कांग्रेस के पूर्व विधायक विवेक की हत्या की ? सवालों के घेरे में पत्नी और परिजन

Dr. CHETAN THATHERA
5 Min Read

भीलवाड़ा। कांग्रेस के युवा नेता और भीलवाड़ा जिले की मांडलगढ़ विधानसभा सीट से पूर्व विधायक विवेक धाकड़ की मौत कई सवाल खड़े कर रही है दिवंगत विवेक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट और घटनास्थल के हालात अब संदेह पैदा कर रहे हैं की विवेक आत्महत्या की या उनकी हत्या की गई ? विवेक की मौत के 5 दिन बाद भी पुलिस इस गुत्थी को अभी तक नहीं सुलझा पाई है और इस घटनाक्रम में दिवंगत धाकड़ की पत्नी और परिजन भी सवालों के घेरे में आ गए हैं ।

जिले की मांडलगढ़ विधानसभा सीट से पूर्व विधायक और कांग्रेस नेता विवेक धाकड़ (47) 4 अप्रैल को अपने घर में ही हाथ की नसें काट कर आत्महत्या कर ली थी यह प्रथम दृष्टया सामने आया था और कोरमोक पर पुलिस को उनके कमरे में पंखे से सफेद का फंदा लगा हुआ अभी मिला था। 4 अप्रैल को सवेरे जब विवेक धाकड़ अपने कमरे में कुर्सी पर अचेत अवस्था में मिले और उनके हाथ से खून बड़ा था तब परिजनों से अस्पताल ले गए जहां चिकित्सकों ने उसे अमृत घोषित कर दिया था और उसे समय चिकित्सा कौन है मेडिकल साइंस के हिसाब से बताया था कि विवेक की मौत 8 से 10 घंटे पहले ही हो चुकी थी।

Advertisement

विवेक धाकड़ का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम हुआ था जिसकी रिपोर्ट मंगलवार को आई इस रिपोर्ट में सबको चौका कर रख दिया जिसमें चिकित्सकों के मेडिकल बोर्ड ने परीक्षण के बाद रिपोर्ट में खुलासा किया कि विवेक धाकड़ की मौत फांसी का फंदा लगने से हुई थी ?

विवेक ने आत्महत्या की यह हत्या ? तथा यह सवाल है जो…

मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार विवेक की मौत फांसी लगने से हुई थी तो फिर घटना के दिन विवेक कुर्सी पर कैसे अचेतावस्था में बैठा हुआ मिला ? फांसी का फंदा लटका हुआ था फांसी के फंदे से विवेक को किसने उतरा था? विवेक को मौत फंदे से उतर कर कुर्सी पर किसने बिताया था? विवेक की हाथ की नसें काटी गई थी ? क्योंकि मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार विवेक की मौत फांसी के फंदा लगने से हुई तो फिर हाथ की नसें एक मृत व्यक्ति कैसे काट सकता है ?

घटना वाले दिन चिकित्सकों के अनुसार की विवेक धाकड़ की मौत 8 से 10 घंटे पहले हुई थी तो फिर परिजनों को और उनकी पत्नी पद्मिनी धाकड़ तथा उनके पिता इंजीनियर कन्यालाल धाकड़ को जो कि दोनों के कमरे विवेक के पास ही हैं कैसे पता नहीं चला

S.C.G.C.I SCHOOL TONK
ADVERTISEMENT

घटना वाले दिन इंजीनियर धाकड़ का यह बताना कि वह मॉर्निंग वॉक से आए तब विवेक धाकड़ को कुर्सी पर अचेतावस्था में बैठा हुआ देखा और हाथ की नसें कटी हुई देखी थी तब पड़ोसी को चिल्ला कर बुलाया अस्पताल लेकर जबकि दूसरी ओर विवेक धाकड़ की पत्नी पद्मिनी का यह कहना है की घटना वाले दिन वह दीदी के साथ उसके कमरे में नहीं सोकर अलग सोई थी और सवेरे जब वह स्कूल अपनी ड्यूटी पर( राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सुभाष नगर में तृतीय श्रेणी शिक्षिका के पद पर कार्यरत है) जाने लगी तब उसे पता चला ?

ADVERTISEMENT

 

अगर पद्मिनी धाकड़ और इंजीनियर कन्यालाल धाकड़ की बातों को माना जाए तो फिर विवेक धाकड़ को फांसी के फंदे से उतर कर किसने कुर्सी पर बिठाया था और हाथ के नशे किसने काटी ?

यह ऐसे सवाल है जो विवेक धाकड़ की मौत को आत्महत्या की बजाय हत्या की ओर उंगली उठा रहे हैं और इसी के साथ ही यह सभी सवाल विवेक धाकड़ की पत्नी पद्मिनी धाकड़ पिता इंजीनियर कन्यालाल धाकड़ और उनके परिजनों को संदेह के दायरे में खड़ा करते है । अब पुलिस भी हत्या के आशंका से इनकार नहीं कर रही है ? विवेक की मौत का कारण संपत्ति या फिर……

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम