हाल-ए-जहाजपुर पालिका: कौन सुनेगा किसको सुनाएं इस लिए चुप रहते है

वे जन कल्याण से जुड़े इस महाअभियान को सफल बनाने के लिए कार्य करें

May 10, 2022 2:39 pm
Hal-e-Jahajpur Palika: Who will listen to whom?

जहाजपुर (आज़ाद नेब) राज्य सरकार द्वारा 4 मई से चलाए गए ‘प्रशासन शहरों के संग अभियान‘ के द्वितीय चरण महाअभियान को सफल बनाने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया था।

वे जन कल्याण से जुड़े इस महाअभियान को सफल बनाने के लिए कार्य करें। लेकिन जहाजपुर पालिका में सियासी खिंचतान के चलते यहां के आमजन अधर में लटक रहे हैं। पालिका क्षेत्र में पट्टे बनना, विकास होना तो फिलहाल दूर की बात है। आमजन के जन्म मृत्यु प्रमाणपत्र जारी कराने में जूते घीस जाते हैं।

जिला कलक्टर ने 3 मई को अधिकारियों की बैठक लेकर कहा कि राज्य सरकार द्वारा चलाये जा रहे प्रशासन शहरों के संग अभियान को आमजन के लिए महत्वपूर्ण अभियान है। पूर्व निर्धारित लक्ष्य के अनुसार लोगों को अधिक से अधिक राहत/रियायत देते हुए बहुतायत में पट्टे जारी करने के लिए सभी नगर निकायों के अधिकारियों को दिशा-निर्देश प्रदान किये। जिससे आमजन को इस अभियान का ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल पाये।

जिला कलक्टर मोदी ने बैठक में मौजूद अधिकारियों को निर्देश दिए कि निकाय क्षेत्रों में टीमें बनाकर वार्ड वाइज सर्वे किया जाए तथा जिनके पास पट्टा नही है उन्हे आवेदन संबंधी जानकारी दी जाए। उन्होंने कहा कि शिविर में निकाय कार्मिकों के अलावा अन्य विभागों के प्रतिनिधि भी मौजूद रहेंगे जिससे आमजन का एक ही जगह कार्य हो सके। लेकिन यहां धरातल पर ऐसा कुछ नही हो रहा बस अभियान कागजों में ही चल रहा है।

प्रशासन शहरों के संग अभियान में स्टेट ग्रांट एक्ट व 69ए के तहत के पट्टे जारी करना, नाम हस्तांतरण, भू-उपयोग परिवर्तन, खांचा भूमि भवन मानचित्र स्वीकृति, भूखंडों का पुनर्गठन, बकाया लीज एवं एकमुश्त लोज जमा कर लीज मुक्ति प्रमाण पत्र करना, अपंजीकृत पट्टे लीज होल्ड से फ्री होल्ड पट्टे जारी करना, सड़क रिपेयर, नालियों की मरम्मत, लाइट सफाई आदि समस्या का समाधान, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, खाद्य सुरक्षा तथा संबंधित कार्य जैसे नगरीय विकास कर जमा, जन्म मृत्यु पंजीयन प्रमाण पत्र बनाना, स्वरोजगार योजना ,कौशल प्रशिक्षण, स्वयं सहायता समूह गठन, स्ट्रीट वेंडर्स, इंदिरा गांधी क्रेडिट कार्ड, इंदिरा रसोई आदि संबंधी कार्य होने थे पर यहां अधिशासी अधिकारी एवं सहायक कर्मचारी के पद रिक्त होने की वजह से नगर की जनता का दर्द यही है कौन सुनेगा किसको सुनाएं इस लिए चुप रहते हैं।

Prev Post

श्रीलंका में भडकी हिंसा, प्रधानमंत्री का घर आग के हवाले किया, सासंद सहित कार झील में फैंकी

Next Post

शिक्षा विभाग - सरकारी स्कूल का शिक्षक नंगी तलवार ले स्कूल के पास बैठा, साथी स्टाफ को धमकी, थाने में रिपोर्ट

Related Post

Latest News

उदयपुर घटना - भीलवाड़ा, टोंक व नागौर अजमेर में नेट बंद
राजस्थान में नुपूर शर्मा के समर्थक दर्जी की दूकान में घुस खुलेआम से नृशंस हत्या, आरोपियों ने किया वीडियों वायरल, नुपूर व पीएम मोदी को धमकी

Trending News

स्थापना दिवस पर देशवाली मदद फाउंडेशन ने कि शिक्षण सामग्री वितरित
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कल से 3 दिवसीय प्रवास पर रहेंगे जोधपुर
शिक्षा विभाग- राष्ट्रीय शिक्षा नीति 6 हजार शिक्षकों को प्रशिक्षण 23 तक

Top News

उदयपुर घटना - भीलवाड़ा, टोंक व नागौर अजमेर में नेट बंद
राजस्थान में नुपूर शर्मा के समर्थक दर्जी की दूकान में घुस खुलेआम से नृशंस हत्या, आरोपियों ने किया वीडियों वायरल, नुपूर व पीएम मोदी को धमकी
अधिकारी को नेता से जान का खतरा, Whatsaap पर शेयर किया दर्द 
सीएम गहलोत आज से 3 दिन अपने गृह जिले जोधपुर के दौरे पर, दो समुदायों के बीच दूरियां कम करने पर रहेगा फोकस!
स्थापना दिवस पर देशवाली मदद फाउंडेशन ने कि शिक्षण सामग्री वितरित
शिक्षा विभाग - संस्था प्रधान और शिक्षक होंगे सम्मानित,निदेशक अग्रवाल का नवाचार,और..
डॉक्टर व शिक्षक परिवार ने सामूहिक आत्महत्या नहीं की , हत्या की गई थी , दो गिरफ्तार 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बड़ी घोषणा, 'प्रदेश का अगला बजट युवा केंद्रित होगा'