज की युवा पीढ़ी को नहीं पता। इसीलिए बीजेपी और आरएसएस के लोग इसका फायदा उठा रहे हैं और युवा पीढ़ी को बरगला रहे हैं। सीएम गहलोत ने कहा कि हिंसा में जो भी लोग दोषी हो चाहे वह किसी भी धर्म-मजहब या पॉलिटिकल पार्टी से जुड़े हों उन्हें बख्शा नहीं जाएगा।

चिंतन शिविर का सभी को इंतजार

इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 13 से 15 मई को हुए चिंतन शिविर को लेकर कहा कि चिंतन शिविर की तैयारियां देखी हैं। 12 मई को देशभर से मेहमान उदयपुर आएंगे। उदयपुर की मेहमान नवाजी पूरे विश्व में विख्यात है। कांग्रेस चिंतन शिविर में देश के हालातों के साथ ही आने वाले विधानसभा चुनावों पर भी चर्चा करेगी। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस चिंतन शिविर की तैयारियों का जायजा लेने के लिए बुधवार को उदयपुर पहुंचे थे। जहां उन्होंने प्रदेश प्रभारी अजय माकन, पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा के साथ तैयारियों का जायजा लिया था।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/