भीलवाड़ा

शिक्षा विभाग गबन मामला– पुलिस ने सुवालका को पकड क्यों छोडा ? क्या दबाब मे है ? लाखो का गबन फिर भी पुलिस…

Bhilwara News ।फर्जीवाड़ा कर गबन करते हुए राजकोष को लाखों रुपए की चपत लगाने के आरोपी को पुलिस ने मुकदमा दर्ज होने के बाद भी गिरफ्तार करने के बजाए आज बुलाकर पूछताछ करके आखिर क्यों छोड़ दिया ? क्या पुलिस दबाव में है ? या फिर … । लाखों रुपए के गबन के आरोपी को आज तक गिरफ्तारी नहीं करने को लेकर पुलिस की कार्यप्रणाली पर उंगलियां उठने लगी है ।

शिक्षा विभाग के कोटडी स्थित मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय में संविदा पर कार्यरत कंप्यूटर ऑपरेटर गोपाल सुवालका द्वारा प्रधानाध्यापक और सीबीईओ की पासवर्ड और आईडी के माध्यम से वेतन के बिलों में फर्जीवाड़ा करते हुए फर्जी आईडी से शिक्षा विभाग के राजकोष में करीब 80 लाख की चपत लगाते हुए उक्त राशि अपनी पत्नी दिलखुश के कोटड़ी स्थित एसबीआई बैंक में जमा कराई और यह पूरा खेल पिछले 10 सालों से अधिक चल रहा था ।

इस मामले का खुलासा होने पर गेगा का खेड़ा के प्रिंसिपल द्वारा बड़लियास थाने में एक एफ आई आर तथा कोटडी ब्लॉक सी बी ई ओ बलराम मीणा द्वारा कोटड़ी थाने में एफ आई आर दर्ज कराई । दो थानों में दो एफ आई आर दर्ज होने के बाद पुलिस ने गबन के आरोपी गोपाल सुवालका को थाने में बुलाकर मामूली पूछताछ करके उसे छोड़ दिया आखिर क्यों ?

जबकि सवाल यह उठता है कि पुलिस मामूली से मारपीट के मामले में या छोटी मोटी घटना के आरोप में भी आरोपी को तत्काल गिरफ्तार करने में कोताही नहीं बरती है तो फिर इस मामले में क्यों ? जबकि राजकोष में गबन का मामला अत्यंत गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है ।

राजकोष में एक रुपए का गबन भी अत्यंत गंभीर माना जाता है और यहां तो 8000000 रुपए का गबन का मामला दर्ज होने के उपरांत भी आज चौथा दिन होने के बाद भी पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार तक नहीं किया आखिर क्या वजह है ? क्या पुलिस दबाव में है ? इतनी बड़ी राशि के गबन के आरोपी को खाली फोरी पूछताछ के बाद खुला छोड़ देने को लेकर पूरे जिले में इस प्रकरण में पुलिस की भूमिका को लेकर जहां चर्चाओं का बाजार गर्म है वहीं दूसरी ओर पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर भी उंगलियां उठाई जा रही है ।

आरोपी गोपाल सुवालका को पुलिस द्वारा गिरफ्तार नहीं किए जाने की वजह से आज सुवालका पुलिस गिरफ्त से दूर होने के कारण कल सुवालका ने आईडी पासवर्ड से फिर छेड़छाड़ कर जांच को प्रभावित करने की कोशिश की थी ?

कोटडी व बडलियास थानो मे दर्ज एफआईआर की स्थिति

कोटडी
परिवादी- बलराम मीणा( कार्यवाहक सीबीईओ कोटडी)

आरोपी- गोपाल सुवालका व दिलखुश पत्नी गोपाल सुवालका
मुकदमा नबंर –0126 दिनांक 27/8/21

धाराएं– 467,468,471, 429,408, व 120 बी

बडलियासथाना
परिवादी- चन्द्रवीर सिंह प्रिंसिपल राजकीय उच्चमाध्यमिक विद्यालय

आरोपी-गोपाल सुवालका( संविदा कंप्यूटर ऑपरेटर)

मुकदमा नबंर–0120 दिनांक
12/8/21
धाराएं–420, 467,468,

पुलिस ने कर दिया मना क्या…

कोटडी ब्लॉक में रीट गांव स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय मैं भी वेतन बिलों का कार्य सीबीपीओ में संविदा पर कार्यरत कंप्यूटर ऑपरेटर गोपाल सवाल का द्वारा ही किया जाता था यहां पर भी वेतन बिलों में फर्जीवाड़ा का खुलासा होने पर विद्यालय के कार्यवाहक प्रिंसिपल किशोर कुमार जीनगर मुकदमा दर्ज कराने के लिए कोटड़ी थाने में गए तो वहां पुलिस अधिकारियों ने मुकदमा दर्ज करने के बजाए उनको वहां से रवाना कर दिया

 

इनकी जुबानी

शिक्षा विभाग से जांच रिपोर्ट नही मिली है जांच रिपोर्ट मिलते ही त्वरित कार्रवाई की जाएगी

विकास शर्मा
पुलिस अधीक्षक भीलवाडा

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम