jaipur sachivalaya
जयपुर राजस्थान

मंत्रियों का ब्यूरोक्रेसी से टकराव नया नहीं, साढे़ 3 साल के शासन में आधा दर्जन मंत्रियों का हो चुका है नौकरशाहों से टकराव

जयपुर। खेल मंत्री अशोक चांदना की ओर से नौकरशाही की कार्यशैली से नाराज होकर मंत्री पद छोड़ने के बयान से प्रदेश का सियासी पारा चढ़ा हुआ है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात के बाद भले ही मंत्री अशोक चांदना के सुर बदल गए हों, लेकिन सियासी गलियारों में नौकरशाही की कार्यशैली को लेकर चर्चाएं तेज हैं।

इधर दिलचस्प बात यह है कि गहलोत सरकार के साढ़े 3 साल के शासनकाल में यह कोई ऐसा पहला मामला नहीं है जब मंत्री और ब्यूरोक्रेसी के बीच टकराव हुआ हो। इससे पहले भी गहलोत सरकार के आधा दर्जन मंत्रियों की अपने ही विभाग के अधिकारियों के साथ जमकर टकराव हुआ हुआ है। सरकार के गठन के साथ ही मंत्रियों और अधिकारियों के बीच अनबन की खबरें आती रही हैं। हालांकि अकेले कांग्रेस पार्टी ही नहीं बल्कि पूर्ववर्ती वसुंधरा सरकार में भी मंत्रियों और नौकरशाहों के बीच लगातार खींचतान की खबरें आती रही हैं।

पूर्व में गहलोत सरकार के इन मंत्रियों का हुआ ब्यूरोक्रेसी से टकराव

दरअसल सरकार गठन के बाद ही गहलोत सरकार के जिन मंत्रियों का टकराव ब्यूरोक्रेसी के साथ हुआ है उनमें रमेश मीणा, विश्वेंद्र सिंह, उदयलाल आंजना, प्रताप सिंह खाचरियावास, तत्कालीन मंत्री रघु शर्मा और गोविंद सिंह डोटासरा का भी नाम शामिल है।

मंत्रियों के टकराव के बाद हुए अधिकारियों के तबादले

दिलचस्प बात यह भी है कि जिन आधा दर्जन मंत्रियों का अधिकारियों से टकराव हुआ था। उन अधिकारियों को सरकार को बदलना पड़ा। मंत्रियों की नाराजगी भापकर सरकार ने उसके बाद सरकार को इन अधिकारियों का तबादले किए थे।

इन मंत्रियों का इन अधिकारियों से हुआ था टकराव

1- तत्कालीन खाद्य आपूर्ति मंत्री और वर्तमान में पंचायती राज मंत्री रमेश मीणा का पूर्व में आईएएस मुग्धा सिन्हा से टकराव हुआ था। उसके बाद उनका तबादला किया गया।
2- पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह का पूर्व में आईएएस अधिकारी एच गुईटे और श्रेया गुहा टकराव हुआ, जिसके बाद इनका भी पर्यटन विभाग से तबादला किया गया था।
3- मंत्री उदयलाल आंजना से टकराव के टकराव के चलते आईएएस नरेशपाल गंगवार को सहकारिता विभाग से हटाकर उद्योग विभाग में लगाया गया था।
4-तत्कालीन परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास का आईएएस अधिकारी राजेश यादव से टकराव के बाद उन्हें भी परिवहन विभाग से हटाया गया था।
5-तत्कालीन चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा का भी तब एनएचएम के तत्कालीन निदेशक समित शर्मा से भर्तियों को लेकर टकराव हुआ तो उनका भी तबादला कर दिया गया था।
6-तत्कालीन शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का भी आईएएस मंजू राजपाल से टकराव हुआ था, जिसके बाद मंजू राजपाल का भी तबादला शिक्षा विभाग से कर दिया गया था।
7- खान मंत्री प्रमोद जैन भाया का भी पूर्व में खान विभाग के तत्कालीन प्रमुख सचिव दिनेश कुमार से विवाद हुआ था, जिसके बाद उनका भी तबादला खान विभाग से कर दिया गया था।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/