कुए में कूदकर प्रेमी युगल ने लगाया मौत को गले

May 2, 2018 8:31 am


लड़की का आज लिखा जाना था शादी का लग्न
टोंक (एस एन चावला)।
ज़िले के बरौनी थाना इलाके के ग्राम खंडवा में बुधवार को एक प्रेमी युगल के कुए में छलांग लगदेने से दोनों की दर्दनाक मोत हो गई। गाँव में इस खबर के फैलते हे सनसनी फैल गई। बताया जा रहा हे की लड़की(21) की शादी कई तय हो गई थी जिसका आज सुबह लगन लिखा जाना था। लेकिन उससे पहले ही उसने प्रेमी के साथ कुए में छलांग लगा दी। पुलिस के अनुसार छोटू बेरवा(25) और ललिता बेरवा(21) निवासी ग्राम खंडवा ने आपस में रस्सी से दोनों के हाथ बंधे और कुए में गिर गए। पुलिस ने ग्रामीणों के सहयोग से दोनों शव बहार निकलवाए। उल्लेखनीय रहे की 10 दिन पूर्व ग्राम सोनवा के पास भी एक ही जाती के प्रेमी युगल ने फांसी लगाकर जान दे दी थी।

Prev Post

भरतपुर मंत्री डाॅ. जसवंत सिंह यादव स्वागत

Next Post

मित्र संचालक से हुई 1.24 लाख की लूट।

Related Post

Tonk ki top news
May 10, 2022 9:33 pm
Tonk ki top news

Latest News

इलेक्ट्रॉनिक स्कूटी में ब्लॉस्ट,घर मे लगी भीषण आग, घर का सारा सामान जलकर खाक
भरतपुर में पुलिस कांस्टेबल परीक्षा का पेपर उपलब्ध कराने को लेकर झांसा देकर धोखाधड़ी करने के मामले में 5 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Trending News

उदयपुर- जयपुर -उदयपुर परीक्षा स्पेशल ट्रेन सभी अनारक्षित कोच
भाजपा नेता हत्या प्रकरण - अब मंत्री जोशी के बाद सीएम गहलोत के करीबी कांग्रेस विधायक के खिलाफ FIR
चिंतन शिविर में आज राहुल गांधी के भाषण पर निगाह, स्वीकार कर सकते हैं अध्यक्ष बनने का अनुरोध
पुलिस ने 21 चोरी की मोटरसाइकिल सहित 17 चोरों की किया गिरफ्तार

Top News

इलेक्ट्रॉनिक स्कूटी में ब्लॉस्ट,घर मे लगी भीषण आग, घर का सारा सामान जलकर खाक
राजस्थान 17 मई 2022 – Rajasthan main Aaj Ka Mausam Kaisa Rahega
भरतपुर में पुलिस कांस्टेबल परीक्षा का पेपर उपलब्ध कराने को लेकर झांसा देकर धोखाधड़ी करने के मामले में 5 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
1 महीने पहले हुई थी सगाई नवम्बर में होनी थी शादी, सड़क दुर्घटना में 24 साल के युवक की मौत
सीएम गहलोत का बड़ा आरोप, दंगे-हिंसा के पीछे बीजेपी और संघ के लोगों का हाथ
कैबिनेट मंत्री खाचरियावास का जन्मदिन आज, राज्यपाल-मुख्यमंत्री ने दी बधाई
कांग्रेस चिंतन शिविर में बोले राहुल गांधी, 'कांग्रेस के डीएनए में सब को बोलने का अधिकार'
कर्नल बैंसला ने जो पौधा लगाया उसे आज संजोने की आवश्यकता है-विजय बैंसला