यूक्रेन से आये मेडीकल छात्रों का किया अभिनन्दन युद्ध की त्रासदी को भूलकर अध्ययन रखें निरन्तर जारी-मिश्रा

Medical students from Ukraine were greeted Forgetting the tragedy of war, keep studying continuously - Mishra.

भरतपुर / राजेन्द्र शर्मा जती। युद्ध त्रासदी के कारण मेडीकल की शिक्षा अधूरी छोडकर यूक्रेन से भारत लौटे छात्रों (Medical students) का सोमवार को समृद्ध भारत अभियान संस्थान द्वारा होटल कदम कंुज में हौसला अफजाई कर सम्मान किया गया।

Medical students from Ukraine were greeted Forgetting the tragedy of war, keep studying continuously - Mishra.

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि मेघालय इन्वेस्टमेंट बोर्ड के चैयरमैन एवं पूर्व आईएएस राममोहन मिश्रा उपस्थित थे। अध्यक्षता संभागीय आयुक्त पीसी बेरवाल ने की। जबकि विशिष्ठ अतिथि के रूप में खादी और ग्रामोद्योग आयोग के सदस्य बंसत कुमार उपस्थित थे।

[राजस्थान में सीएम गहलोत की बालिका शिक्षा के लिए एक और अनूठी व आकर्षक योजना]

समारोह मेें मुख्य अतिथि राममोहन मिश्रा ने कहा कि युद्ध त्रासदी के कारण जो पीडा छात्रों ने झेली है उसे भूलकर अपने भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए अपना अध्ययन निरन्तर जारी रखना होगा। उन्होंने कहा कि त्रासदी के दौरान जिन लोगों ने उनका मनोबल बढाकर साथ दिया ऐसे लोगों को जीवन में कभी नहीं भुला जा सकेगा।

प्रियंका गांधी पहुंची जयपुर, सीएम गहलोत ने किया स्वागत

उन्होंने बताया कि विपत्ति के समय मनोबल बढाने के दौरान जो सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है वह विपत्ति से बाहर आने में मददगार सबित होती है।

कार्यक्रम के अध्यक्ष संभागीय आयुक्त पीबी बेरवाल ने कहा कि युद्ध निश्चय ही मानवीय त्रासदी बनकर सामने आता है। ऐसी स्थिति में युद्ध के बाद जो भयावह स्थिति पैदा होती है उसे कभी नहंी भुला जा सकता।

उन्होंने यूक्रेन से आने वाले छात्रों ने युद्ध की भयावता व विपरीत स्थितियों को नजदीकी से देखा है लेकिन जो हौसला उन्होंने बताये रखा वह काबिले तारीफ है। उन्होंने कहा कि यूक्रेन जाने वाले अधिकांश छात्र मध्यम वर्ग से हैं जिनके परिजनों ने आर्थिक संकट को झेलकर उन्हें विदेश भेजा लेकिन छात्रों को चाहिये कि वे अपनी पढाई निरन्तर जारी रखें जिससे उनका लक्ष्य पूरा हो सके।

कार्यक्रम में विशिष्ठ अतिथि बंसत कुमार ने कहा कि छात्रों को रास्ते में अनेक कठिनाईयों का सामना करना पडा होगा जिन्हें भूलने की जरूरत है। उन्होंने सुझाव दिया कि जो व्यक्ति उनके मददगार बने उन्हें आभार व्यक्त करने के लिए पत्र लिखें अथवा फोन करें। प्रांरभ में समृद्ध भारत अभियान के संयोजक सीताराम गुप्ता ने बताया कि छात्रों का सम्मान करने से उनका मनोबल अवश्य बढेगा।

उन्होंने विश्वास दिलाया कि वे केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर यूक्रेन से आये छात्रों की अधूरी शिक्षा को भारत में पूरा कराने का सुझाव भिजवायें।

इस अवसर पर छात्र योगेश चौधरी जनूथर, अंशूमन बहनेरा एवं शुभम गौतम राजेन्द्र नगर भरतपुर में अपने विचार व्यक्त किये।