राजस्थान मे नेता रासलीला मे व्यस्त, पशु मर रहे पानी के अभाव मे

Bhilwara News। राजस्थान सरकार के मंत्री और विधायक पांच तारा होटलों में आराम कर रहे हैं। वहीं प्रदेश पानी किल्लत से जूझ रहा है। मनुष्य तो जैसे तेसै पानी का इंतजाम कर रहे हैं, लेकिन मूक प्राणी पानी के अभाव में काल का ग्रास बन रहे हैं। विशेषकर रेगिस्तानी क्षेत्र में ऊंटों स्थिति बहुत खराब …

राजस्थान मे नेता रासलीला मे व्यस्त, पशु मर रहे पानी के अभाव मे Read More »

June 15, 2020 5:59 pm

Bhilwara News। राजस्थान सरकार के मंत्री और विधायक पांच तारा होटलों में आराम कर रहे हैं। वहीं प्रदेश पानी किल्लत से जूझ रहा है। मनुष्य तो जैसे तेसै पानी का इंतजाम कर रहे हैं, लेकिन मूक प्राणी पानी के अभाव में काल का ग्रास बन रहे हैं। विशेषकर रेगिस्तानी क्षेत्र में ऊंटों स्थिति बहुत खराब है। ट्विटर(Twitter) पर एक हैडिल ने कहा नेता कर रहे है रास लीला और राजस्थान मे पशु पानी के आभाव मे तोड रहे है दम ।।

बायतु विधानसभा क्षेत्र के खोखसर बागथल गांव में पानी की टोह में भटकते हुए एक ऊंट ने खैल (पानी का टांका) पर पहुंचकर प्राण त्याग दिए। क्योंकि खैल में एक बूंद भी पानी नहीं था। इससे पहले भी निम्बाणियों की ढाणी के पास स्कूल के आगे इसी तरह दो ऊंटों की पानी के अभाव मौत हो चुकी है।

ग्रामीणों के अनुसार क्षेत्र में ऊंट ही नहीं पानी के अभाव में गोवंश भी इसी तरह धौरों में भटकते मर रहा है। ऊंट के मरने का वीडियो सोशल मीडिया खूब वायरल हुआ है। लोग सरकार, मंत्री, सांसद और विधायकों से ट्विटर पर खूब प्रश्न कर रहे हैं। आखिर पेयजल की किल्लत को लेकर समाधान क्यों नहीं हो रहा है। मूक प्राणियों के लिए सरकार की ओर से क्या प्रबंध किए जा रहे हैं। उल्लेखनीय है ऊंट राजस्थान का राजकीय पशु है। बावजूद प्रदेश में ऊंटों की तस्करी होती रही है।

सोशल मीडिया उपयोग कर्ताओं ने ट्विटर(Twitter) पर #राज्यपशुकोन्यायदो नाम से एक अभियान भी चलाया है। मुख्यमंत्री और सरकार को टैग करके संदेश भेजे रहे हैं। ट्विटर उपयोगकर्ता जगदीश राम जाखड़ ने लिखा हैं- अब तक हजारो लोगो ने ऊंट पर पोस्ट कर संवेदना जताई। लेकिन अभी तक एक भी नेता ने नैतिक जिम्मेदारी लेना तो दूर की बात संवेदना तक नही जताई।

जीवराज भांबू ने लिखा हैं– “राजस्थान का राज्य पशु ऊंट प्यास से तड़प तड़प कर मर गया लेकिन राज्य के सीएम को कोई मतलब नही है ऊंट मरे तो मरे। राज्य सरकार विधायकों के बाड़े बंदी में व्यस्त है।

कालूराम सजनानी नाम के हैंडिल से लिखा गया है- हमारे नेता मौज से मदिरा, मांस-भक्षण, सुंदरता और व्यसन पर सरकारी पैसे खर्च करके मौज करेगे अगर कोई बेजुबान पशु प्यास से तड़प तड़प कर मर जाये, तो ये सिर्फ देखते रहंगे ओर अपनी रास लीला में व्यस्त रहेंगे इनको कोई फर्क नही पड़ता।

पीपुल फॉर एनिमल्स के प्रदेश प्रभारी बाबूलाल जाजू कहते हैं– सरकार ने ऊंट को पर्यटन का अंग तो बना लिया लेकिन इसके संरक्षण के उपाय नहीं किए। जंगलों में बने वन विभाग के कई टांके भी सूखे है, इसलिए पैंथर व अन्य जंगली जानवर भी भोजन- पानी की तलाश में गांवों में काल का ग्रास बन रहे हैं। सरकार को राजनीति छोड़कर मूक प्राणियों की व्यवस्था करनी चाहिए।

Prev Post

शहर का गांधी नगर बना हाॅटस्पाॅट, कराया सर्वे, 50 होम क्वारंटाइन

Next Post

वेजिटेबल एंड फ्रूट डिसइन्फेक्टेंट रसोई के लिए जरूरी, केंट करता है इसे पूरी

Related Post

Latest News

पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi

Trending News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 

Top News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन.. 
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi
राजस्थान में PFI पर शिकंजा कसने के कलेक्टर व एस पी को दिए अधिकार, पदाधिकारी भूमिगत
गहलोत नही लडेंगे चुनाव, सिंह कल भरेंगे नामांकन,राजस्थान पर फैसला आज