सत्रह दिन से बिजली गुल ,गांवों में अभी भी बिजली ठीक नहीं होने से ग्रामीणों में गहरा गुस्सा है

भरतपुर। (राजेन्द्र जती )भरतपुर और आस-पास के गांवों में गत गयारह अप्रैल को आए आंधी तूफान का मंजर अभी भी वैसा ही दिख रहा है। भरतपुर संभाग मुख्यालय से लगभग आठ किलोमीटर की दूरी पर स्थित कई गांवों में अभी भी बिजली ठीक नहीं होने से ग्रामीणों में गहरा गुस्सा है। भरतपुर के समीप नगला हरचंद गांव में आज कांग्रेस नेता किशोर शर्मा ने ग्रामीणों की समस्याएं सुनी और उच्च अधिकारियों को समस्या से अवगत कराया। ग्रामीणों का कहना था कि सत्रह दिन बाद भी प्रशासन का ध्यान गांवों की तरफ बिल्कुल नहीं है और बिजली गुल होने से बच्चों की पढ़ाई लिखाई भी प्रभावित हो रही है। ग्रामीणों का कहना था कि बिजली के अभाव में पीने के पानी की भारी समस्या उत्पन्न हो गई है। गांव में जगह-जगह बिजली के खंभे गिरे पड़े हैं और सड़क पर बिखरे तार दुर्घटनाओं को आमंत्रण दे रहे हैं। ग्रामीणों द्वारा संपर्क पोर्टल एवं जिला प्रशासन को कई बार अवगत कराने के बाद भी कार्यवाही नहीं हुई है ।कांग्रेस नेता किशोर शर्मा ने सरकार पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुए कहा कि भरतपुर के कई गांवों के लोग पिछले सत्रह दिनों से बिजली की समस्या झेल रहे हैं लेकिन प्रशासन का ध्यान बिल्कुल नहीं है। भरतपुर के नगला हरचंद के अलावा मोरोली, बाघई, नगला परशुराम, कोलीपूरा, पूरा सूती फूलवारा  सहित कई गांवों में अंधकार छाया हुआ है। कांग्रेस नेता किशोर शर्मा द्वारा जब अधिकारियों से बात की गई तो आनन-फानन में बिजली के खंबे लगवाने का काम शुरू करा दिया गया है। अधिकारियों का कहना है कि आगामी चौबीस घंटे में बिजली आपूर्ति सुचारू कर दी जाएगी ।इस मौके पर एम एस जीकॉलेज के पूर्व अध्यक्ष भरत सिंह उर्फ़ शैतान सिंह, अखिल भारतीय यादव युवा महासभा के अध्यक्ष रिंकू यादव, ग्रामीण नेम सिंह नेताजी, खेम सिंह, जसो, मेहताब सिंह, दुलीचंद में श्याम आदि मौजूद रहे।