170 साल बाद प्रथम महिला शिक्षिका सावित्री बाई फूले को मिला राजकीय सम्मान,माली समाज के साथ-साथ फूले के अनुयायियों में है हर्ष की लहर

Bhilwara news । राजस्थान सरकार की ओर से  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक एतिहासिक फैसला लेते हुए भारत की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्री बाई फूले व महान समाज सुधारक महात्मा ज्योतिबा फूले द्वारा किये गये महान कार्य को ध्यान में रखते हुए उनके प्रति सम्मान प्रकट किया है। जिसके तहत मुख्यमंत्री ने महात्मा फूले व …

170 साल बाद प्रथम महिला शिक्षिका सावित्री बाई फूले को मिला राजकीय सम्मान,माली समाज के साथ-साथ फूले के अनुयायियों में है हर्ष की लहर Read More »

July 6, 2020 8:51 pm

Bhilwara news । राजस्थान सरकार की ओर से  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक एतिहासिक फैसला लेते हुए भारत की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्री बाई फूले व महान समाज सुधारक महात्मा ज्योतिबा फूले द्वारा किये गये महान कार्य को ध्यान में रखते हुए उनके प्रति सम्मान प्रकट किया है। जिसके तहत मुख्यमंत्री ने महात्मा फूले व माता सावित्री बाई फूले के नाम से राज्य में अनेक योजनाओं को शुरू करने का एलान किया है। इस एलान से माली समाज के साथ-साथ फूले के समस्त अनुयायियों में हर्ष की लहर व्याप्त है।

राजस्थान प्रदेश माली महासभा के जिलाध्यक्ष गोपाललाल माली ने बताया कि मुख्यमंत्री के आदेशानुसार अब हर साल 3 जनवरी को भारत की प्रथम महिला शिक्षिका सावित्री बाई फूले का जन्मदिवस पूरे राज्य में महिला शिक्षिका दिवस के रूप में धूमधाम से मनाया जायेगा।

गौरतलब है कि 1851 में सावित्री बाई फूले ने 150 छात्रों के साथ महाराष्ट्र में 3 विद्यालय शुरू किये थे और सबसे पहले महिलाओं में शिक्षा की जागृति भी सावित्री बाई फूले की ही देन है। मुख्यमंत्री के आदेश के तहत अब राजस्थान के प्रत्येक जिले में एक राजकीय विद्यालय का नाम महात्मा ज्योतिबा फूले और राजकीय बालिका विद्यालय का नाम माता सावित्री बाई फूले के नाम पर किया जायेगा और राज्य की सभी स्कूलों व महाविद्यालयों में महात्मा ज्योतिबा फूले व माता सावित्री बाई फूले की प्रतिमा और तस्वीर सम्मान के साथ लगाई जायेगी।

सरकारी स्तर पर शिक्षा के क्षेत्र में किसानों व अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए चलाई जाने वाली योजनाओं का नाम भी अब महात्मा ज्योतिबा फूले व माता सावित्री बाई फूले के नाम पर रखा जायेगा।

माली ने यह भी बताया कि माली महासभा के साथ-साथ कई सामाजिक संगठनों ने कई वर्षों से राज्य सरकार से महात्मा फूले दम्पति को सम्मान प्रदान करने की मांग करते आ रहे थे जो अब जाकर पूरी हुई। भारत की प्रथम महिला शिक्षिका माता सावित्री बाई फूले को 170 साल बाद जाकर राजकीय सम्मान मिला है। इस सम्मान से समस्त पिछड़ा वर्ग के साथ-साथ फूले के अनुयायियों में जबदस्त खुशी का महौल है।

माली महासभा द्वारा कल जिला कलेक्टर के माध्यम से राजस्थान के मुख्यमंत्री के नाम आभार व धन्यवाद ज्ञापन पत्र दिया जायेगा।

Prev Post

फायरिंग करने के आरोपी पठान व शक्तावत गिरफ्तार

Next Post

अब सरकारी अधिकारी व कर्मचारी शादी मे जाएं तो सोच समझ कर नही तो...

Related Post

भीलवाड़ा में लघु उद्योग भारती की महिला इकाई का दो दिवसीय मेले शुरू, कई उत्पाद आकर्षण का केंद्र
September 27, 2022 8:30 pm

Latest News

टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi
राजस्थान में PFI पर शिकंजा कसने के कलेक्टर व एस पी को दिए अधिकार, पदाधिकारी भूमिगत

Trending News

प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 
केंद्र सरकार ने कर्मचारियों को दीपावली का तोहफा बढ़ाया DA, राजस्थान मे भी अब..
राजस्थान में 4 बच्चों की डूबने से मौत
Ban on 8 affiliated organizations including PFI in the country, know

Top News

टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन.. 
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi
राजस्थान में PFI पर शिकंजा कसने के कलेक्टर व एस पी को दिए अधिकार, पदाधिकारी भूमिगत
गहलोत नही लडेंगे चुनाव, सिंह कल भरेंगे नामांकन,राजस्थान पर फैसला आज
गहलोत नही लडेंगे चुनाव, सिंह कल भरेंगे नामांकन,राजस्थान पर फैसला आज
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 
गहलोत कल मिलेंगे सोनिया से,राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए कल नहीं भरे जाऐंगे नामांकन, क्यों
देश को 9 माह बाद मिला नया CDS