राजस्थान के चित्तौडगढ में फर्जी आरटीओ ऑफिस पकडा दो गिरफ्तार, बडी संख्या में लाइसेंस मिले

चित्तौडगढ/( राजेश जोशी)/ जिले की मंगलवाड थाना के दबंग सीआई ने गहन छानबीन के बाद फर्जी आरटीओ ऑफिस का खुलासा करते हुए दो युवकों को धर दबोचा और उनके पास से बड़ी संख्या में फर्जी लाइसेंस और लाइसेंस बनाने के उपकरण व सामग्री जप्त की यह युवक पिछले 7 — 8 साल से यह फर्जी …

राजस्थान के चित्तौडगढ में फर्जी आरटीओ ऑफिस पकडा दो गिरफ्तार, बडी संख्या में लाइसेंस मिले Read More »

February 14, 2021 8:08 pm

चित्तौडगढ/( राजेश जोशी)/ जिले की मंगलवाड थाना के दबंग सीआई ने गहन छानबीन के बाद फर्जी आरटीओ ऑफिस का खुलासा करते हुए दो युवकों को धर दबोचा और उनके पास से बड़ी संख्या में फर्जी लाइसेंस और लाइसेंस बनाने के उपकरण व सामग्री जप्त की यह युवक पिछले 7 — 8 साल से यह फर्जी आरटीओ ऑफिस चला रहे थे और राजस्थान सहित विभिन्न प्रदेशों के फर्जी लाइसेंस आरसी बनाकर जारी करे थे यही नहीं यह दोनों युवक फर्जी तरीके से टोल प्लाजा की पर्चियां तक भी जारी कर रहे थे ।

पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव ने यह जानकारी देते हुए बताया कि मंगलवार थाना प्रभारी विक्रम सिंह को मंगलवाड़ चौराहे पर कई ट्रक आता रुकते हैं और आसपास की होटलों में संपर्क करते हैं इस पर सीआई विक्रम सिंह ने छानबीन की तो

 

मुखबिर से उनको जानकारी मिली कि मंगलवार चौराहे पर देवेंद्र दास उर्फ देवराज नामक व्यक्ति अवैध तरीके से सभी राज्यों के ड्राइविंग लाइसेंस एवं फर्जी टोल पर्चियां तैयार करता है तथा यह कार्य बरसों से कर रहा है साथ ही कुछ अन्य फर्जी दस्तावेज भी मिनटों में तैयार कर देता है मुखबिर की सूचना विश्वसनीय होने से वारदात की पुष्टि हेतु एक डिस्काॅय ऑपरेशन किया गया पुलिस के ही कर्मचारी को सादी वर्दी में बोगस ग्राहक के तौर पर भेजा तो कुछ ही देर में उसका लाइसेंस बिल्कुल ओरिजिनल जैसा बना दिया गया जिसके अंदर चिप भी लगी थी साथ ही कुछ अन्य फर्जी दस्तावेज भी बनवाए गए इसको लेकर मंगलवाड पुलिस ने देवेंद्र दास के मकान पर दबिश दी तथा उसके घर की तलाशी लेने पर कुछ फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस काफी बड़ी संख्या में उसके द्वारा बनाए गए फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस की फोटो प्रतियां टोल नाकों की पर्चियां प्राप्त हुई मौके से चिप लगे खाली ड्राइविंग लाइसेंस के कार्ड लगभग 200 बिना चिप लगे कार्ड 48 फर्जी दस्तावेज बनाने के उपकरण लैपटॉप तोशीबा कंपनी का एक लैपटॉप एचपी सी कंपनी का एक कलर प्रिंटर कंपनी का छोटा प्रिंटर एवरीकॉम कंपनी का छोटा प्रिंटर 5 ड्राइवर मशीन शोल्डर एक ग्लू गन 16 सीटर एक हार्ड डिक्स तोशीबा कंपनी की एक टूलबॉक्स सहित कई उपकरण तथा पेनड्राइव मोबाइल सिम बरामद किए तो वहीं जिओ कंपनी के डोंगल भी बरामद हुए हैं ।

