जहाजपुर में जीवित महिला को मृत बता दो हिस्सेदारों को किया था वंचित, चार आरोपियों का अपराध प्रमाणित

तत्कालीन एसपी को दिए गए परिवाद में ममता देवी ने बताया कि उसके पिता किशन नाथ के दो पत्नियां थी।

September 10, 2022 11:54 am
जहाजपुर में जीवित महिला को मृत बता दो हिस्सेदारों को किया था वंचित, चार आरोपियों का अपराध प्रमाणित

जहाजपुर (आज़ाद नेब) उपखंड क्षेत्र के शक्करगढ़ निवासी स्व. किशन नाथ पुत्र लालू नाथ की पुत्री ममता नाथ जो वर्तमान में मंगोलपुरी नई दिल्ली में अपने पति दिनेश नाथ के साथ रहती है। पीड़ित महिला ममता नाथ द्वारा 11 अगस्त 2017 को भीलवाड़ा के तत्कालीन एसपी प्रदीप मोहन शर्मा से फरियाद लगाई थी कि शक्करगढ़ गांव में उनकी पुश्तैनी खेती की जमीन को हड़पने की नियत से शक्करगढ़ ग्राम पंचायत के तत्कालीन सरपंच, सचिव, व पटवारी ओर उसकी सौतेली मां रूपा देवी, भाई कैलाश नाथ व राधा नाथ ने षड़यंत्र पूर्वक फर्जी दस्तावेज तैयार कर जमीन हड़पने की साजिश रची और ममता देवी और उसके भाई को विरासत से खोले नामांतरण में उनका हिस्सा भूमि से वंचित कर दिया।

तत्कालीन एसपी को दिए गए परिवाद में ममता देवी ने बताया कि उसके पिता किशन नाथ के दो पत्नियां थी। पहली पत्नी रूपा देवी 40 साल पहले उसके पिता को छोड़कर चली गई। जिसके एक पुत्र कैलाश नाथ और पुत्री राधा देवी पैदा हुये थे। रूपा देवी के दूसरा नाता विवाह करने के पश्चात पेशे से ट्रक चालक पीड़िता के पिता किशननाथ शक्करगढ़ से दिल्ली चला गया और वहां शान्ति देवी एक महिला से दूसरी शादी कर ली। जिसके पुत्री ममता और पुत्र हुकूमनाथ पैदा हुए। 

पुश्तैनी कृषि भूमि हाइवे सड़क में अवाप्त होने के पश्चात मिले मुआवजे की राशि एवं जमीन की बढ़ी हुई कीमतों के लालच में किशननाथ के परिवार वालों में विवाद उत्पन्न हो गया। इसका फायदा लेने के मकसद से तत्कालीन सरपंच ने किशननाथ की मृत्यु 10 मार्च 2008 को होना बताकर कथित फर्जी दस्तावेज उसके परिजनों से मंगाए और उसी के आधार पर मृत्यु प्रमाणपत्र तैयार किया ओर वारिस घोषित कर जमीन नाम पर करवा ली। किशन नाथ की पुत्री ममता देवी और पुत्र हुकूमनाथ को विरासत के नामांतरण में भूमि से वंचित कर दिया गया। 

जबकि ममता देवी के पिता किशननाथ की मृत्यु 24 अप्रैल 2006 को ही दिल्ली में हो गई थी, जिसका मृत्यु प्रमाण पत्र उप रजिस्ट्रार नगर निगम दिल्ली द्वारा जारी किया हुआ था। ममता देवी की सौतेली मां रूपा देवी जो कई पूर्व नाता विवाह से बूंदी जिले में चली गई और अभी जीवित है। उसका भी 20 मई 1986 को मृत्यु होने का प्रमाण पत्र ग्राम पंचायत शक्करगढ़ ने 2016 में जारी कर दिया और किशन नाथ की भूमि में वारिस होने का नामांतरण खोलकर रूपादेवी की दो सन्तान कैलाशनाथ व राधा नाम को भी परिवादी ममता देवी ने पुलिस में दर्ज कराए गए। 

 

परिवाद में आरोप लगाया कि तत्कालीन सरपंच गत दो दशक से ग्राम पंचायत में सरपंच पद पर आसीन था और पंचायत के विकास कार्यों में गंभीर रूप से अनियमिताएं कर करोड़ों की संपत्ति बना ली है तथा मृतक किशननाथ की जमीन भी हाइवे सड़क पर आ जाने से हड़पना चाहता है। इस मामले में तत्कालीन पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा ने परिवाद की 2 सप्ताह में जांच रिपोर्ट तलब करने के निर्देश तत्कालीन शक्करगढ़ थानाधिकारी को दिए थे। पीड़िता के कई बार गुहार लगाने के 19 सितम्बर 2017 को शक्करगढ़ थाने में मामला दर्ज किया था।  

 

शक्करगढ़ पुलिस ने मामले मे अनुसंधान जारी कर जांच रिपोर्ट में एफ आर लगा कर तत्कालीन एसपी को सौंप दी। परिवादी ममता देवी ने जांच रिपोर्ट को सही नहीं मानते हुए एसीजेएम न्यायालय की शरण में जाकर इंसाफ की मांग की। एसीजेएम कोर्ट जहाजपुर ने पुलिस से दोबारा जांच कर तीन माह में रिपोर्ट पेश करने के आदेश जारी किए। पुलिस द्वारा दोबारा की गई जिसमें में हेराफेरी करने, फर्जी दस्तावेज तैयार कर जमीन हड़पने का षड़यंत्र रचने पर कैलाश नाथ, सोजी नाथ, रतन नाथ एवं तत्कालीन ग्राम विकास अधिकारी रामपाल सेन का अपराध प्रमाणित माना है। फ़रियाद ममता देवी ने इस मामले में अन्य दोषी आरोपियों के खिलाफ भी माननीय न्यायालय से जांच करने की गुहार लगाई है। जिनमें तत्कालीन सरपंच एवं तीन पटवारी शामिल है।

Prev Post

भूखी प्यासी बैठी रही जनता, कई घंटों की प्रतीक्षा के बाद पहुचें मंत्री शाले मोहम्मद, कई जनों का नही बना जॉब कार्ड, कैसे मिलेगा रोज़गार, लोगों में दिखा रोष ,Video

Next Post

राजस्थान में  CM गहलोत ने दी पत्रकारों को सौगात

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी

Top News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF
मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सुमन, रिजवाना बानो एवं दिनेश को मिली राहत
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज