बालिका शिक्षा में अग्रणी निजी विश्वविद्यालय मोदी विश्वविद्यालय में अब सिविल सर्विसेज की भी तैयारी सुविधा शुरू

Dr. CHETAN THATHERA
7 Min Read

भीलवाड़ा/ राजस्थान के शेखावाटी अंचल के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ में स्थित मोदी विश्वविद्यालय देश में निजी विश्वविद्यालयों में बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने और बालिकाओं को रोजगार प्ले अग्रणी भूमिका निभा रहे है मोदी विश्वविद्यालय में अब सिविल सर्विसेज अर्थात यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी प्रारंभ कर दी गई है ।

यह तैयारी ऑनलाइन और ऑफलाइन भी रहेगी बालिकाओं को सिविल सर्विस की तैयारी देने के साथ साथ ही मौसी मोदी विश्वविद्यालय ने सिविल सर्विसेज की तैयारी के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत युवाओं को भी कोर्सेज की सुविधा देने की प्रक्रिया शुरू कर दी है मोदी विश्वविद्यालय में महिला वैज्ञानिक बिहार हो रहे हैं यह वैज्ञानिक न्यूक्लियर साइंस इसे के माध्यम से तैयार हो रहे हैं जो अभी केंद्र सरकार का भी विजन है ।

राजस्थान के शेखावाटी अंचल के सीकर जिले मे स्थित लक्ष्मणगढ़ स्थित मोदी विश्वविद्यालय द्वारा 23 जुलाई को भीलवाड़ा के होटल ट्यूलिप में सुबह 11 बजे प्रेस कांफ्रेंस “संवाद” का आयोजन किया गया। इसमें भीलवाड़ा के मुख्य इलेक्ट्रोनिक और प्रिन्ट मोडिया के पत्रकारों से विश्वविद्यालय ने शुरू होने वाले नये सत्र से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी साझा की।

विश्वविद्यालय का 265 एकड़ का विशाल कैम्पस शिक्षा द्वारा नारी सशक्तिकरण के अभियान को सतत् आगे बढ़ा रही है। राजस्थान सहित देशभर के छात्राओं के लिए मोदी विश्वविद्यालय ने इस साल भी कुछ खास छात्रवृति की घोषणा की। इसके साथ ही शिक्षा के नये परिदृश्य और मोदी विश्वविद्यालय के वर्तमान परिपेक्ष्य को लेकर भी मिडिया से रूबरू हुए।

मोदी विश्वविद्यालय के डीजीएम एडमिशन प्रबीण झा ने सबसे पहले देश भर के सभी छात्र छात्राओं को 12वी के परिणाम के लिए बधाई दी।

मोदी विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ लिबरल आर्ट्स एंड साइसेंस, स्कूल ऑफ इंजिनयरिंग, स्कूल ऑफ लॉ, स्कूल ऑफ डिजाइन एवं स्कूल ऑफ बिजनेस में विभिन्न स्नातक एवं स्नातकोत्तर के साथ पीएचडी के भी कोर्स कराये जाते हैं।

विश्वविद्यालय में कई स्किल बेस्ड कोर्सेस मसलन डेटा साइंस, मशीन लर्निंग, फॉरेनसिक साइंस, फूड एंड न्यूट्रीशयन, फिजयोथेरेपी, जर्नलिज्म एंड मास कम्यूनिकेशन, बॉयोमेडिकल एवं न्यूक्लियर साइंस एंड टेक्नोलॉजी जैसे सरीखे कोर्स जो कि पूर्णतः कौशल आधारित है और छात्राओं को बेहतर भविष्य की ओर ले जाता हैं।

छात्राओं को रोजगारोन्मुख बनाने के लिए विश्वविद्यालय ने वर्तमान सत्र से डी फार्मा कोर्स की भी शुरूआत की।

सभी वर्गों को शिक्षा का समान अवसर मुहैया कराने के उददेश्य से विश्वविद्यालय ने ऑनलाईन माध्यम की भी शुरूआत की है जिसके अर्न्तगत बीए, बीकॉम, एम कॉम के साथ ही एमबीए और एमसीए जैसे विभिन्न कॉसेस करवाए जाएगें। इस माध्यम में छात्राओं के साथ छात्र भी दाखिला ले सकते हैं।

