शिक्षा विभाग – शिक्षा की गुववत्ता में पंजाब और राजस्थान के विद्यार्थी अव्वल

Jaipur News in Hindi | The teacher forged headmaster's signature

जयपुर/ शिक्षा मंत्रालय केंद्र सरकार द्वारा देशभर में कराए गए स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता के सर्वे में पंजाब राजस्थान के विद्यार्थी अव्वल आए हैं इसमें पहले नंबर पर पंजाब के विद्यार्थी और दूसरे नंबर पर राजस्थान के विद्यार्थी आए हैं दोनों ही राज्य के विद्यार्थियों का सभी विषयों में प्रदर्शन अच्छा रहा है जबकि गणित में पंजाब राजस्थान के विद्यार्थियों ने बाजी मारी है इस सर्वे में छात्राओं ने हर कक्षा और विषय में छात्रों से 72 प्रदर्शन किया है।

शिक्षा मंत्रालय ने हाल ही में देश भर में शिक्षा की गुणवत्ता परखने के लिए कराए गए नेशनल अचीवमेंट सर्वे एनएएस( NAS) -2021 की रिपोर्ट जारी की गई है इस रिपोर्ट में देश भर में कक्षा तीसरी पांचवी आठवीं और दसवीं स्तर पर पढ़ाई सीखना आउटकम का पता लगाने के लिए परीक्षा कराई गई थी यह परीक्षा 12 नवंबर 2021 को देश भर के चुनिंदा विषयों को लेकर हुई थी इस परीक्षा में देश भर के एक करोड़ 18 लाख स्कूल शामिल हुए थे।

नेशनल अचीवमेंट सर्वे में कक्षा 3, कक्षा 5, कक्षा 8 , कक्षा 10 के बच्चों के लैंग्वेज, गणित, विज्ञान, अंग्रेजी, पर्यावरण विज्ञान, सामाजिक विज्ञान में बच्चों की क्षमता को परखा इसमें हर विषय में पंजाब पहले स्थान पर तो राजस्थान दूसरे स्थान पर रहा वहीं, कक्षा 3, 5 व 8वीं के बच्चों ने भाषा (लैंग्वेज) में अपनी प्रतिभा साबित की 10वीं के विद्यार्थियों का अंग्रेजी में प्रदर्शन बेहतर रहा जबकि सबसे खराब प्रदर्शन विज्ञान में रहा गणित की बात की जाए तो कक्षा 3 व 5वीं के बच्चों का 8वीं और 10वीं के बच्चों के मुकाबले प्रदर्शन बेहतर रहा ।

80 % विद्यार्थियों ने स्कूल में ही पढ़ना पसंद किया

सर्वे के मुताबिक, हर कक्षा और विषय में छात्राओं का प्रदर्शन छात्राओं से कहीं बेहतर रहा वहीं, कोरोना महामारी के दौरान घर पर पढ़ाई को लेकर पूछे गए सवालों में 80 प्रतिशत बच्चों ने माना कि स्कूल में पढ़ाई बेहतर तरीके से होती है 38 प्रतिशत ने माना कि उन्हें घर पर पढ़ाई करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा 45 प्रतिशत ने माना कि घर पर पढ़ाई करना खुशनुमा था। 24 प्रतिशत ने माना कि ऑनलाइन पढ़ाई क लिए उनके घर पर उपकरण नहीं थे 70 प्रतिशत ने माना उनके पास नई चीजें सीखने के लिए काफी समय था ।

देश के स्कूलों की संख्या – 1,18,274
शिक्षकों की संख्या – 5,26,824
विद्यार्थियों की संख्या – 34,01,158
राजस्थान के स्कूलों की संख्या – 5,947
शिक्षकों की संख्या – 25,000
विद्यार्थियों की संख्या – 1,51,423