मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की बैठक डाॅ. गर्ग की अध्यक्षता में हुई आयोजित ओपीडी टिकिट की दरें पूर्व की भांति 10 रूपये ही रहेंगी , शेष में कुछ परिवर्तन

भरतपुर/राजेन्द्र शर्मा जती। राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की बैठक बुधवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग (Dr. Subhash Garg) की अध्यक्षता में आयोजित हुई जिसमें ओपीडी टिकिट की दरें पूर्व की भांति 10 रूपये रखने और शेष में कुछ परिवर्तन करने का निर्णय लिया गया।
बैठक में डाॅ. गर्ग ने कहा कि आरबीएम एवं जनाना चिकित्सालय में आने वाले अधिकांष रोगी गरीब एवं पिछडे वर्गों के होते हैं ऐसी स्थिति में चिकित्सालय में विभिन्न जाॅचों एवं सेवाओं की दरें न्योचित्त एवं तर्कसंगत किया जाना आवष्यक है।

उन्होंने डायलेसिस के संबंध में निर्देष दिये कि पात्र व्यक्तियों को छोडकर शेष गरीब लोगों की निषुल्क डायलेसिस करने के लिये जिला कलक्टर को अधिकृत किया गया है। वे जाॅच के बाद निषुल्क डायलेसिस कराने के लिये प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को निर्देष देंगे। उन्होंने कहा कि डायलेसिस की 24 घंटे व्यवस्था कराने के लिये आवष्यक उपाय सुनिष्चित करें और डायलेसिस वाली कम्पनी द्वारा निर्धारित मानकों के तहत कार्य नहीं करने पर उन्हें नोटिस जारी करें। उन्होंने निर्देष दिये कि चिकित्सालय में ट्राॅली पुलर्स एवं अन्य कर्मचारियों की नियुक्ति के लिये राज्य सरकार को प्रस्ताव भिजवायें और विद्युत एवं अन्य उपकरणों की मरम्मत के लिये वार्षिक मरम्मत कराने के लिये निजी कम्पनी के साथ अनुबंध करें।

उन्होंने यी भी निर्देष दिये कि सभी जाॅचें चिकित्सालय में कराई जायें और कोई चिकित्सक अथवा कार्मिक चिकित्सालय के बाहर से जाॅच कराने के लिये रोगी को बाघ्य करता है तो उसके विरूद्व कार्यवाही करें।
बैठक में सर्वसम्मति से ओपीडी टिकिट की दरें 10 रूपये, भर्ती टिकिट व प्रवेष पास के लिये 50 रूपये , आईसीयू बैड चार्ज 300 रूपये , अन्य राज्यों से आने वाले मरीजों हेतु आईसीयू व सीसीयू बैड चार्ज 750 रूपये प्रतिदिन , निषुल्क श्रेणी को छोडकर अन्य व्यक्तियों के डायलेसिस के लिये 1200 रूपये प्रतिदिन, एमएलसी एक्सरे के लिये 50 रूपये प्रति प्लेट , एमएलसी की अतिरिक्त प्रति प्राप्ति के लिये 100 रूपये, पोस्टमार्टम प्रमाणित प्रति के लिये 200 रूपये, आम्र्स लाईसेंस हेतु स्वास्थ्य प्रमाण पत्र के लिये 5 हजार रूपये,साधारण स्वास्थ्य प्रमाण पत्र के लिये 150 रूपये, सभी प्रकार की मेडिकल जाॅचों के बाद जारी किये जाने वाले स्वास्थ्य प्रमाण पत्र के लिये 300 रूपये, एबीजी जाॅच के लिये 200 रूपये, ईएनटी माइनर सर्जरी के लिये 50रूपये, टूडी ईको कार्डियोग्राफी के लिये 500 रूपये, टीएमटी के लिये 300 रूपये की दरें तय की गई।

 

इसी प्रकार नेत्र विभाग में मेजर सर्जरी व फैको , इमल्सीफिकेष के लिये 200-200 रूपये, माइनर सर्जरी ए-स्केन बायोमेट्री के लिये 100-100रूपये, पैरीमेट्री के लिये 200 रूपये एवं रिफलेक्षन के लिये 50 रूपये की दर तय की गई। पैथोलाॅजी जाॅचों एसेटिक फ्ल्यूड और मैल्गीजेन्टसेल , पीवीएफ , ब्रोनिहल वास , एफएनएसी , फ्ल्यूड फोरसाईटोलाॅजी, पेपस्मीयर , यूरिन फोर साइटोलाॅजी के लिये 75-75 रूपये और बायोप्सी के लिये 150रूपये की दरें निर्धारित की गई जबकि नाक-कान-गला विभाग में मेजर सर्जरी के लिये 300 रूपये, माइनर सर्जरी व प्योरटाॅन आॅयडोमैट्री के लिये 100-100 रूपये, बीरा व ओएई के लिये 150-150 रूपये, इम्पीडेंष आॅयडोमैट्री व स्पीच थैरेपी के लिये 75-75 रूपये, माइनर ओपीडी प्रोसीजर के लिये 20रूपये और एफओएल के लिये 75 रूपये की दरें तय की गई।

इस बैठक में मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की सदस्य सचिव एवं प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डाॅ. जिज्ञासा साहनी, नगर निगम के आयुक्त राजेष गोयल , मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य डाॅ. रजत श्रीवास्तव , मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. कप्तान ंिसंह, डाॅ. मुकेष गुप्ता, डाॅ. भंवर सिंह सहित संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।
भामाषाहों के सहयोग से चिकित्सालय में लगवाये जायेंगे कूलर
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डाॅ. सुभाष गर्ग ने प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को निर्देष दिये कि भामाषाहों के सहयोग से आरबीएम एवं जनाना चिकित्सालयों में कूलर लगाने की व्यवस्था करायें जिस पर मौके पर ही आरएसआरडीसी , पीडब्ल्यूडी , सीएमएण्डएचओ , बीडीओ सेवर और चिकित्सालय के सहायक लेखाधिकारी द्वारा 10-10 कूलर लगवाने की सहमति हुई। इसके अलावा चिकित्सालय परिसर में पेयजल व्यवस्था के लिये इन्ड्रस्टियल आरओ प्लांट , बकाया भुगतान शीघ्र कराने , चिकित्सालय के आसपास के क्षेत्र को नो-वेन्डर जोन घोषित करने और आरबीएम चिकित्सालय के पुराने भवन को ध्वस्त कर 250 बैड के नये भवन बनाने की तैयार की गई कार्ययोजना पर भी सहमति दी गई।
डाॅ. गर्ग ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की रोकथाम एवं रोगियों के उपचार के लिये सभी व्यवस्थाऐं सुनिष्चित करने के निर्देष दिये जिस पर जिला कलक्टर नथमल डिडेल ने बताया कि महिला पाॅलिटेक्निक काॅलेज मेें 250 बैड का कोविड केयर सेंटर स्थापित कर दिया गया है।

उन्होंने बताया कि सेंटर पर सभी व्यवस्थाऐं सुनिष्चित कर ली गई हैं। डाॅ. गर्ग ने मेडिकल काॅलेज के प्राचार्य को निर्देष दिये कि काॅलेज में मौजूद एम्बूलेंस को आरबीएम चिकित्सालय भिजवायें ताकि इसका उपयोग रोगियों को लाने-लेजाने में किया जा सके। उन्होंने प्राचार्य को यह भी निर्देष दिये कि वे सीसीटीवी कैमरों का अवलोकन करें और बिना सूचना चिकित्सालय से जाने वाले कार्मिकों के खिलाफ कार्यवाही करें।