जीवित पति की सरकारी कागज़ में मृत घोषित कर दूसरी शादी रचाई,ईमित्र की भूमिका महत्वपूर्ण 

Dr. CHETAN THATHERA
4 Min Read

Bhilwara News। भीलवाड़ा जिले में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें अपने ही पति को मृत घोषित कर पत्नी ने दूसरी शादी रचा ली और अब होने के कागजों में उसे पुन जीवित कर दोनों परिवारों के साथ बनी हुई है ।

यह मामला बनेडा क्षेत्र के रहने वाली रेखा युवती का है । रेखा ने 2014 में भीलवाड़ा के बायोस्कोप के पास रहने वाले युवक नारायण तेली से शादी रचाई थी। यह शादी साकेत संबंंधत्यों के सामने और हिंदू रीति रिवाज वैदिक मंत्र के साथ संपन्न हुई थी।जीवित पति की सरकारी कागज़ में मृत घोषित कर दूसरी शादी रचाई,ईमित्र की भूमिका महत्वपूर्ण 

शादी के 5 साल बाद सामाजिक पंच पटलों की मध्यस्था और पुलिस की दखलता से दोनो के बीच पति-पत्नी का रिश्ता खत्म हो गया इसकी स्टांप पर कानूनी रूप से लिखा पढी की गई। इसके बाद रेखा अपने पति को छोड़कर अपने पीहर बनेडा चली गई और कुछ समय बाद उसने बागोर के किशन लाल नामक युवक के साथ नाता विवाह कर लिया।जीवित पति की सरकारी कागज़ में मृत घोषित कर दूसरी शादी रचाई,ईमित्र की भूमिका महत्वपूर्ण 

इस दौरान पहले वाले पति नारायण को जब खाद्य सुरक्षा में मिलने वाले गेहूं के साथ अन्य योजना का लाभ नहीं मिल रहा था तो ईमित्र पर जाने के बाद उसे पता चला कि उसे सरकारी कागज़ मे मृत घोषित किया जा चुका है ।

तब उसने छानबीन की तो पता चला कि यह सारा माजरा उसी की पहली पत्नी रेखा केदोनो भाई( पूर्व साले) द्वारा रचा रचाया हुआ है। नारायण ने यह सारी जानकारी सारी जानकारी देते हुए बताया की उसके पूर्व दोनो साले ईमित्र चलाते हैऔर उन्ही ने यह कृत्य किया है।

ईमित्र संचालन करने वाले पूर्व साले ने बनाया जीवित का मृत प्रमाणपत्र नारायण ने बताया की उसके दोनों पूर्व साले बनेड़ा तहसील के सामने ईमित्र की दुकान लगाकर काम करते हैं और उसने आशंका जताई है की यह सारा माजरा पूर्व साले की ईमित्र की दुकान पर रचित किया गया है।

नारायण ने बात करते हुए आरोप लगाया की उसकी पूर्व पत्नी रेखा दोनों पतियों यानी किशन और उसके (नारायण) के साथ रहना चाहती है ऐसा उसने जनआधार के अंदर प्रदर्शित किया हुआ है। दोनों ही परिवारों को एक ही जनआधार के अंदर जोड़ा गया हुआ है।

अब यह सारा घटनाक्रम देखा जाए और ईमित्र संचालकों की नादरशाही का एक उदाहरण पेश करता है जो की एक जीवित व्यक्ति को मृत कोशिश कर चुके हैं अगर जांच की जाए तो ऐसे मामले और हो सकते हैं जिसके चलते किसी गरीब की जमीन जायदाद भी इधर-उधर की हो सकती है। 

लाईसेंस रद्द भटक रहा नारायण 

फिलहाल तो नारायण का आधार कार्ड जन आधार कार्ड तथा ड्राइविंग लाइसेंस सब बने हुए थे वह उसकी पूर्व पत्नी रेखा द्वारा उसे सरकारी कागज़ मे मृत बता देने के कालण निरस्त हो चुके हैं जिनको लेकर वह दर-दर पटक रहा है।ड्राइविंग लाइसेंस रद्द होने से उसका रोजगार भी छिन चुका है उसके खाने के लाले पड रहे है ।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम