Gehlot told Prashant Kishore the brand, said - should take advantage of experience
जयपुर राजस्थान

गहलोत ने प्रशान्त किशोर को बताया ब्राण्ड, कहा- लेना चाहिए अनुभव का लाभ

जयपुर। कांग्रेस चिंतन शिविर सहित कई मुद्दों पर सोनिया गांधी से चर्चा के लिए दिल्ली पहुंचे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ( Prashant Kishore ) को ब्रांड बताया है। सीएम गहलोत ने आज दिल्ली में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि प्रशांत किशोर आज ब्रांड बन गए हैं उनके जो अनुभव है उसका लाभ लेना चाहिए।

सीएम गहलोत ने कहा कि 2014 के समय प्रशांत किशोर ने नरेंद्र मोदी के लिए काम किया था उसके बाद नीतीश कुमार के लिए काम किया और फिर ममता बनर्जी के लिए काम किया था। सीएम ने कहा कि कई और एजेंसी भी है जिनसे राय मशवरा लिया जाता है लेकिन पीके का नाम बड़ा हो गया है इसलिए वह चर्चा में आ गए हैं।अगर विपक्ष को एकजुट करने और केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ संघर्ष करने में उनके सुझाव काम आते हैं तो अच्छी बात है।

कटारिया मेंटली रूप से डिस्टर्ब

सीएम गहलोत ने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के माता सीता पर दिए गए बयान पर निशाना साधते हुए कहा कि गुलाबचंद कटारिया बुजुर्ग नेता है मैं उनका सम्मान करता हूं लेकिन वे कई बार गलत बातें बोल जाते हैं। कभी महाराणा प्रताप के लिए विवादित बयान देते हैं तो कभी माता सीता के लिए गलत बयान बाजी कर जाते हैं।

https://fb.watch/cvFfIU7AH0/
महाराणा प्रताप पर बयान को लेकर पूरे राजस्थान के लोग उनके खिलाफ हैं। सीएम गहलोत ने कहा कि बयान देने के लिए कटारिया को माता सीता ही मिली क्या? मुझे लगता है कि वह मेंटली डिस्टर्ब है।इसकी एक वजह यह भी है कि कटारिया पार्टी के सबसे वरिष्ठ विधायक हैं बावजूद उसके जो सम्मान उन्हें बीजेपी में उनको मिलना चाहिए था वह नहीं मिल पा रहा। इसलिए वह कई बार बयान देते देते भटक जाते हैं।

महाराणा प्रताप पर दिए गए बयान से राजस्थान के पूरे राजपूत समाज में नाराजगी है। साथ ही 36 कौम भी नाराज है। अब उन्होंने माता सीता को लेकर बयान दिया है इसे कौन बर्दाश्त करेगा। सीएम गहलोत ने कहा कि यह हिंदुत्व की बात करते हैं और राष्ट्रवाद की बात करते हैं लेकिन इनका राष्ट्रवाद और हिंदुत्व केवल चुनाव जीतने के लिए है जबकि हमारा हिंदुत्व धार्मिक भावनाओं का सम्मान रखने का है।

गहलोत ने कहा कि हम सब को गर्व है कि हम हिंदू हैं लेकिन हर धर्म का सम्मान करना हमारा फर्ज है।इधर देश कई राज्यों में हुई हिंसा को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज देश किस दिशा में जा रहा है यह किसी को पता नहीं है।

रामनवमी पर भी कई प्रदेशों में हिंसा हो चुकी है। हिंसा में दोनों तरफ का नुकसान होता है लेकिन भाजपा के लोग केवल एक पक्ष का नुकसान होना प्रचारित करके लोगों को भड़काने का काम करते हैं। सीएम गहलोत ने कहा कि अगर विपक्ष के लोग आलोचना करते हैं तो केंद्र सरकार को आलोचनाओं को सकारात्मक रूप में ले लेना चाहिए लेकिन यहां पर उल्टा होता है। आलोचना करने वालों पर व्यक्तिगत टिप्पणियां की जाती हैं।

सीएम गहलोत ने कहा कि मेरे लिए बीजेपी के लोग प्रचारित करते हैं कि मैं प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर बयानबाजी करता हूं, इसके लिए बीजेपी के लोग मुझ पर व्यक्तिगत टिप्पणी करने लग जाते हैं जबकि विपक्ष के लोग किसी की आलोचना नहीं करते बल्कि सत्ता पक्ष को सही राह दिखाते हैं।

सीएम गहलोत ने कहा कि देश में हो रही हिंसा को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आगे आना चाहिए और उन्हें यह कहना चाहिए कि हिंसा करने वाले चाहे किसी भी धर्म के हो बर्दाश्त नहीं होगा। ऐसे लोगों पर कार्रवाई करने के लिए प्रधानमंत्री को राज्यों को भी निर्देश देने चाहिए, लेकिन प्रधानमंत्री लगातार देश में नफरती माहौल और हिंसा पर चुप्पी साधे हुए हैं।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/