Doctor Suicide Case - CM Gehlot and Medical Minister said that the guilty will not be spared, the audio of provoking is also viral
जयपुर राजस्थान

डॉक्टर सुसाइड मामला – सीएम गहलोत और चिकित्सका मंत्री ने कहा दोषी बख्शे नही जाऐंगे, भड़काने का ऑडियो भी वायरल

जयपुर/ राजस्थान के चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा के विधानसभा क्षेत्र लालसोट दौसा मैं एक निजी हॉस्पिटल की महिला चिकित्सक अवसाद में लाकर आत्महत्या करने पर मजबूर कर देने से विवश होकर महिला चिकित्सक द्वारा आत्महत्या कर लेने के मामले में पूरे राजस्थान में राजनीति गरमा गई है और इसको लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तथा चिकित्सा मंत्री परसादी लाल मीणा ने आज ट्वीट करके स्पष्ट रूप से कहा कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी और उनको बख्शा नहीं जाएगा चाहे वह कोई भी हो ।

Woman doctor commits suicide under pressure from agitators, wrote suicide note

विदित है कि लालसोट के कैथून रोड पर स्थित आनंद हॉस्पिटल मैं सोमवार रात को निकटवर्ती गांव से एक प्रसूता आशा देवी बेरवा 22 को प्रसव पीड़ा होने पर रात 9:00 बजे हॉस्पिटल लाया गया था जहां हॉस्पिटल की संचालक डॉ अर्चना शर्मा (उपाध्याय ) गायनोलोजिस्ट ने प्रसूता की हालत खराब होने से उसका सिजेरियन करके प्रसव कराया था लेकिन सिजेरियन के 2 घंटे बाद रात 11:00 बजे अधिक रक्तस्राव होने से उसकी हालत बिगड़ी इस पर चिकित्सकों ने उसे दो यूनिट रक्त भी चढ़ाया तथा उसे बचाने की खूब कोशिश की लेकिन उसकी मौत हो गई।

Woman doctor commits suicide under pressure from agitators, wrote suicide note

इस पर परिजनों के साथ मिलकर ग्रामीणों ने अस्पताल में हंगामा कर दिया और अस्पताल संचालक डॉ संदीप उपाध्याय तथा उनकी पत्नी डॉ अर्चना उपाध्याय के खिलाफ थाने में एक मुकदमा धारा 302 के तहत दर्ज करा दिया इससे आहत होकर डॉ अर्चना शर्मा ने कल फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

आत्महत्या से पूर्व डॉ अर्चना शर्मा ने एक सुसाइड नोट लिखा था जिसमें उसने लिखा था कि उसका इसमें कोई कसूर नहीं है और न ही उसके पति का कोई कसूर है अधिक रक्तस्राव होने पर रोगी को बचाना बहुत मुश्किल होता है हमने प्रयास किए थे अगर ऐसे कोई करेगा तो डॉक्टर का क्या होगा और मेरी मौत के साथ ही शायद मेरी बेगुनाही साबित हो डॉ अर्चना शर्मा के द्वारा आत्महत्या करने के बाद प्रदेश की राजनीति गरमा गई थी और आज प्रदेश भर में सभी चिकित्सकों ने विरोध प्रदर्शन किया वहीं दूसरी ओर इस घटनाक्रम में सोशल मीडिया पर दो ऑडियो भी वायरल हो रहे हैं।

इन ऑडियो से स्पष्ट प्रतीत हो रहा है कि परिजनों को और ग्रामीणों को भड़का कर ₹5000000 का मुआवजा दिल आने की बात की जा कर हंगामा करने और प्रदर्शन करने की सलाह दी जा रही थी यह सलाह दी सरकारी कार्मिक के द्वारा ही दी जाना ऑडियो से प्रतीत हो रहा है हालांकि इस ऑडियो की दैनिक रिपोर्टर डॉट कॉम पी नहीं करता है।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम