भीलवाड़ा महोत्सव- अंतरराष्ट्रीय पार्श्व व लोक गायक गायक मामे खान बहाऐंगे सुरों की गंगा, आतिशबाजी से समापन

भीलवाड़ा / राजस्थान सरकार के पर्यटन विभाग और जिला कलेक्टर आशीष मोदी के नेतृत्व में जिला प्रशासन द्वारा हर्ष और उल्लास से आयोजित हो रहे तीन दिवसीय भीलवाड़ा महोत्सव के तीसरे और अंतिम दिन शनिवार को राजेन्द्र मार्ग स्कूल ग्राउण्ड पार्श्व गायक व लोक गायक अंतर्राष्ट्रीय कलाकार मामे खान सुरों की गंगा बहाएंगे ।

अंतिम दिन कल कार्यक्रमो की कडी मे स्पिकमैके द्वारा तान्या सक्सेना के निर्देशन में भरतनाट्यम प्रातः 10 बजे आयोजित होगा। महोत्सव में आगंतुक एडवेंचर जैसे हॉट एयर बलून, वाल क्लाइम्बिंग का लुत्फ़ प्रातः 10 बजे से सायं 6 बजे तक एमएलवी महाविद्यालय में उठा सकेंगे।

कार्यक्रमों की श्रृंखला में बुक फेयर प्रातः 10 से सायं 8 बजे तक चित्रकूट धाम में चलेगा तथा आकृति कला संस्थान द्वारा कला प्रदर्शनी प्रातः 10 से सायं 6 बजे तक चलेगी।

कुश्ती प्रतियोगिता-प्रातः 10 बजे से, रस्सा-कस्सी, सतोलिया जैसे खेल भी आयोजित होंगे। अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए इच्छुक कलाकार भीलवाड़ा टैलेंट हंट में भी भाग ले सकते है जिसमे गायन, वादन, नृत्यन, मिमिक्री, स्टैण्ड अप कॉमेडी जैसी प्रतियोगिताएँ प्रातः 11 बजे से सायं 6 बजे तक, तीरंदाजी सायं 4 बजे चित्रकूट धाम में आयोजित होगी।

युवाओं के उज्ज्वल भविष्य को ध्यान में रखते हुए करियर कॉउंसलिंग की व्यवस्था प्रातः 11 बजे विभिन्न महाविद्यालयों व विद्यालयों में की गई है।

गोपाल आचार्य द्वारा निर्देशित भोपा भेरुनाथ थिएटर का मंचन सायं 4.30 बजे टाउन हॉल, नगर परिषद् में किया जायेगा। एंटरप्रेन्योर मेंटरशिप टॉक शो सायं 7 बजे राजेंद्र मार्ग स्कूल में होगा।

म्यूजिकल नाईट सायं 8 बजे से राजेंद्र मार्ग स्कूल में आयोजित होगी जिसमें गायक श्री मामे खान तथा कॉमेडियन श्री रविंद्र जोनी प्रस्तुति देंगे। कार्यक्रम का संचालन एंकर व राजस्थानी फिल्मो की कलाकार प्रतिष्ठा ठाकुर करेगी ।

पार्श्वगायक और लोक गायक मामे खान का जीवन परिचय

 

मामे खान का जन्म राजस्थान के जैसलमेर के पास एक छोटे से गांव शब्दों में हुआ था वह मांगणियार समुदाय से हैं तथा बचपन से ही मांगणियार समुदाय के लोग संगीत से परिचित उनके पिता राणा खान भी एक राजस्थानी लोक गायक थे और मामे खान जब 14 साल की उम्र में थे तभी उन्हें भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद द्वारा संगीत और कला में अपनी पढ़ाई करने के लिए 6 साल की छात्रवृत्ति दी गई थी।

मामेखान के कैरियर की शुरुआत 

साल 2009 में लक बाय चांस से अपने पार्श्वगायन की शुरुआत की उसके बाद उन्होंने 2010 में नो वन किल्ड जेसिका 2011 में मिर्ज़या 2016 में सोन चिड़िया जैसी कई हिंदी फिल्में पार्श्वगायन किया ।। 2019 में खान को कोक स्टूडियो एमटीवी दूसरे सीजन में अमित त्रिवेदी के साथ चित्रित किया गया।

टी सीरीज के लिए भी कई गाने गाए तथा सारेगामा सोनी म्यूजिक एंटरटेनमेंट इंडिया पर आयोजित सो में भी उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही।

मामे खान शंकर महादेवन की लोक परियोजना माय कंट्री माय म्यूजिक का भी हिस्सा रहे। राॅयस्टेन एंबेल के शो मांगणियार सेडक्शन के प्रमुख गायक थे।

2015 में हॉटस्टार स्टार स्पोर्ट्स के प्रो कबड्डी लीग सीजन के लिए भी राष्ट्रगान गाया दिसंबर 2016 में एक सिंगल सानू एक पल चैन ना आवे रिलीज किया जो पंजाबी और राजस्थानी लोक संगीत का एक संयोजन था ।

दिसंबर 2017 में मैकडॉवेल के नंबर वन के नंबर वन यारी जैन के यारी गीत के लिए संगीतकार जोड़ी सलीम सुलेमान के साथ सहयोग किया सैमसंग और तनिष्क जैसे ब्रांड के लिए विज्ञापन बिकी।