भीलवाड़ा कलेक्टर मोदी की पहल डीईओ ने 5 मिनट में की क्रियान्विती,छात्रा को मिला स्कूल में प्रवेश

Dr. CHETAN THATHERA
4 Min Read

भीलवाड़ा/ जिला कलेक्टर आशीष मोदी छात्राओं और बच्चियों के प्रति कितने संवेदनशील है इसका प्रत्यक्ष नजर और उदाहरण आज देखने को मिला जब वह राजस्थान युवा खेल महोत्सव के शुभारंभ के दौरान मिला।

जब उन्होंने बर्तन साफ कर रही एक बालिका को स्कूल मैं प्रवेश के लिए जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक मुख्यालय(डीईओ) को आदेश दिया और डीईओ ने तत्परता दिखाते हुए 5 मिनट में बालिका को स्कूल में प्रवेश दिला कर किताबे तक दे दी ।

हुआ यूं की जिला कलेक्टर आशीष मोदी आज से शुरू हुए दो दिवसीय राजस्थान युवा खेल महोत्सव का शुभारंभ करने राजीव गांधी ऑडिटोरियम पहुंचे थे और शुभारंभ कार्यक्रम के बाद वह वापस लौट रहे थे तभी उन्होंने देखा कि ऑडिटोरियम के गेट पर एक बालिका बर्तन साफ कर रही है ।

इस पर कलेक्टर आशीष मोदी ने रुक कर उस बालिका से उसका नाम पूछा उसने अपना नाम किरण बावरी बताया तब कलेक्टर मोदी ने उससे पूछा कि स्कूल पढ़ने नहीं जाते हो क्या ? इस पर बालिका किरण ने कहा कि स्कूल की प्रिंसिपल ने मुझे स्कूल में प्रवेश देने से मना कर दिया और भगा दिया कि घर पर ही पढ़ो।

यह सुनकर जिला कलेक्टर आशीष मोदी काफी नाराज हुए और उन्होंने अपने साथ ही खड़े जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक मुख्यालय डॉ महावीर कुमार शर्मा को कहा की तत्काल उस स्कूल की प्रिंसिपल को सस्पेंड करो और इस बालिका का प्रवेश कराओ ।

कलेक्टर आशीष मोदी के इस आदेश पर जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक विद्यालय डॉक्टर महावीर कुमार शर्मा तत्परता दिखाई और तत्काल राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय कलकीपुरा की प्रिंसिपल से फोन पर बात करते हुए बालिका किरण बावरी को प्रवेश नहीं देने का कारण पूछते हुए उसे तत्काल प्रवेश देते हुए किताबें निशुल्क देने के निर्देश दिए । जिला कलेक्टर आशीष मोदी अपने कार्यालय पहुंचे तब तक बालिका किरण बावरी का उक्त विद्यालय में कक्षा आठ में प्रवेश दिया जाकर उसे निशुल्क किताबें भी दे दी गई ।

जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक डॉक्टर महावीर कुमार शर्मा ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि बालिका किरण बावरी पहले राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय शाहजी का मोहल्ला कक्षा7 बाद के बाद उसने 20 अगस्त 2022 को उसे विद्यालय से टी सी कटवा ली थी।

उसके बाद उसने पूरे साल कहीं भी किसी भी स्कूल में प्रवेश नहीं लिया था और वह जब कक्षा आठ में प्रवेश लेने के लिए राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय कलकीपुरा गई तो वहां प्रिंसिपल ने छात्रा किरण को गैप सर्टिफिकेट अर्थात वह पूरे साल कहीं पर भी अध्ययनरत नहीं रही इस कारण प्रिंसिपल ने उसे प्रवेश नहीं दिया और प्रिंसिपल ने छात्रा किरण बावरी से गैप सर्टिफिकेट प्रमाण पत्र लाने के लिए कहा था ।

आंखों की रोशनी कम है महंगा इलाज नहीं कर सकते हम गरीब हैं

दूसरी और छात्रा किरण बावरी के माता-पिता ने बताया कि उनकी बच्ची पढ़ना चाहती है और पिछले 15 दिन से लगातार स्कूल के चक्कर लगा रही थी उसे प्रवेश दे दिया जाए लेकिन नहीं मिल रहा था इसलिए परेशान हो गए थे और यही सोचा था कि ठीक है।

अब घर पर ही पढ़ाएंगे छाता किरण माता ने बातचीत में बताया कि उनकी बेटी किरण को आंखों की रोशनी कम होने से दिखता भी कम है खूब उपचार कराया लेकिन कोई फर्क नहीं पड़ा वह गरीब है इसलिए ज्यादा महंगा इलाज नहीं कर सकते।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम