पंजाब-राजस्थान सीमा के भीतर नहर की मरम्मत की तैयारी

Bikaner news ।  विश्व की सबसे बड़ी मानव निर्मित इंदिरा गांधी नहर की पंजाब और राजस्थान सीमा के अंदर मरम्मत की तैयारी चल रही है। ठेकेदारों ने मरम्मत का सामान मंगवाना शुरू कर दिया है। हालांकि अभी रबी का पानी चल रहा है और 21 मार्च तक नहर की मरम्मत होना संभव नहीं है, लेकिन …

पंजाब-राजस्थान सीमा के भीतर नहर की मरम्मत की तैयारी Read More »

October 27, 2020 3:55 pm

Bikaner news ।  विश्व की सबसे बड़ी मानव निर्मित इंदिरा गांधी नहर की पंजाब और राजस्थान सीमा के अंदर मरम्मत की तैयारी चल रही है। ठेकेदारों ने मरम्मत का सामान मंगवाना शुरू कर दिया है। हालांकि अभी रबी का पानी चल रहा है और 21 मार्च तक नहर की मरम्मत होना संभव नहीं है, लेकिन मरम्मत के लिए तैयारी अभी से शुरू हो गई है। 


पिछले साल ही पंजाब ने नहर की मरम्मत के लिए टेंडर कर दिए थे। करीब 2000 करोड़ रुपये के टेंडर अलग-अलग हुए हैं। कुछ सामान बीते साल ही मंगा लिया गया था, लेकिन कोरोना के कारण न तो श्रमिक मिले और न मशीनें, इसलिए पिछले साल नहर की मरम्मत को टाल दिया गया था। इस साल यदि लॉकडाउन नहीं लगा तो मरम्मत का काम रबी का पानी बंद होते ही शुरू हो जाएगा।


पंजाब पर राजस्थान और केंद्र सरकार का लगातार दबाव बन रहा है कि पंजाब के अधीन आने वाली इंदिरा गांधी नहर जर्जर हो चुकी है और कभी भी राजस्थान का पानी बंद हो सकता है इसलिए नहर की मरम्मत अति आवश्यक है। हालांकि बीते 2 सालों से पंजाब टेंडर नहीं कर पा रहा था, लेकिन 2019 में टेंडर प्रक्रिया पूरी हो चुकी थी। इसके लिए 70 दिन की नहरबंदी ली जाएगी जो पिछले साल होनी थी, वह अब होगी। 

जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता विनोद मित्तल के अनुसार नहर की मरम्मत के लिए ज्यादा कोई तैयारी नहीं करनी है, क्योंकि तैयारी 6 साल पहले हो चुकी थी। सिर्फ आर्डर जारी होना है। उम्मीद है कि इस साल नहर की मरम्मत शुरू हो जाएगी। पंजाब अपने इलाके में मरम्मत करेगा और राजस्थान में भी नहर की मरम्मत जारी रहेगी। विभाग ने बताया है कि 70 दिन की नहरबंदी का प्लान पिछले साल ही जलदाय विभाग और इंदिरा गांधी नहर अभियंताओं के बीच बन गया था लेकिन कोरोना के कारण इसे टाल दिया गया। वही पैटर्न इस साल भी अपनाया जाएगा। 


नहरबंदी के शुरुआती 40 दिनों तक लगातार नहर से पीने का पानी मिलता रहेगा लेकिन अंतिम 30 दिनों में पानी पूरी तरह बंद रहेगा। शुरू के 40 दिन में डिग्गी और जलदाय विभाग के जलाशय भरे जाएंगे लेकिन 30 दिन पूरी तरह पानी बंद होगा और मौजूद पानी में ही जलदाय विभाग को 30 दिन काटने होंगे। उधर बीकानेर में जल भंडारण की क्षमता 18 दिन से ज्यादा की नहीं है। नहरबंदी में 30 दिन का पानी पूरी तरह बंद रहेगा। इस दौरान एक दिन छोड़कर सप्लाई मिलेगी। 

Prev Post

मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद 3 आरोपित गिरफ्तार

Next Post

मंगलवार को रुपया 13 पैसे मजबूत होकर 73.71 रुपये प्रति डॉलर पर हुआ बंद

Related Post

Latest News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा
मुख्यमंत्री कौन होगा काउंट डाउन शुरू : सचिन पायलट सहित ये प्रमुख नाम