पढाई ही नही फिर भी 5 वीं बोर्ड परीक्षा की तैयारी, कैसे होगी परीक्षा

Forest Guard Direct Recruitment Exam on 12th and 13th November

भीलवाड़ा/।  शिक्षा बचाओं संघर्ष समिति के प्रदेश संयोजक व भीलवाड़ा जिला निजी शिक्षण संस्थान के जिलाध्यक्ष अर्जुन देवलिया ने बताया कि एक दिन भी कक्षा नहीं लगी फिर भी शिक्षा विभाग परीक्षा लेने की तैयारी कर रहा है, जब पढ़ाई ही नहीं हुई तो बच्चे कैसे परीक्षाएं देगें। भीलवाड़ा के ही नहीं अपितु सम्पूर्ण राजस्थान के अभिभावक जिनके बच्चे 1 से 5 के बीच पढ़ रहे है वह ये सवाल उठा रहे है ?

सरकार के 25.02.2021 के आदेश क्र. 336 का निर्देश देते हुए बोर्ड फार्म भराने की तैयारी कर ली है, जबकि सरकारी और निजी स्कूल कोई भी एक दिन भी संचालित नहीं हुआ। निर्देशालय की बात करे तो कक्षा 5वीं व 8वीं की परीक्षा अप्रैल में आयोजित होगी। ये बात निदेशक महोदय ने पहले ही स्पष्ट कर दी। राजस्थान में कोरोनाकाल के चलते पिछले साल 15 मार्च से आज दिनांक तक स्कूलें बन्द है।

अर्जुन देवलिया ने बताया कि जिन बच्चों ने चैथी कक्षा की परीक्षा नहीं दी, उन बच्चांे को 5वीं की परीक्षा के लिये बाध्य किया जा रहा है, जो बच्चे अभी कक्षा पांच में है, उन्होंने कक्षा तीन की परीक्षा दी थी। अब उन्हें सीधे कक्षा 5वीं की परीक्षा देनी है वो भी बिना पढ़ाई के ? प्रतिदिन जिले से निजी स्कूल संचालकों को अभिभावकांे द्वारा बताई जा रही व्यथा के सैकड़ों फोन आ रहे है, जिला शिक्षा अधिकारी से भी संतोषप्रद जवाब नहीं मिल पा रहा है कि 1 से 5वीं तक की स्कूलें कब खुलेगी ? आॅनलाईन पढ़ाई केवल शहरी क्षैत्र में 10 प्रतिशत स्कूलों द्वारा ही कराई जा रहा है, गांवों में तो इसका आकड़ा और भी भयानक है। गांवांे में अभिभावकांे के पास स्मार्टफोन व नेटवर्क की समस्या के चलते आॅनलाईन की पढ़ाई बिल्कुल 0 प्रतिशत है। ऐसे में सरकार को उचित निर्णय लेकर शिक्षा के मंदिर मंे ज्ञान की गंगा की जगह असमजंस की स्थिति का सामना करने रहे अभिभावकों एवं निजी स्कूल संचालकों को राहत प्रदान करना अतिआवश्यक है।