आरएएस, पीसीएस एवं आइएएस जैसे परिक्षाओं के तैयारी के लिए विश्वविद्यालय कैंपस में ही छात्राओं को विशेष सुविधा प्रदान कर रही है और इसके लिए प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान समकल्प, नई दिल्ली से अनुबंध किया गया है ताकि छात्राओं को स्नातक के दौरान ही तैयारी का बेहतर अवसर प्राप्त हो सके।

मोदी स्कूल और विश्वविद्यालय छात्राओं की शिक्षा को अनवरत जारी रखना चाहती है और इसी के मददेनजर स्कूल एवं विश्वविद्यालय कई स्तर पर छात्राओं के लिए छात्रवृति लेकर आयी है, ताकि आर्थिक स्थिती किसी के भी शिक्षा में रूकावट न बन सके। छात्रवृति स्नातक और स्नातकोत्तर दोनों के लिए लागू है।

इसके साथ ही मोदी विश्वविद्यालय की विशेष छात्रवृति योजना के तहत, पुलिस, सेना और अर्द्धसैनिक बलों में कार्यरत या सेवानिर्वत जवानों के बच्चों को पुरी पढ़ाई के दौरान ट्यूशन फी में 35 प्रतिशत की छात्रवृति प्रदान की जाएगी।

मोदी विश्वविद्यालय के कैरियर डेवलपमेंट सेल द्वारा छात्राओं को इंर्टनशिप एवं प्लेसमेंट का भी अवसर प्रदान करती है। विभिन्न संकाय की छात्राओं को उनकी दक्षता के अनुसार देश विदेश की नामी गिरामी कम्पनियों में कार्य करने का अवसर मिलता है। छात्राओं को बेहतर अवसर प्रदान करने के लिए विश्वविद्यालय ने कई इंटरनेशनल कॉलेबोरेशन भी किया है।

मोदी विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ ऐटिकेट एंड फिनीशिंग में छात्राओं को कई तरह के स्किलस सिखाये जाते है जो इन्हें हर माहौल के अनुकूल बनाता है। इसके साथ ही विशेष इंगलिश लैंग्वेज ट्रेनिंग कैम्प का भी आयोजन करती है ताकि बच्चे इंटरव्यू में बेहतर प्रर्दशन कर सकें।

छात्राओं के सर्वागिण विकास में शिक्षा के साथ साथ अन्य पाठ्येत्तर गतिविधियों की भी अहम भूमिका रहती है और इसके विकास के लिए विश्वविद्यालय स्र्पोटस, घुड़सवारी, एनसीसी, एनएसएस जैसे माध्यम छात्राओं को मुहैया कराती है।

मोदो विश्वविद्यालय शिक्षा के साथ संस्कार की जरूरत को समझते हुए छात्राओं को योगा, वैदिक शिक्षा मेडिटेशन जैसे कार्यक्रमों से भी जोड़ कर रखती है ताकि छात्राएं हर परिस्थिती का सामना धैर्य एवं मजबूत मानसिकता के साथ कर सके ।

छात्राओं को वर्तमान टेक्नोलॉजी से रूबरू रखने के लिए विश्वविद्यालय में आधुनिक सुख सुविधाओं से युक्त इनक्यूबेशन सेंटर की भी स्थापना की गयी जिसमें छात्राएं उद्यमिता एवं स्टार्ट अप के सभी गुर को सिखती और आजमाती है।

इसके साथ ही माइक्रोसॉफट, सिस्को, आइबीएम, इन्फोसिस जैसे साफटवेयर कम्पनियों ने भी विश्वविद्यालय का कोलेबोरेशन है, ये कम्पनियों छात्राओ को वर्तमान टेक्नॉलाजी से अवगत कराते रहती है ताकि छात्राएं भविष्य की तकनिक के अनुरूप खुद को तैयार कर सके ।

12वीं के परिणाम घोषित होने के साथ ही मोदी विश्वविद्यालय अलग अलग राज्यों और शहरों में बड़े पैमाने पर छात्राओं से रूबरू होकर उन्हें उचित कैरियर परामर्श भी मुहैया करा रही है। मोदी विश्वविद्यालय का ये क़वायद निश्चित रूप से छात्राओं को भविष्य की सही दिशा प्रदान करेगा । प्रेस वार्ता को यूनिवर्सिटी के कॉर्डिनेटर कुबेर सिंह ने भी संबोधित किया।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम