टोंक राजस्थान

गैस सिलेंडर में विस्फोट, जोधपुर में 4 जिंदा जले : रिफिलिंग करते समय हुए धमाके, 16 झुलसे; मरने वाले एक ही परिवार के

जोधपुर। गैस सिलेंडर में विस्फोट से 4 लोग जिंदा जल गए। 16 लोग गंभीर रूप से झुलस गए हैं। धमाके से करीब एक किलोमीटर का इलाका दहल उठा। मामला जोधपुर के कीर्ति नगर इलाके का है। कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि शनिवार दोपहर करीब 3 बजे आवासीय क्षेत्र कीर्ति नगर में अवैध तरीके से गैस रिफिलिंग के दौरान गैस लीकेज हुआ था। आस-पास कॉलोनी में खड़ी गाड़ियां भी आग की चपेट में आ गईं हैं। घटना दोपहर 2 से 2:15 बजे के बीच की बताई जा रही है।

हादसे में मरने वालों में से 3 बच्चों समेत एक युवक है। आग की चपेट में आने से नीकू (12), विक्की (15), सुरेश (45) और कोमल (13) की मौत हो गई। नक्ष (11), निरमा (37), शोभा (50), सरोज (30), हरिराम (42), नितेश (14), कंचन (30), राजवीर (5), खुशी (2), पारसराम (25), दिव्यांशु (16), अशोक (33), अनराज (42), सूरज (24) और भोमाराम (60) झुलस गए। एक घायल के नाम की जानकारी नहीं मिल पाई है।

हादसे के बाद घर में कई घरेलू और कॉमर्शियल सिलेंडर भी मिले। ये भी आग की चपेट में आ गए थे। हादसे के बाद घर में कई घरेलू और कॉमर्शियल सिलेंडर भी मिले। ये भी आग की चपेट में आ गए थे।

8 लोग 80 फीसदी तक झुलसे

प्रारंभिक जांच में सामने आया कि यह मकान कोजाराम लोहार का है। कोजाराम के चार भाई का परिवार इसी घर में रहता है। अस्पताल में भर्ती 16 में से करीब 8 लोग 80 फीसदी तक झुलस गए हैं। यह भी सामने आ रहा है कि कोजाराम का बेटा गैस रिफिलिंग का भी काम करता था। हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि हादसा किस वजह से हुआ है। अंदेशा जताया जा रहा है कि रिफिलिंग के दौरान ये हादसा हुआ है।

इस घटना के बाद सीएम अशोक गहलोत ने भी ट्वीट करते हुए लिखा-स्थानीय प्रशासन से घटना की पूरी जानकारी ली गई है। घायलों के इलाज के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं।

घर से निकले घरेलू और कॉमर्शियल सिलेंडर

इस मकान से करीब चार दर्जन घरेलू व कॉमर्शियल सिलेंडर बाहर निकाले गए। बताया जा रहा है कि यह मकान लोगों के घर सिलेंडर पहुंचाने वाले किसी हॉकर का है। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि इस हादसे में मकान का एक हिस्सा भी ढह गया। इधर, घटना की जानकारी मिलने के बाद कलेक्टर और एसपी मौके पर पहुंचे।

हादसे की सूचना मिलने पर फायर ब्रिगेड और पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। चार शवों को बाहर निकाला जा चुका है। घायलों को महात्मा गांधी हॉस्पिटल भेजा गया, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

सीएमओ से मॉनिटरिंग, अवैध रिफिलिंग चल रही थी

मामले में सामने आया कि जिस घर में यह हादसा हुआ वहां अवैध रिफिलिंग का काम चल रहा था। घटना के बाद शहर विधायक मनीषा पंवार महात्मा गांधी हॉस्पिटल पहुंचीं। उन्होंने बताया कि इस घटना को लेकर सीएमओ ऑफिस से मॉनिटरिंग की जा रही है। शहर में कई लोग अवैध गैस रिफिलिंग का काम कर रहे हैं, इसकी जांच करवाई जाएगी।

liyaquat Ali
Sub Editor @dainikreporters.com, Provide you real and authentic fact news at Dainik Reporter.