एस पी भार्गव ने बताया की देवेंद्र बैरागी पिता अर्जुन दास जाति बैरागी उम्र 33 साल निवासी सांगलिया थाना मंगलवाड हाल मंगलवाड चौराहा पर रह रहा था तथा उसके साथ ऋषि अग्रवाल पिता दिनेश अग्रवाल 25 वर्ष निवासी मंगलवाड चौराहा थाना मंगलवाड को गिरफ्तार किया गया तथा उन पर कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है वहीं इसका अनुसंधान थानाधिकारी भवानी शंकर द्वारा किया जा रहा है अनुसंधान के दौरान यह भी ज्ञात हुआ कि 5 से 7 हजार फर्जी लाइसेंस अभी तक बनाए जा चुके हैं ।

इन राज्यो के बनाए जाते थे लाइसेंस

यह लाइसेंस राजस्थान के कई जिलों से लगाकर पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश जम्मू कश्मीर गुजरात सहित पूरे भारत के राज्यों से बनाए गए हैं।
मंगलवाड कस्बा नेशनल हाईवे पर स्थित होने से संपूर्ण भारत के हर राज्य के वाहन यहां से गुजरते हैं इस कारण हर राज्य के ड्राइवर इनके संपर्क में है और आवश्यकता पड़ने पर यह फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस 15 से 20 मिनट में ही तैयार कर देता है इसके अलावा देश के विभिन्न कोनों में टोल प्लाजा निकाल कर दी जाती है इसके द्वारा ऊंची दरों की टोल की फर्जी पर्चियां निकाल कर दी जा रही थी जहां टोल ज्यादा लगता है वहां की फर्जी टोल पर्चियां निकाली जाती थी कुछ दस्तावेज इसके द्वारा पुलिस का लोगो लेकर सीएलजी सदस्यों के नाम से कार्ड भी बनाए गए।

ऐसे बनाए जाते थे फर्जी लाइसेंस

देवेंद्र बैरागी ने बताया कि वह फर्जी तरीके से लैपटॉप पर पेंटर की सहायता से ड्राइविंग लाइसेंस आरसी व टोल प्लाजा की परिचय बनाता है बरहाल पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिसमें एक मास्टरमाइंड भी है जो कि पूरे देश के फर्जी लाइसेंस तथा टोल की पर्ची बना रहे थे

कई ऐजेंट भी संदेह के दायरे मे

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि मंगलवाड पुलिस ने बड़े वह अलग अलग प्रकार के अपराधियों पर कार्रवाई की है तथा उन्होंने कहा कि अगर आवश्यकता पड़ी तो वह बड़ी एजेंटों को लेकर भी इस मामले की तह तक जाएंगे इस पूरे अपराध को खोलने में विशेष योगदान कांस्टेबल संजय कर रहा तो वही इस अपराध को खोलने में पुलिस की टीम में विक्रम सिंह पुलिस निरीक्षक देवी सिंह हैं सहायक उप निरीक्षक ललित कुमार हेड कांस्टेबल कांस्टेबल संजय कांस्टेबल भरत कांस्टेबल पूरन सिंह कांस्टेबल रामनारायण कांस्टेबल जयराम कांस्टेबल गजेंद्र सिंह कांस्टेबल रामरतन कांस्टेबल थान सिंह कांस्टेबल रिंकू राम महिला कांस्टेबल सरोज जिला साइबर टीम के राजकुमार सोनी तथा अन्य पुलिस के जवानों का योगदान रहा

Prev Post

राहुल गांधी का दौरा राजस्थान कांग्रेस में कर गया विवाद, सचिन को मंच से उतारने के मामले ने पकडा तूल

Next Post

राजस्थान के श्रीगंगानगर में बिक रहा देश का सबसे महंगा पेट्रोल-डीजल

Related Post

Latest News

पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi

Trending News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 

Top News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन.. 
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi
राजस्थान में PFI पर शिकंजा कसने के कलेक्टर व एस पी को दिए अधिकार, पदाधिकारी भूमिगत
गहलोत नही लडेंगे चुनाव, सिंह कल भरेंगे नामांकन,राजस्थान पर फैसला आज