जोधपुर राजनीति राजस्थान

CAA को लेकर एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी BJP सरकार:शाह

Jodhpur News – केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah)ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून (CAA)के मुद्दे पर सरकार एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी। कांग्रेस और अन्य दल चाहें जितनी गलत सूचना फैला सकते हैं। उन्होंने कटाक्ष लेते हुए कहा कि राहुल बाबा, अगर कानून पढ़ा है तो इस पर चर्चा करने के लिए आ जाइए। अगर नहीं पढ़ा है तो मैं आपको इटली में इसका अनुवाद कर भेजने के लिए तैयार हूं।

वे शुक्रवार को दोपहर में यहां कमला नेहरू नगर स्थित आदर्श विद्या मंदिर स्कूल के केशव परिसर में सीएए  और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर  (NRC) के समर्थन में जनजागरण सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सीएए को लेकर कांग्रेस ने दुष्प्रचार अभियान शुरू किया है। अगर वे खिलाफ जाते हैं तो हम समर्थन के लिए जाएंगे।

कांग्रेस, ममता दीदी, एसपी, बीएसपी, केजरीवाल एण्ड कंपनी सभी इस कानून का विरोध कर रहे हैं। इन सभी को मैं चुनौती देता हूं कि वे साबित करे कि इससे किसी अल्पसंख्यक को नुकसान होगा। राहुल बाबा और ममता दीदी को पूछना चाहता हूं कि पड़ोसी देशों में जो प्रताडऩा हुई, उनका मानवाधिकार कहां गया था। शरणार्थियों की किसी ने चिंता नहीं की।

56 इंच की छाती वाला मोदी आया। उसने कहा इन लोगों की चिंता मैं करूंगा। महात्मा गांधी ने कहा था कि जो भी आएंगे, उन्हें हम बसाएंगे लेकिन कांग्रेस वोट बैंक के चक्कर में अपना वादा पूरा नहीं कर सकी। इनको लगता है कि वोट बैंक टूट जाएगा। सताए हुए प्रताडि़त लोगों को नागरिकता देना उनके मानवाधिकार की रक्षा करना है।

विपक्ष बेवजह आमजनता को गुमराह कर रही है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी इन शरणार्थियों को नागरिकता देने की मंाग की थी।

शाह ने कहा कि पड़ौसी देशों पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश आदि से प्रताडि़त होकर आने वाले ये शरणार्थी भी इंसान है। अगर इन लोगों को यहां रहने को जगह नहीं दी तो ये लोग कहां जाएंगे। उन्होंने ममता बनर्जी पर भी निशाना साधा और कहा कि वे पूछना चाहते है कि आखिर वह इन लोगों को विरोध क्यों कर रही है? कानून किसी विशेष धर्म के खिलाफ नहीं है। यह कानून यहां रहने वाले लोगों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा।

भारत   आए शरणार्थी भाई हमारे हैं और उन्हें सम्मानित स्थान प्रदान करना भारत सरकार की जिम्मेदारी है।

शाह ने कहा मैं स्पष्ट तौर पर कहना चाहता हूं कि सीएए में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जिससे किसी की नागरिकता जा सकती है। जनगणना 2021 और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर का राष्ट्रीय नागरिक पंजीयन से कोई लेना-देना नहीं है। जनगणना और एनपीआर देश में हर दस साल पर होते है और इस बार भी यह दस साल के बाद हो रहा है। कांग्रेस ने इसे बार-बार किया है। आज वह उसका विरोध कर रही है।

कांग्रेस ने वीर सावरकर जैसे महान इंसान का अपमान किया है।  शाह ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आज मौसम बेईमान है। मुख्यमंत्री कॉलेज का फीता काट रहे हैं, लेकिन दूसरी ओर शाह आए है। कोटा में मासूमों की जीवन डोर कट रही है, लेकिन आवाज उठाने वालों पर डण्डा चलाते हो।

गहलोत किस मुंह से आपके बीच आते है। रोजगार की मांग, किसानों की मांग पूरी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि धर्म के आधार पर बंटवारा कांग्रेस ने किया था। गहलोत ने भी तीन बार पत्र लिखकर यह मांग दोहराई थी। अब जब नागरिकता देने की बारी आई तो वह खुद इसका विरोध कर रहे हैं।

केंद्रीय गृह मंत्री एयरपोर्ट से सीधे सीमा सुरक्षा बल (BSF) के ऑफिसर्स मैस गए। बीएसएफ राजस्थान सीमांत के पुलिस महानिरीक्षक अमित लोढ़ा ने उनकी अगवानी की।  उन्होंने अधिकारियों के साथ भारत-पाक सीमा पर तैनात सुरक्षा व्यवस्था को लेकर चर्चा की।  बाद में उन्होंने जवानों से मुलाकात भी की।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया(Satish Poonia) ने गहलोत को घेरते हुए कहा कि कोटा में बच्चों की जीवन की डोर कट रही है और मुख्यमंत्री यहां अपने गृहनगर में फीते काट रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने जोधपुर में भी गहलोत के खिलाफ अशोभनीय भाषा का इस्तेमाल किया।

Firoz Usmani
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।