भीलवाड़ा में सरकारी स्कूल से 12 साल का छात्र 4 दिन से लापता,स्कूल प्रशासन की लापरवाही, शिक्षकों को बचाने का प्रयास

Dr. CHETAN THATHERA
5 Min Read

भीलवाड़ा/डाॅ.चेतन ठठेरा। भीलवाड़ा शहर के निकट ही स्थित पालड़ी राज के उच्च माध्यमिक विद्यालय से चार दिन पहले कक्षा 5 में पढ़ने वाला एक विद्यार्थी स्कूल समय में स्कूल से लापता हो गया जिसका आज तक भी पता नहीं चला है ।

इस मामले में स्कूल प्रशासन की लापरवाही बिल्कुल सामने आई है लेकिन दोषी शिक्षकों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है हालांकि बालक के लापता होने की रिपोर्ट सामाजिक न्याय अधिकारिता विभाग द्वारा पुलिस थाने में दर्ज कर दी गई है ।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जुलाई 2023 में जीआरपी थाना पुलिस ने एक 11 साल के बच्चे को बिना टिकट रेलवे स्टेशन पर पड़ा था और उसके बाद उसे बाल कल्याण समिति के पदाधिकारी को बुलाकर उसके सुपुर्द किया था बाल कल्याण समिति में उसे बालक से पूछताछ की जिसने अपना नाम अंकुर यादव निवासी रेवाड़ी बताया था।

और साथ ही पूछताछ में बालक यादव ने यह भी बताया था कि उसके माता-पिता की मृत्यु हो चुकी है उसके दो भाई बड़े हैं वह शराब पीकर उसे मरते हैं वह चाय की होटल पर नौकरी करता था और उसके पैसे होटल मालिक के पास ही जमा है वह ट्रेन में रोजाना आता जाता था नींद लगने के कारण वह भीलवाड़ा पहुंच गया था और उसे बिना टिकट पुलिस ने पकड़ लिया है ।

समिति ने बालक को पालड़ी स्थित राजकीय किशोर गृह में रखा और फिर वहां से विभागीय स्तर पर तथा समिति ने भी अपने स्तर पर रेवाड़ी में बालक के बताएं अनुसार छानबीन और जांच पड़ताल की लेकिन अंकुर यादव का सही पता नहीं मिल पाने राजकीय किशोर गृह में ही रखा गया था और फिर उसे राज के किशोर गृह के ही

फिर उसे पालड़ी स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में कक्षा 5 में प्रवेश दिलाया गया जहां किशोर गृह के अन्य बच्चे भी पढ़ते हैं। अंकुर यादव 6 सितंबर को स्कूल समय के दौरान स्कूल से निकल गया जिसका आज 4 दिन भी जाने के बाद भी पता नहीं पड़ा जब शाम को 6 सितंबर को बच्चा किशोर गृह वापस नहीं पहुंचा तो किशोर गृह के अधिकारियों और बाल कल्याण समिति के अधिकारियों ने स्कूल प्रिंसिपल से जानकारी चाहिए तो उन्होंने अनभिज्ञता प्रकट कर दी ।

इस पर किशोर गृह के अधीक्षक और बाल कल्याण समिति के पदाधिकारी बच्चों को ढूंढ निकल पड़े तथा इस संबंध में थाने में भी प्राथमिक की दर्ज कराई तथा हरियाणा में भीबच्चा फोटो भेज कर सूचना लिखिए बच्चा मिल जाए तो सूचित करें लेकिन आज तक बच्चा अभी नहीं मिल पाया है।

इसमें सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि स्कूल से स्कूल समय में बच्चा लापता कैसे हो गया ? स्कूल प्रशासन ने इस पर ध्यान क्यों नहीं दिया ? राजकीय किशोर गृह के अधिकारियों और बाल कल्याण समिति के अधिकारियों द्वारा स्कूल के प्रिंसिपल डॉ राजेश पारीक को स्कूल जाकर बच्चों के बारे में पूछा तब जाकर स्कूल प्रिंसिपल को पता चला कि बच्चा स्कूल से लापता हो गया है क्या स्कूल प्रशासन की जिम्मेदारी नहीं बनती की स्कूल से स्कूल समय में कोई बच्चा बाहर नहीं निकले ?

स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को स्कूल समय के दौरान बाहर निकलने पर पाबंदी होनी चाहिए क्या प्रिंसिपल की जिम्मेदारी नहीं है ? जब छात्र के लापता होने की जानकारी मिल चुकी थी प्रिंसिपल को उसके बाद भी प्रिंसिपल राजेश पारीक ने अपने शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी को सूचना नहीं दी क्या यह उनकी जिम्मेदारी नहीं ? 

इनकी जुबानी

स्कूल से छात्र के लापता होने की टी सूचना मुझे कल ही बाल कल्याण समिति के माध्यम से मिली थी स्कूल के प्रिंसिपल ने मुझे अवगत नहीं कराया था जबकि उनकी जिम्मेदारी बनती है कि वह उसी दिन मुझे इस बारे में सूचना देते हैं ।

डॉ महावीर कुमार शर्मा 

जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक विद्यालय भीलवाड़ा

मैंने मेरे विभाग के उच्च अधिकारियों को सूचना नहीं दी थी तथा राजकीय किशोर गृह के अधिकारी जब आए उसके बाद मुझे पता चला ।

डॉ राजेश पारीक 

प्रिंसिपल राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पालड़ी सुवाणा( भीलवाडा)

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम