किसानों का साथ नहीं दिया तो भविष्य पड़ जायेगा खतरे मे– चांदना

Bharatpur News / राजेन्द्र शर्मा जती ।  ब्लाॅक कांग्रेस कमेटी सेवर एवं राष्ट्रीय लोकदल द्वारा बुधवार को मथुरा रोड़ स्थित श्रीराम फार्म हाउस में किसान संवाद कार्यक्रम आयोजित हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना उपस्थित थे। अध्यक्षता सेवर पंचायत समिति के पूर्व प्रधान निहाल सिंह ने की। इस कार्यक्रम में भरतपुर विधानसभा क्षेत्र के 500 से अधिक किसानों, व्यापारियों एवं कृषि मजदूरों ने भाग लिया।

किसान संवाद कार्यक्रम में बोलते हुये खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार किसानों के आन्दोलन को किसी न किसी तरह समाप्त करने पर तुली है जबकि देश का अन्नदाता  इस भीषण सर्दी में सड़क पर 3 काले कानूनों को समाप्त करने के लिए पिछले करीब एक माह से आन्दोलन कर रहे हैं। जिन्हें भाजपा सरकार आतंकवादी अथवा खालीस्तानी बता रही है। यदि इन कानूनों को वापिस नहीं लिया तो किसानों की आजीवका ही समाप्त हो जायेगी। उन्होंने बताया कि इन कानूनों में समर्थन मूल्य व मण्डीयों को समाप्त करने की व्यवस्था की गई है। जिसका सारा लाभ बड़े उद्योगपतियों को देना तय किया गया है।

चांदना ने केन्द्र की भाजपा सरकार पर आरोप लगाया कि बड़े उद्योगपतियों की राय के आधार पर ही किसानों को बर्बाद करने वाले कानून बनाये और उन्हें राज्यसभा व लोकसभा में पारित कराया। जबकि किसान इन कानूनों को समाप्त कराने के लिए आन्दोलन के साथ साथ आत्महत्या भी कर रहे है। फिर भी केन्द्र सरकार के कानों पर अभी तक जूं तक नहीं रैग रही है। उन्होंने साफ कहा कि यदि ये कानून अस्तित्व में रहे तो गरीब किसान समाप्त हो जायेगे। यहां तक कि उनकी जमीनें भी बड़े उद्योगपति अपने कब्जे में ले लेंगे।

खेल राज्य मंत्री ने कहा कि यदि हमने किसानों का साथ नहीं दिया तो हमारा व भावी पीढ़ी का भविष्य ही समाप्त हो जायेगा। उन्होंने कहा कि अन्नदाता की इस लड़ाई में हम सबको साथ देना होगा। पहले कांग्रेस पार्टी ने खुलकर इस आन्दोलन में भाग नहीं लिया लेकिन अब जब किसानों के अस्तित्व का सवाल पैदा हो गया है तब पार्टी ही नहीं अपितु हम सब का कत्र्तव्य है कि खेती का अस्तित्व बनाये रखने के लिए मिलकर विरोध करना होगा। उन्होंने हाथ उठवा कर सभी किसानों से आन्दोलन में शामिल होने का आव्हान किया।

किसान संवाद कार्यक्रम में उदयपुर के विधायक विवेक कटारा ने कहा कि किसान अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है और विपरीत मौसमी परिस्थितियों में भी आन्दोलन को जारी किये हुये है। उन्होंने इन तीनों काले कानूनों को वापिस लेने के मांग की। इस अवसर पर ब्लाॅक कांग्रेस कमेटी सेवर के पूर्व अध्यक्ष सतीष सोगरवाल, शहर अध्यक्ष संजय शुक्ला, राष्ट्रीय लोकदल के जिला अध्यक्ष संतोष फौजदार, देवेन्द्र गुर्जर, श्यामसिंह गुर्जर, राजेन्द्र सरपंच, रनधीरसिंह सरपंच, राजकुमार सरपंच, नेमसिंह सरपंच, दिनेष मुरवारा, विरेन्द्र, जीतू पहलवान, मनोज शर्मा, हुकमसिंह आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये।
कार्यक्रम में कांग्रेस के रामेष पाठक, श्रीभगवान कटारा, राधेष्याम मडरपुर, बबलू खैमरा, सुरेष मदेरणा, अमृत गडासिया, प्रताप बघेल, सौरभ सोलंकी, हेमराज, राजेन्द्र ठेकेदार, गिर्राज, मोहन सिंह, रजत आर्य, हेमेन्द्र पार्षद, डाॅ गोपाल, मनोज, आषू गर्ग, तन्मय गर्ग सहित पार्टी के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि आदि उपस्थित थे। संचालन दाऊदयाल शर्मा ने किया।