राजस्थान में अवैध खनन के खिलाफ आत्मदाह करने वाले संत का निधन, सरकार सवालों घेरे मे ?

राजस्थान में धड़ल्ले से चल रहे अवैध खनन को रोकने टोकने वाला कोई नहीं है सरकार के लाख प्रयास भी इस अवैध खनन को रोकने में बेअसर साबित हो रहे हैं यही नहीं यह अवैध खनन करने वाले माफियो मैं अब तक कई लोगों की जाने ले ली है इनमें पुलिस अधिकारी पुलिस जवान और आमजन भी शामिल है ।

July 23, 2022 11:13 am

जयपुर/ राजस्थान में अवैध खनन के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाले संतो मैसेज एक संत ने सरकार द्वारा कारगर कदम नहीं उठाने से आहत होकर 3 दिन पहले केरोसिन डालकर आत्मदाह का प्रयास किया था इस हादसे में गंभीर रूप से झुलसे संत ने मध्य रात्रि को दिल्ली के अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

भरतपुर जिसे ब्रज की भूमि के नाम से भी जाना जाता है इस ब्रज क्षेत्र में अवैध खनन के खिलाफ क्षेत्र के संत गण लंबे समय से ब्रज भूमि पर हो रहे अवैध खनन को रोकने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं और धरने पर बैठे हैं ।

लेकिन सरकार द्वारा इस दिशा में कोई कारगर व ठोस कदम नहीं उठा पाने के कारण आहत होकर 500 दिन से धरने पर बैठे संत विजय दास ने 501 वे दिन धरना स्थल पर ही अपने शरीर पर केरोसिन डालकर आत्मदाह का प्रयास किया था जिसे वहां पुलिसकर्मियों ने कंबल डालकर बचाया लेकिन इस आत्मदाह के प्रयास में संत विजय दास करीब 80% से अधिक झुलस गए थे ।

जिनको उपचार के लिए पहले जयपुर फिर दिल्ली के सफरदंगज अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उपचार के दौरान मध्य रात्रि को करीब 3:00 बजे संत विजय दास ने दम तोड़ दिया इसकी पुष्टि पहाड़ी क्षेत्र के एसडीएम संजय गोयल ने की है । बताया जाता है कि इस अवैध खनन के खिलाफ ही धरना प्रदर्शन कर रहे संतगणो मैं से एक संत नारायण दास 19 जुलाई से ही मोबाइल टावर पर चढ़े हुए हैं जिन्हे टावर से नीचे उतारने का स्थानीय प्रशासन द्वारा अथक प्रयास किया गया लेकिन सफल नहीं होगे संत नारायण दास अभी भी मोबाइल टावर पर चढ़े हुए हैं।

राजस्थान में धड़ल्ले से चल रहे अवैध खनन को रोकने टोकने वाला कोई नहीं है सरकार के लाख प्रयास भी इस अवैध खनन को रोकने में बेअसर साबित हो रहे हैं यही नहीं यह अवैध खनन करने वाले माफियो मैं अब तक कई लोगों की जाने ले ली है इनमें पुलिस अधिकारी पुलिस जवान और आमजन भी शामिल है ।

आखिर यह सिलसिला कब तक चलता रहेगा? सरकार या अवैध खनन करने वाले माफियों पर नकेल कसने में क्यों असफल हो रही है ? आखिर क्या कारण है ? क्या सरकार और पुलिस अधिकारियों का अवैध खनन माफियाओं के साथ सांठगांठ या सूचना तंत्र लीकेज है ? ऐसे कई सवाल हैं जो सरकार को कटघरे में खड़ा करते हैं ।

Prev Post

जहाजपुर की चार ओर सीनियर सेकेंडरी स्कूल होंगी इंग्लिश मीडियम 

Next Post

डंपर ने कावडियों के जत्थे को रौंदा, 6 की मौत 1 गंभीर 

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी

Top News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF
मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सुमन, रिजवाना बानो एवं दिनेश को मिली राहत
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज